अवैध एंट्री मामले में मेहुल चोकसी को राहत:डोमिनिका ने किया बरी, 2021 में एंटीगुआ से हुआ था गायब

एक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

भारत से हजारों करोड़ों का बैंक घोटाला करके फरार हुए हीरा व्यापारी मेहुल चोकसी को डोमिनिका में राहत मिल गई है। उसके खिलाफ यहां चल रहे अवैध एंट्री के केस को बंद कर दिया गया है। पिछले साल 23 मई को वह एंटीगुआ से गायब होकर अचानक डोमिनिका में पाया गया था।

तभी डोमिनिका पुलिस ने उस पर अवैध तरीके से देश में एंट्री लेने का आरोप लगाकर उसके खिलाफ कार्रवाई शुरू कर दी। मेहुल चोकसी ने डोमिनिका पुलिस की कार्रवाई को गलत बताते हुए कहा था कि उसका अपहरण कर डोमिनिका लाया गया था। अब डोमिनिका के लोकल एडमिनिस्ट्रेशन ने उसके खिलाफ चल रही कार्रवाई को वापस ले लिया है।

चोकसी के पास है एंटीगुआ की नागरिकता
जनवरी 2018 में भारत से फरार होकर मेहुल चोकसी एंटीगुआ पहुंचा, जहां की उसने नागरिकता ली। मई 2021 में चौकसी को डोमिनिका में पकड़ा गया था। उस समय उसके प्रत्यारोपण को लेकर चर्चा हुई थी कि उसे भारत को सौंप दिया जाए, लेकिन डोमिनिका की सरकार ने ऐसा नहीं किया।

सरकार ने कहा कि उसके पास एंटीगुआ की ही नागरिकता है इसलिए उसे वहीं भेजा जाएगा, लेकिन गैरकानूनी तरीके से डोमिनिका में घुसने को लेकर मामला दर्ज कर लिया गया था। इसके बाद जुलाई में खराब तबीयत का कारण बताकर वह डोमिनिका हाईकोर्ट से जमानत लेकर एंटीगुआ चला गया। हालांकि, डोमिनिका में उसके खिलाफ केस चलता रहा।

डोमिनिका सरकार ने भेजा था रेड कॉर्नर नोटिस
सरकार ने कहा थी कि मिनिस्ट्री ऑफ नेशनल सिक्योरिटी एंड होम अफेयर्स इस बात की पुष्टि करता है कि भारतीय नागरिक और भारत के लिए वॉन्टेड मेहुल चोकसी को डोमिनिका में गैरकानूनी तरीके से आने के लिए हिरासत में लिया गया है। बयान में ये भी कहा गया था कि मेहुल चोकसी के खिलाफ इंटरपोल की तरफ से रेड कॉर्नर नोटिस भी जारी किया गया है।

भारत में किया था घोटाला
जनवरी 2018 में नीरव मोदी और मेहुल चोकसी पंजाब नेशनल बैंक में करीब 13 हजार 500 करोड़ रुपए का घोटाला कर भारत छोड़ कर भाग गए थे। इस मामले में 30 जनवरी को CBI ने FIR दर्ज की थी। तब से ही दोनों आरोपियों के प्रत्यर्पण की कोशिश की जा रही है।