पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • National
  • Cyclone Nisarga Mumbai Gujarat Update | Weather Forecast Cyclone Nisarga Latest Today News On Meteorological Department (IMD) Alert For Maharashtra Mumbai, Thane, Palghar And Gujarat

दो हफ्ते में दूसरा तूफान:आज महाराष्ट्र से टकराएगा निसर्ग तूफान, 100 किमी/घंटे की रफ्तार से हवा चलेगी; मुंबई और पांच जिलों में भारी बारिश का अलर्ट

मुंबई2 महीने पहले
तस्वीर मुंबई के जुहू बीच की है। यहां तूफान से निपटने के लिए लाइफ गार्ड तैनात कर दिए गए हैं। लोगों को समंदर से दूर रहने की सलाह दी गई।
  • प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने महाराष्ट्र और गुजरात के मुख्यमंत्रियों से हालात का जायजा लिया, हर मदद का भरोसा दिलाया
  • मुंबई से 94 किमी दूर अलीबाग से टकराएगा तूफान, पालघर-रायगढ़ स्थित संयंत्रों की सुरक्षा के लिए महाराष्ट्र सरकार तैयार
Advertisement
Advertisement

चक्रवाती तूफान निसर्ग धीरे-धीरे मुंबई की तरफ बढ़ रहा है। इसके असर से मुंबई समेत कई जिलों में देर रात से बारिश शुरू हो गई है। मौसम विभाग के मुताबिक साइक्लोन आज सुबह मुंबई से 94 किलोमीटर दूर अलीबाग के तट से टकराएगा। इस तूफान के रास्ते में महाराष्ट्र के रायगढ़ और पालघर में पड़ने वाले न्यूक्लियर और केमिकल संयंत्रों की सुरक्षा की तैयारियां कर ली गई हैं।

भठिंडा और विजयवाड़ा से देर रात एनडीआरएफ की पांच टीमें महाराष्ट्र के लिए रवाना की गई हैं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने महाराष्ट्र और गुजरात के मुख्यमंत्रियों से भी हालात का जायजा लिया और उन्हें हर मदद का भरोसा दिया है।

मौसम विभाग ने आज मुंबई, पालघर, ठाणे, रायगढ़, रत्नागिरी, सिंधुदुर्ग जिले में भारी से अति भारी बारिश की चेतावनी जारी की है। इसके अलावा तटीय कर्नाटक और मराठवाड़ा में भी अगले 6 घंटों के भीतर तेज बारिश की आशंका जताई गई है।

गुजरात के कई तटीय जिलों में भारी बारिश का अलर्ट

वहीं, दक्षिण गुजरात रीजन के वलसाड़, नवसारी, सूरत के अलावा दमन, दादरा और नागर हवेली में भी भारी बारिश का अलर्ट जारी किया गया है। साइक्लोन की वजह से पश्चिमी मध्यप्रदेश के ज्यादातर जिलों में सामान्य बारिश हो सकती है, जबकि कुछ स्थानों पर भारी बारिश की आशंका है। 

10 हजार लोगों को तटीय इलाकों से हटाया गया

मौसम विभाग ने अगले 12 घंटे तक मुंबई में भारी बारिश की आशंका जताई है। इस दौरान हवा की रफ्तार 100 किमी/घंटा तक पहुंच सकती है। समुद्र में 6 फीट ऊंची लहरे उठने की आशंका है। इसके चलते तटीय इलाकों से करीब 10 हजार लोगों को सुरक्षित जगहों पर पहुंचाया गया है। इनमें कोरोना पेशेंट भी शामिल हैं। 

अलीबाग से तट से टकराएगा निसर्ग
अरब सागर में उठा चक्रवात मंगलवार को ज्यादा ताकतवर होकर अलीबाग की तरफ बढ़ रहा है। अलीबाग मुंबई से 94 किलोमीटर दूर है। यह बुधवार 3 जून को अलीबाग के तट से टकराएगा। मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने कहा, “बिजली की समस्या न हो इसके लिए जरूरी उपाय किए जा रहे हैं। पालघर और रायगढ़ स्थित केमिकल और न्युक्लियर प्लांट की सुरक्षा के लिए सावधानियां बरती जा रही हैं।”

बता दें कि पालघर में देश का सबसे पुराना तारापुर एटॉमिक पॉवर प्लांट है। यहां कुछ दूसरी पॉवर यूनिट्स भी हैं। मुंबई में बार्क (भाभा एटॉमिक रिसर्च सेंटर) है। रायगढ़ में भी पॉवर, पेट्रोलियम, केमिकल्स और कुछ दूसरी अहम इंडस्ट्रीज हैं। मुंबई में जवाहरलाल नेहरू पोर्ट और नेवी के अहम रणनीतिक ठिकाने हैं। 

मुंबई से जाने वाली 5 स्पेशल ट्रेनों को रीशेड्यूल किया गया

साइक्लोन निसर्ग की वजह से सेंट्रल रेलवे ने मुंबई से आज जाने वाली पांच स्पेशल ट्रेनों को रीशेड्यूल किया है। वहीं, यहां आने वाली 3 ट्रेनें डायवर्ट की गईं हैं। इसमें एलटीटी-गोरखपुर स्पेशल सुबह 11.10 मिनट पर जाने की बजाए रात 8 बजे मुंबई से जाएगी। इसके अलावा एलटीटी-तिरुवनंतपुरम स्पेशल ट्रेन शाम को 6 बजे जाएगी। पहले यह ट्रेन सुबह 11.40 पर तिरुवनंतपुरम जाने वाली थी। 

चेतावनी जारी

भारतीय मौसम विभाग ने अरब सागर में बन रहे दबाव के क्षेत्र को लेकर चेतावनी जारी की। मौसम विभाग ने बताया कि यह तूफान अगले 12 घंटों में खतरनाक चक्रवाती तूफान में बदल सकता है। यही वजह है कि मुंबई के आसपास के जिलों को हाई अलर्ट पर रखा गया है। एनडीआरएफ की दो टीमें पालघर, तीन मुंबई, एक ठाणे, दो टीमें रायगढ़ और एक रत्नागिरी में तैनात की गई हैं।

1882 के तूफान पर विवाद
मुंबई में कभी तूफान नहीं आया। हालांकि, ये कहा जाता है कि 1882 में मुंबई (तब बॉम्बे) से एक तूफान टकराया था। इसमें एक लाख लोगों की मौत हुई थी। यह दावा एक वैज्ञानिक एडम सोबेल ने किया था। मुंबई में तूफान आने की आशंका कम होने की मुख्य वजह अरब सागर से जुड़ी है।

आमतौर पर समुद्र में हर साल एक या दो तूफान आने की परिस्थितियां बनती हैं। यह बंगाल की खाड़ी की तुलना में कम हैं। जब तूफान की स्थिति बनती है तो ये देखा गया है कि ये पश्चिम में ओमान या अदन की खाड़ी की तरफ बढ़ जाते हैं। या फिर गुजरात की तरफ चले जाते हैं। 1998 में आया तूफान गुजरात की तरफ बढ़ गया था। इसमें हजारों लोगों की मौत हुई थी। पिछले साल आया तूफान वायु भी गुजरात की तरफ ही बढ़ गया था।  

प्रधानमंत्री ने लोगों से सुरक्षित रहने की अपील की
मोदी ने कहा है कि देश के पश्चिम तटीय इलाकों में साइक्लोन की वजह से बने हालातों पर नजर रख रहे हैं। सभी की सुरक्षा के लिए प्रार्थना कर रहे हैं। लोगों से अपील है कि सुरक्षा के सभी इंतजाम रखें।

मछुआरों को समुद्र से वापस आने को कहा गया, निचले इलाके खाली कराए

  • मौसम विभाग ने बताया कि पूर्वी-मध्य अरब सागर में बन रहा दबाव 11 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से उत्तर की ओर बढ़ा और मंगलवार की सुबह साढ़े पांच बजे तक यह दबाव और तेज हुआ। अभी यह मध्य पणजी (गोवा) से 280 किमी पश्चिम-दक्षिणी पश्चिम, मुंबई (महाराष्ट्र) से 490 किमी दक्षिण-दक्षिणी पश्चिम और सूरत (गुजरात) से 710 किमी के दक्षिण-दक्षिणी पश्चिम में अरब सागर के केंद्र में है।
  • मौसम विभाग का कहना है कि इस समुद्री तूफान में दो मीटर से ज्यादा ऊंची लहरें उठ सकती हैं। ये लहरें लैंडफॉल के दौरान मुंबई, ठाणे और रायगढ़ जिले के निचले तटीय इलाकों से टकराएंगी। मछुआरों को समुद्र से वापस आने को कहा गया है। तटीय इलाकों में रहने वालों को सुरक्षित स्थानों पर भेजा जा रहा है।

महाराष्ट्र के 6 जिले प्रभावित हो सकते हैं 

  1. मौसम विभाग के महानिदेशक मृत्युंजय महापात्र ने बताया कि है कि बुधवार को गंभीर चक्रवाती तूफान की रफ्तार 90-105 किमी प्रति घंटे होगी। इसके एक भीषण चक्रवाती तूफान के रूप में रायगढ़ जिले के हरिहरेश्वर शहर और दमन के बीच उत्तर महाराष्ट्र और दक्षिण गुजरात के तटों को पार करने का अनुमान है।
  2. अनुमान के मुताबिक, महाराष्ट्र के सिंधुदुर्ग, रत्नागिरी, ठाणे, रायगढ़ , मुंबई और पालघर जिले ज्यादा प्रभावित हो सकते हैं।
  3. मुख्यमंत्री कार्यालय ने बताया कि गृहमंत्री अमित शाह ने मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग पर बात की है और राज्य की तैयारियों का जायजा लिया है।
Advertisement
0

आज का राशिफल

मेष
मेष|Aries

पॉजिटिव - अपने जनसंपर्क को और अधिक मजबूत करें। इनके द्वारा आपको चमत्कारिक रूप से भावी लक्ष्य की प्राप्ति होगी। और आपके आत्म सम्मान व आत्मविश्वास में भी वृद्धि होगी। नेगेटिव- ध्यान रखें कि किसी की बात...

और पढ़ें

Advertisement