लोकसभा चुनाव के लिए कांग्रेस और डीएमके का गठबंधन, सीटों की संख्या तय

4 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
  • अन्नाद्रुमक और भाजपा में पहले ही हो चुका है समझौता
  • डीएमके पिछले चुनाव में एक भी सीट नहीं जीत पाई थी 

चेन्नई. तमिलनाडु और पुड्डुचेरी की 40 सीटों पर कांग्रेस-द्रमुक (डीएमके) मिलकर लोकसभा चुनाव लड़ेंगी। दोनों पार्टियों के बीच बुधवार को गठबंधन पर सहमति बनी। इसके तहत द्रमुक तमिलनाडु में 30 सीटों पर अपने उम्मीदवार उतारेगी। कांग्रेस को तमिलनाडु की 9 और पुड्डुचेरी की इकलौती सीट मिली है। मंगलवार को गठबंधन को लेकर द्रमुक नेता कनिमोझी और तमिलनाडु कांग्रेस अध्यक्ष केएस अलागिरी दिल्ली में राहुल गांधी से मिले थे।

 

द्रमुक ने तमिलनाडु की सभी 39 सीटों पर यूपीए से अलग होकर पिछला लोकसभा चुनाव लड़ा था। इसमें कांग्रेस और द्रमुक कोई सीट नहीं जीत पाई थीं। इस चुनाव में करुणानिधि ने डेमोक्रेटिक प्रोग्रेसिव अलाइंस बनाकर लोकल पार्टियों को एकजुट किया था। इनमें वीसीके, एमएमके, आईयूएमएल और पुथिया तामीझागम शामिल थीं।

 

एक दिन पहले अन्नाद्रमुक एनडीए में शामिल हुई 
भाजपा शासित एनडीए और अन्नाद्रमुक के नेताओं को बीच मंगलवार को बैठक हुई थी। इसमें अन्नाद्रमुक एनडीए में शामिल हो गई। अब तमिलनाडु में भाजपा, अन्नाद्रमुक और पीएमके मिलकर लोकसभा चुनाव लड़ेंगी। भाजपा तमिलनाडु की 5 और अन्नाद्रमुक 27 सीटों पर लोकसभा चुनाव लड़ेगी। 7 सीटें पीएमके को दी गईं।

 

भाजपा के सामने विधानसभा उपचुनाव में समर्थन की शर्त
भाजपा-अन्नाद्रमुक के गठबंधन से पहले मंगलवार को ही अन्नाद्रमुक और पीएमके में भी सहमति बनी। पिछले लोकसभा चुनाव में अन्नाद्रमुक ने 39 में से 37 सीटें जीती थीं। गठबंधन की शर्तों के मुताबिक, भाजपा को राज्य की 21 विधानसभा सीटों पर होने वाले उपचुनाव में अन्नाद्रमुक को अपना समर्थन देना होगा।

 

लोकसभा चुनाव 2014 में सीटों की स्थिति

 

पार्टीसीटेंवोट शेयर
अन्नाद्रमुक3744.3
भाजपा1

5.5

द्रमुक026.8
कांग्रेस04.3
पीएमके14.5

 

* 2014 लोकसभा चुनाव में भाजपा और पीएमके ने साथ मिलकर लोकसभा चुनाव लड़ा था।