• Hindi News
  • National
  • Cyclonic Storm Vayu impact on South West & Mumbai Monsoon; Know About Monsoon 2019 Current Status Updates

वायु का असर / मानसून की गति धीमी पड़ी, मुंबई पहुंचने में 7 दिन और लग सकते हैं



प्रतीकात्मक फोटो। प्रतीकात्मक फोटो।
X
प्रतीकात्मक फोटो।प्रतीकात्मक फोटो।

  • पिछले 24 घंटे के अंदर मुंबई के सांता क्रूज में 0.3 मिमी. और कोलाबा में 6.0 मिमी प्री-मानसून बारिश दर्ज
  • इस बार केरल में मानसून एक हफ्ते देरी के बाद 8 जून को टकराया था

Dainik Bhaskar

Jun 14, 2019, 01:50 PM IST

मुंबई. वायु चक्रवात ओमान की ओर मुड़ चुका है, लेकिन इसके कारण दक्षिण-पश्चिम मानसून की गति पर असर पड़ा है। मौसम विभाग का कहना है कि मानसून को मुंबई पहुंचने में एक हफ्ता और लग सकता है। हालांकि, पिछले 24 घंटे से मुंबई में प्री-मानसून बारिश हो रही है। यह बारिश शनिवार को भी जारी रह सकती है। इस बार केरल में मानसून एक हफ्ते देरी के बाद 8 जून को पहुंचा था। मुंबई में 10 जून तक पहुंचने वाला मानसून पहले ही एक हफ्ता लेट है। अब यह 24-25 जून तक मुंबई पहुंचेगा। 

 

मौसम विभाग के मुताबिक, गुरुवार को मुंबई के सांता क्रूज इलाके में रिकॉर्ड 0.3 मिमी. प्री-मानसून बारिश दर्ज की गई। जबकि कोलाबा में 6.0 मिमी. बारिश हुई। इससे शहर के तापमान में कमी आई। मानसून के आने तक इस तरह की रिमझिम बारिश होती रहेगी। स्काईमेट के मुताबिक, दक्षिणी-दक्षिणपश्चिमी क्षेत्रों में अगले 24 घंटों में 40 से 50 किमी प्रति घंटा की रफ्तार से हवाएं चल सकती हैं। इस दौरान मछुआरों को समुद्र में नहीं जाने के लिए कहा गया है।

 

वायु का असर, अब तक 174 ट्रेनें और 400 उड़ानें रद्द
मुंबई में उच्च ज्वार का अलर्ट है। बताया जा रहा है कि 20 फीट ऊंची लहरें उठ सकती हैं। 400 उड़ानें रद्द कर दी गई हैं, मुंबई एयरपोर्ट से करीब 900 उड़ानें ऑपरेट होती हैं। शुक्रवार को पश्चिम रेलवे ने 46 ट्रेनों को रद्द कर दिया। चक्रवात के कारण अब तक 174 ट्रेनें रद्द हो चुकी हैं। मौसम विभाग के निदेशक जयंत सरकार ने कहा कि अब चक्रवात पोरबंदर के समुद्री इलाके से गुजर गया, लेकिन उसका असर आगामी 15 जून तक गुजरात पर होगा। गुजरात में अगले 24 घंटे हाईअलर्ट रहेगा।

 

प्री-मानसून सीजन में भी बारिश कम हुई
स्काई मेट के वैज्ञानिक समर चौधरी ने बताया कि इस बार अल नीनो और ग्लोबल वॉर्मिंग के चलते मानसून के कमजोर रहने के आसार हैं। 65 वर्षों में यह दूसरा मौका है, जब प्री-मानसून करीब-करीब सूखा गुजरा। इस दौरान सामान्य तौर पर 131.5 मिलीमीटर बारिश दर्ज की जाती है। इस साल 99 मिमी. बारिश हुई। पूर्वी दिशा की ओर बहने वाली हवाओं में नमी है, जिसने उत्तरी भारत में पारे पर थोड़ा नियंत्रण रखा।

 

पिछले साल तीन दिन पहले पहुंच गया था मानसून
मानसून 2014 में 5 जून को, 2015 में 6 जून को और 2016 में 8 जून को आया था। 2018 में मानसून ने केरल में तीन दिन पहले 29 मई को ही दस्तक दे दी थी। पिछले साल सामान्य बारिश हुई थी।

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना