तितली चक्रवात / आंध्र में 8 की मौत, ओडिशा में 3 लाख लोगों को सुरक्षित जगह पहुंचाया गया

Dainik Bhaskar

Oct 11, 2018, 06:06 PM IST


Cyclone Storm 'Titli' to hit NC AP on Oct 11, alert in odhisha
चक्रवात ओडिशा तट से 280 किलोमीटर दूर बंगाल की खाड़ी में उठा। चक्रवात ओडिशा तट से 280 किलोमीटर दूर बंगाल की खाड़ी में उठा।
रेत से कलाकृतियां बनाने के लिए मशहूर सुदर्शन पटनायक ने तूफान से पहले लोगों से न डरने की अपील की। रेत से कलाकृतियां बनाने के लिए मशहूर सुदर्शन पटनायक ने तूफान से पहले लोगों से न डरने की अपील की।
तूफान की चेतावनी के बाद ही सरकार ने राहत कैम्पों में लोगों की सुरक्षा के पर्याप्त इंतजाम कर लिए थे। तूफान की चेतावनी के बाद ही सरकार ने राहत कैम्पों में लोगों की सुरक्षा के पर्याप्त इंतजाम कर लिए थे।
पेड़ गिरने से कई सड़कों पर वाहनों की आवाजाही पर असर पड़ा है। पेड़ गिरने से कई सड़कों पर वाहनों की आवाजाही पर असर पड़ा है।
बुधवार देर रात तक करीब तीन लाख लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया गया। बुधवार देर रात तक करीब तीन लाख लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया गया।
तेज हवाओं की वजह से उड़ीसा के तटवर्ती इलाकों में कई झोपड़ियां और कच्चे मकान उजड़ गए। तेज हवाओं की वजह से उड़ीसा के तटवर्ती इलाकों में कई झोपड़ियां और कच्चे मकान उजड़ गए।
X
Cyclone Storm 'Titli' to hit NC AP on Oct 11, alert in odhisha
चक्रवात ओडिशा तट से 280 किलोमीटर दूर बंगाल की खाड़ी में उठा।चक्रवात ओडिशा तट से 280 किलोमीटर दूर बंगाल की खाड़ी में उठा।
रेत से कलाकृतियां बनाने के लिए मशहूर सुदर्शन पटनायक ने तूफान से पहले लोगों से न डरने की अपील की।रेत से कलाकृतियां बनाने के लिए मशहूर सुदर्शन पटनायक ने तूफान से पहले लोगों से न डरने की अपील की।
तूफान की चेतावनी के बाद ही सरकार ने राहत कैम्पों में लोगों की सुरक्षा के पर्याप्त इंतजाम कर लिए थे।तूफान की चेतावनी के बाद ही सरकार ने राहत कैम्पों में लोगों की सुरक्षा के पर्याप्त इंतजाम कर लिए थे।
पेड़ गिरने से कई सड़कों पर वाहनों की आवाजाही पर असर पड़ा है।पेड़ गिरने से कई सड़कों पर वाहनों की आवाजाही पर असर पड़ा है।
बुधवार देर रात तक करीब तीन लाख लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया गया।बुधवार देर रात तक करीब तीन लाख लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया गया।
तेज हवाओं की वजह से उड़ीसा के तटवर्ती इलाकों में कई झोपड़ियां और कच्चे मकान उजड़ गए।तेज हवाओं की वजह से उड़ीसा के तटवर्ती इलाकों में कई झोपड़ियां और कच्चे मकान उजड़ गए।

  • ओडिशा के 8 और आंध्र प्रदेश के 2 जिलों में तितली का ज्यादा असर
  • तितली बंगाल की खाड़ी से उठने वाला इस साल का दूसरा चक्रवाती तूफान 

विशाखापट्टनम. बंगाल की खाड़ी में उठा चक्रवाती तूफान आज सुबह करीब पांच बजे ओडिशा में गंजाम जिले के गोपालपुर के तट से टकराकर आगे बढ़ गया। पूर्वी तटों के करीब रहने वाले 3 लाख लोगों को सुरक्षित स्थानों तक पहुंचाया गया। आंध्र के श्रीकाकुलम और विजयनगरम में तूफान के चलते 8 लोगों की मौत हो गई। 

 

 

ओडिशा के ज्यादातर इलाकों में भारी बारिश हुई। संचार व्यवस्था, सड़कों और घरों को नुकसान पहुंचा है। गंगाम, खुर्दा, पुरी, जगतसिंहपुर, गजपति केंद्रापाड़ा, भद्रक और बालासोर में तूफान का सबसे ज्यादा असर देखा गया। यहां मूसलाधार बारिश हुई। यहां अगले कुछ घंटों में 165 किलोमीटर/घंटे की रफ्तार से हवाएं चलने का अनुमान है। उधर, आंध्र के श्रीकाकुलम और विजयनगर में तूफान का ज्यादा असर देखा गया। यहां पेड़ उखड़ गए और कई जगहों पर सड़कें बाधित हो गईं। जानमाल का नुकसान हुआ। प्रभावित इलाकों में तुरंत मदद के लिए एनडीआरएफ और एसडीआरएफ की टीमें तैनात हैं।

 

 

तितली को अति गंभीर चक्रवाती तूफान की श्रेणी में रखा गया। भारी बारिश के चेतावनी के बाद ओडिशा सरकार ने पांच तटीय जिलों के निचले इलाके पहले ही खाली करा लिए।

 

 

श्रीकाकुलम में तूफान से आई तेज बारिश

 

 

 

यह तूफान 280 किलोमीटर दूर बंगाल की खाड़ी में उठा था। इसके असर से 12 अक्टूबर तक पूरे ओडिशा में भारी बारिश की आशंका जताई गई। 

 

Fishermen

 

ओडिशा के तूफान प्रभावित जिलों से गुजरने वाली ट्रेनें या तो रद्द कर दी गई हैं या फिर उनका रूट बदल दिया गया है।

 

Train Cancel

 

COMMENT