• Hindi News
  • National
  • Despite conflict Kashmiris economically better off than most Indians says Study
विज्ञापन

रिपोर्ट / कश्मीरी लोग देश में सबसे समृद्ध, बाकी राज्यों से ज्यादा खर्च करते हैं

Dainik Bhaskar

Apr 17, 2019, 10:12 AM IST


सिंबॉलिक इमेज। सिंबॉलिक इमेज।
X
सिंबॉलिक इमेज।सिंबॉलिक इमेज।
  • comment

  • एंटरटेनमेंट पर देश के औसत से ज्यादा खर्च करते हैं कश्मीरी
  • 1993-94 के बीच कश्मीरी घर का औसत खर्च, देश के औसत खर्च से थोड़ा कम रहा

नई दिल्ली. कश्मीर सिर्फ कुदरत से अमीर नहीं है, वह देश के सबसे अमीर घरों वाला राज्य भी है। यहां के परिवार बाकी देश के परिवारों से औसतन ज्यादा समृद्ध हैं और ज्यादा खर्च भी करते हैं। कश्मीर तीन दशकों से आतंकवाद झेल रहा है। वहां किसी भी फैक्ट्री या सरकारी प्रोजेक्ट को पहुंचने और पूरा होने में बाकी देश से 5 साल ज्यादा लगते हैं। नौकरियां कम हैं, कर्फ्यू या अलगाववादियों की हड़ताल के चलते आधे दिन कारोबार बंद रहता है। बावजूद इसके लोग यहां ज्यादा खर्च करते हैं। ऑब्जर्वर रिसर्च फाउंडेशन की रिपोर्ट में यह बात सामने आई है।

घरेलू उपभोक्ता खर्च पर हुए सर्वे के डेटा का एनालिसिस

  1. नेशनल सैम्पल सर्वे ऑफिस एनएसएसओ के घरेलू उपभोक्ता खर्च को लेकर हुए सर्वे के डेटा पर आधारित इस रिसर्च में खर्च और समृद्धि को लेकर राज्य और देश के स्तर पर एनालिसिस किया गया है। ये डेटा इसलिए भी अहम है, क्योंकि इन्हीं के जरिए सरकारी संस्थान अपनी नीतियां तैयार करती हैं।

  2. 1993-94, 1999-2000, 2004-05 और 2011-12 के डेटा को इस सर्वे में शामिल किया गया है। इसमें वह दौर भी शामिल है, जब कश्मीर में आतंकवाद चरम पर था। पिछले तीन दशकों में किसी कश्मीरी घर का खर्च देश के किसी भी घर के खर्च से ज्यादा रहा है।

  3. 2005-2011 के बीच का समय कश्मीर में तुलनात्मक रूप से शांतिपूर्ण रहा है। इस दौरान जो पैसा कश्मीरी घरों ने खर्च किया और जो औसतन देश ने खर्च किया उसका अतंर काफी कम है।

  4. 1993-94 के बीच कश्मीरी घर का औसतन खर्च, देश के औसतन खर्च से थोड़ा कम रहा। लेकिन उसके बाद से कश्मीरी घरों का खर्च देश की तुलना में हमेशा ज्यादा ही रहा है।

  5. कश्मीर के शहरी इलाकों में यह खर्च लगातार बढ़ा है। हालांकि 2011-12 के बीच ये देश के औसत से नीचे गया है। कश्मीर के ग्रामीण घरों का महीने का खर्च देश के शहरी और कश्मीर के शहरी इलाकों से कम है। लेकिन देश के ग्रामीण घरों के खर्च से काफी ज्यादा है।

  6. कश्मीर में हर महीने का खर्च (रुपए प्रति व्यक्ति)

    वर्ष कश्मीर में खर्च देशभर में खर्च
    1993-94 313 325
    1999-2000 735 579
    2004-05 836 648
    2011-12 1634 1599

  7. आतंकवाद के दिनों में फिक्स्ड लाइन टेलीफोन पर खर्च काफी कम था। जो सिक्योरिटी प्रोसीजर कम होने के बाद थोड़ा बढ़ा लेकिन बाकी देश के मुकाबले कम ही रहा। 1993-94 के मुकाबले 2011-12 में मनोरंजन के सामान पर खर्च कश्मीर घाटी के घरों में बाकी देश के औसत घरों से ज्यादा रहा है। इनमें रेडियो, टेलीविजन, कैमरा, म्यूजिकल इंस्ट्रूमेंट्स शामिल हैं।

COMMENT
Astrology

Recommended

Click to listen..
विज्ञापन

किस पार्टी को मिलेंगी कितनी सीटें? अंदाज़ा लगाएँ और इनाम जीतें

  • पार्टी
  • 2019
  • 2014
336
60
147
  • Total
  • 0/543
  • 543
कॉन्टेस्ट में पार्टिसिपेट करने के लिए अपनी डिटेल्स भरें

पार्टिसिपेट करने के लिए धन्यवाद

Total count should be

543
विज्ञापन