दिल्ली के म्यूजियम में रखा कोहिनूर से दोगुने आकार का हीरा, कीमत 218 करोड़ रुपए

4 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
  • हैदराबाद के निजाम के आभूषणों की प्रदर्शनी शुरू
  • एक बार में 50 दर्शकों को ही देखने की मंजूरी

नई दिल्ली. दुनिया के बड़े हीरों में से एक हैदराबाद के निजाम का जैकब हीरा दिल्ली के नेशनल म्यूजियम में देखा जा सकेगा। यह हीरा कोहिनूर से दोगुने आकार का है। अंतर्राष्ट्रीय बाजार में इस हीरे की कीमत 218 करोड़ रुपए से ज्यादा बताई गई है।

नेशनल म्यूजियम में हैदराबाद के निजामों के आभूषणों की प्रदर्शनी लगाई गई है। मंगलवार से शुरू हुई यह प्रदर्शनी 5 मई तक चलेगी। जैकब हीरे के अलावा, इस प्रदर्शनी में 173 दुर्लभ आभूषण दिखाए जाएंगे। इनमें कफलिंक, सारपेच, हार, बपेल्ट, बकल, कानों के झुमके, कंगन, पॉकेट घड़ियां और अंगूठियां दिखाई जाएंगी, जो 18 से 20वीं सदी की हैं।

 

एक बार में सिर्फ 50 दर्शकों को एंट्री : अधिकारियों का कहना है कि एक बार में सिर्फ 50 दर्शकों को एंट्री मिलेगी और आभूषण देखने के लिए सिर्फ 30 मिनटों का समय दिया जाएगा। इस कलेक्शन के लिए अलग से 50 रुपए का टिकट लगेगा। निजाम का कलेक्शन विश्व में सबसे महंगे और बड़े कलेक्शन्स में से एक है।

 

आभूषणों को सुरक्षित रखने के लिए बनाए थे ट्रस्ट: इससे पहले यह कलेक्शन दो ट्रस्टों के पास थी, जिन्हें निजाम उस्मान अली खान ने तैयार करवाया था। पुश्तैनी आभूषणों को सुरक्षित रखने के लिए खान ने 1951-52 में ट्रस्ट बनाए थे। ट्रस्टीज ने खजाने को हॉन्गकॉन्ग बैंक की तिजोरियों में रखा था। एक लंबी कानूनी लड़ाई के बाद भारत ने इसे खरीदा और मुंबई में आरबीआई की तिजोरी में शिफ्ट किया। 29 जून 2001 तक यह खजाना आरबीआई के पास मुंबई में रहा, लेकिन बाद में दिल्ली शिफ्ट कर दिया गया।