साइक्लोन गुलाब:उत्तरी आंध्र और दक्षिणी ओडिशा में भारी बारिश; श्रीकाकुलम में नाव डूबने से 2 मछुआरों की मौत, एक लापता

नई दिल्लीएक महीने पहले

चक्रवाती तूफान गुलाब आंध्र प्रदेश और ओडिशा के तटों से शाम करीब 7 बजे टकराया। इसके साथ ही आंध्र के श्रीकाकुलम में तेज हवाओं के साथ बारिश शुरू हो गई है। यहां तट के किनारे एक नाव तूफान से टकरा गई। इसमें 6 मछुआरे सवार थे। ये सभी नाव से तेज लहर के टकराने से समुद्र में गिर गए। इनमें से दो की मौत हो गई। तीन सुरक्षित तट पर पहुंच गए और एक मछुआरा अब भी लापता है। उसकी तलाश में नौसेना बचाव अभियान चला रही है। यह हादसा मंडासा तट पर हुआ।

चक्रवात ने उत्तरी आंध्र प्रदेश और दक्षिणी ओडिशा तट को पार कर लिया है। इसके कारण आंध्र के उत्तरी और ओडिशा के दक्षिणी हिस्से में भारी बारिश हो रही है।

इससे पहले मौसम विभाग ने आंध्र प्रदेश के उत्तरी इलाकों और ओडिशा के दक्षिणी इलाकों में ऑरेंज अलर्ट जारी किया था। ओडिशा में NDRF के 24, ओडिशा डिसास्टर रैपिड एक्शन फोर्स के 42 दल तैनात किए गए और 1600 लोगों को सुरक्षित स्थान पर पहुंचाया गया।

बंगाल के दीघा में यलो अलर्ट जारी
चक्रवात तूफान गुलाब की आशंका को देखते हुए पिछली बार की यस तूफान के समय की तबाही से सबक लेकर बंगाल के पूर्व मेदिनीपुर जिले के विख्यात टूरिस्ट केंद्र दीघा में प्रशासन के तरफ से यलो अलर्ट जारी कर दिया गया है। होटलों को खाली किए जाने के अलावा त्रिफला लाइट के बिजली के कनेक्शन को ऑफ कर दिया गया है। बंगाल के झाड़ग्राम जिले में तूफान से पहले भारी बारिश का कहर शुरू हो चुका है।

6 राज्यों में भारी बारिश की संभावना
रविवार की शाम यह तूफान उत्तरी आंध्र प्रदेश (विशाखापट्‌टनम) व दक्षिणी ओडिशा (गोपालपुर) के बीच कलिंगपट्‌टनम के पास तट से टकराएगा। इस दौरान हवाओं की गति 75 किमी प्रति घंटे ये लेकर 85 किमी प्रति घंटे के बीच होगी। तूफान में तेजी आने पर हवाएं 95 किमी प्रति घंटे की रफ्तार पकड़ सकती हैं। यह तूफान लगातार पश्चिमी दिशा में बढ़ते हुए दक्षिणी छत्तीसगढ़, महाराष्ट्र, गोवा और गुजरात तक जाएगा। इस दौरान रविवार से मंगलवार सुबह तक इन सभी इलाकों में भारी से बहुत भारी बारिश की संभावना है।

पाकिस्तान ने तूफान को दिया नाम
मौसम विभाग के मुताबिक, इस तूफान को गुलाब नाम पाकिस्तान ने दिया है। इसे बोलने का सही तरीका गुल-आब बताया है। यह नाम उस सूची में से लिया गया है जो विश्व मौसम संस्थान/एशिया-पैसिफिक के लिए संयुक्त राष्ट्र के आर्थिक व सामाजिक कमीशन और चक्रवाती तूफानों पर बने पैनल ने बनाई है। इस पैनल में भारत, बांग्लादेश, म्यांमार, पाकिस्तान, श्रीलंका समेत 13 देश हैं जो इस क्षेत्र में आने वाले तूफानों के नाम चुनते हैं।