क्यार तूफान / नौसेना ने 36 मछुआरों को रेस्क्यू किया, महाराष्ट्र और कर्नाटक के तटीय इलाकों में अलर्ट



इंडियन कोस्टल गार्ड (आईसीजी) ने मछुआरों को समुद्र में न जाने की चेतावनी दी थी। इंडियन कोस्टल गार्ड (आईसीजी) ने मछुआरों को समुद्र में न जाने की चेतावनी दी थी।
X
इंडियन कोस्टल गार्ड (आईसीजी) ने मछुआरों को समुद्र में न जाने की चेतावनी दी थी।इंडियन कोस्टल गार्ड (आईसीजी) ने मछुआरों को समुद्र में न जाने की चेतावनी दी थी।

  • नौसेना के जहाज आईएनएस तेग ने समुद्र में डूबती ‘वैष्णो देवी माता’ नाव से 17 मछुआरों को बचाया
  • पूर्व-मध्य अरब सागर में उठे चक्रवाती तूफान क्यार का केंद्र मुंबई के रत्नागिरि से लगभग 200 किमी पश्चिम में
  • मौसम विभाग का अनुमान है- 31 अक्टूबर तक यह चक्रवाती तूफान ओमान तट की ओर बढ़ सकता है

Dainik Bhaskar

Oct 27, 2019, 12:01 PM IST

मुंबई. नौसेना के जहाज आईएनएस तेग ने शनिवार चक्रवाती तूफान क्यार के कारण समुद्र में फंसे 17 मछुआरों को रेस्क्यू किया। सभी मछुआरे मुंबई तट से करीब 45 किमी दूर ‘वैष्णो देवी माता’ नाव में फंसे थे। इसके अलावा नौसेना ने डोर्नियर से कई अन्य छोटी नावों से 19 मछुआरों को भी रेस्क्यू किया। मौसम विभाग के मुताबिक, पूर्व-मध्य अरब सागर पर चक्रवाती तूफान क्यार तेजी से उठ रहा है, जिसका केंद्र मुंबई के रत्नागिरि से लगभग 200 किमी पश्चिम में है।

 

तूफान के कारण‘वैष्णो देवी माता’ नाव का इंजन खराब हो गया था और रेस्क्यू के तुरंत बाद नाव डूब गई। इसके बाद किसी तरह मछुआरों ने नाव को महाराष्ट्र के ऑयल एंड नेचुरल गैस कॉर्पोरेशन (ओएनजीसी) के प्लेटफॉर्म तक पहुंचाया। तेज हवाओं के कारण सिर्फ एक ही व्यक्ति नाव से निकलने में कामयाब हो सका था। तभी वहां नजदीक से गुजर रहे आईएनएस टेग ने नाव को देखा और सभी को रेस्क्यू किया।

 

तटीय इलाकों में भारी बारिश की चेतावनी
क्यार तूफान को देखते हुए 18 अक्टूबर को इंडियन कोस्टल गार्ड्स (आईसीजी) ने मछुआरों को समुद्र में न जाने की चेतावनी दी थी। मौसम विभाग ने अगले 24 घंटे कर्नाटक और मुंबई के तटीय इलाकों में तूफान के कारण भारी बारिश का अलर्ट जारी किया। मौसम विभाग का अनुमान है कि 31 अक्टूबर तक यह चक्रवाती तूफान ओमान तट की ओर बढ़ सकता है।

 

DBApp

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना