पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • National
  • Farmers Protest (Kisan Andolan) | Delhi Police Files FIR Against Sweden Climate Change Activist Greta Thunberg, Climate Change Activist Greta Thunberg, Delhi Police Cyber Cell, Climate Activist Disha Ravi

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

ग्रेटा थनबर्ग टूलकिट केस:पुलिस का दावा-बेंगलुरु की एक्टिविस्ट दिशा रवि ने ही टूलकिट की ड्राफ्टिंग की, गूगल डॉक बनाकर उसे सर्कुलेट किया

नई दिल्ली3 महीने पहले

किसान आंदोलन पर ग्रेटा थनबर्ग के अकाउंट से शेयर टूलकिट केस में गिरफ्तार हुई एक्टिविस्ट दिशा रवि से पुलिस को अहम जानकारी मिली है। दिल्ली पुलिस के मुताबिक, दिशा ने ही टूलकिट का गूगल डॉक बनाकर उसे सर्कुलेट किया। इसके लिए उसने वॉट्सऐप ग्रुप बनाया था। वह इस टूलकिट की ड्राफ्टिंग में भी शामिल थी।

दिल्ली पुलिस की साइबर सेल ने शनिवार को 21 साल की क्लाइमेट एक्टिविस्ट दिशा रवि को बेंगलुरु से गिरफ्तार किया था। दिशा फ्राइडे फॉर फ्यूचर कैम्पेन की संस्थापकों में से एक है। दिल्ली की कोर्ट ने उसे 5 दिन के लिए स्पेशल सेल की कस्टडी में भेजा है। पुलिस उसे रविवार शाम साढ़े 4 बजे साइबर सेल के द्वारका ऑफिस लाई। यहीं उससे आगे पूछताछ की जाएगी। उधर, किसान आंदोलन का नेतृत्व कर रहे संयुक्त किसान मोर्चा ने दिशा रवि की गिरफ्तारी का विरोध करते हुए उनकी जल्द रिहाई की मांग की है।

दिशा ने ही ग्रेटा को टूलकिट भेजी थी
पुलिस ने बताया कि दिशा ने कबूल किया कि उसने टूलकिट में कई जानकारियां जोड़ीं और उसे एडिट कर सोशल मीडिया पर वायरल किया। उसने ही टूलकिट एडिट कर इसे ग्रेटा थनबर्ग के साथ शेयर किया था। जब उसका यह षडयंत्र सार्वजनिक हो गया, तो उसने ग्रेटा से मेन डॉक्यूमेंट रिमूव करने को कहा। इधर, दिशा रवि के खालिस्तान समर्थक पॉइटिक जस्टिस फाउंडेशन के साथ देश विरोधी प्रचार में शामिल होने की जानकारी भी मिली है।

पूछताछ में झूठा निकला दिशा का दावा
दिशा ने पहले दावा किया था कि उसने टूलकिट की केवल 2 लाइनें एडिट की थीं, लेकिन पुलिस ने अपनी पड़ताल में पाया कि उसने टूलकिट में बड़े पैमाने पर बदलाव किए थे। सूत्रों के मुताबिक, मामले में और भी गिरफ्तारियां हो सकती हैं।

दरअसल, ये टूलकिट तब चर्चा में आई थी, जब स्वीडन की क्लाइमेट एक्टिविस्ट ग्रेटा थनबर्ग ने इसे अपने सोशल मीडिया अकाउंट पर शेयर किया था। उन्होंने टूल किट शेयर करने के साथ ही किसान आंदोलन का भी समर्थन किया था। 4 फरवरी को दिल्ली पुलिस ने टूलकिट को लेकर अज्ञात लोगों के खिलाफ केस दर्ज किया था।

कौन है दिशा रवि?
दिशा नार्थ बेंगलुरु के सोलादेवना हल्ली इलाके की रहने वाली है। 21 साल की दिशा के पिता मैसूरु में रहते हैं और पेशे से एथलेटिक्स कोच हैं। दिशा की मां हाउस वाइफ हैं। स्पेशल सेल के सूत्रों के मुताबिक, सोशल मीडिया पर वह ग्रेटा के टूलकिट कैम्पेन का हिस्सा थीं।

ग्रेटा थनबर्ग ने 3 फरवरी की देर रात सोशल मीडिया पर टूलकिट नाम का एक डॉक्यूमेंट शेयर किया। इसी पर दिल्ली पुलिस ने केस दर्ज किया था। इसके अगले दिन ग्रेटा ने फिर ट्वीट कर कहा कि मैं अब भी किसानों के साथ खड़ी हूं।
ग्रेटा थनबर्ग ने 3 फरवरी की देर रात सोशल मीडिया पर टूलकिट नाम का एक डॉक्यूमेंट शेयर किया। इसी पर दिल्ली पुलिस ने केस दर्ज किया था। इसके अगले दिन ग्रेटा ने फिर ट्वीट कर कहा कि मैं अब भी किसानों के साथ खड़ी हूं।

ट्विटर ने डिलीट किए थे ग्रेटा के ट्वीट्स
ग्रेटा ने 3 फरवरी को ट्वीट कर किसान आंदोलन का समर्थन किया था। उन्होंने इसमें एक टूलकिट शेयर की थी। इसमें 26 जनवरी को दिल्ली में हुए प्रदर्शन के बारे में जानकारी शेयर की गई थी। इसके बाद ट्विटर ने इस डॉक्युमेंट को प्रतिबंधित कर ग्रेटा के ट्वीट डिलीट कर दिए थे।

इसके बाद खबरें आईं कि दिल्ली पुलिस ने ग्रेटा के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया है। हालांकि, बाद में पुलिस ने इस बारे में स्थिति स्पष्ट की और बताया कि FIR में किसी का नाम नहीं लिखा गया है। ये केस केवल टूल किट बनाने वालों के खिलाफ दर्ज किया गया है और ये अभी जांच का विषय है।

टूलकिट क्या है?
टूलकिट एक डॉक्यूमेंट है। इसमें बताया गया है कि आंदोलन के दौरान सोशल मीडिया पर समर्थन कैसे जुटाया जाए, किस तरह के हैशटैग का इस्तेमाल किए जाएं, प्रदर्शन के दौरान अगर कोई दिक्कत आए तो कहां कॉन्टैक्ट करें? इस दौरान क्या करें और क्या करने से बचें?

खबरें और भी हैं...

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आध्यात्मिक गतिविधियों में समय व्यतीत होगा। जिससे आपकी विचार शैली में नयापन आएगा। दूसरों की मदद करने से आत्मिक खुशी महसूस होगी। तथा व्यक्तिगत कार्य भी शांतिपूर्ण तरीके से सुलझते जाएंगे। नेगेट...

और पढ़ें