• Hindi News
  • National
  • Dynasty politics rejected but Congress still wants Sonia, Rahul to lead says Shivraj Singh 

बयान / शिवराज का कांग्रेस पर तंज- जो पार्टी लोकतांत्रिक तरीके से अध्यक्ष नहीं चुन पाई, उसे कोई नहीं बचा सकता



शिवराज सिंह चौहान। -फाइल शिवराज सिंह चौहान। -फाइल
X
शिवराज सिंह चौहान। -फाइलशिवराज सिंह चौहान। -फाइल

  • मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री ने राहुल गांधी को 'रणछोड़' कहा, बोले- हार के बाद जिम्मेदारी से भागे
  • शिवराज सिंह ने कहा- कांग्रेस अच्छे नेताओं की कमी से जूझ रही, लेकिन वहां सिर्फ वंशवाद हावी है
  • कांग्रेस ने शनिवार को दिनभर सीडब्ल्यूसी की बैठक में माथापच्ची की, अंत में सोनिया को कमान सौंपी

Dainik Bhaskar

Aug 11, 2019, 05:28 PM IST

भुवनेश्वर. भाजपा उपाध्यक्ष और मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने सोनिया गांधी को कांग्रेस का अंतरिम अध्यक्ष बनाए जाने पर तंज कसा। उन्होंने रविवार को कहा कि कांग्रेस की वंशवादी राजनीति को पिछले लोकसभा चुनाव में जनता ने पूरी तरह से नकार दिया था। फिर भी पार्टी ने इससे कोई सीख नहीं ली और उनके नेता अब भी राहुल-सोनिया गांधी को ही चाहते हैं।

 

शिवराज ने कहा, ''लगता है कि कांग्रेस अच्छे नेताओं की कमी से जूझ रही है। जो पार्टी लोकतांत्रिक तरीके से अपना अध्यक्ष नहीं चुन सकती है, उसे कोई नहीं बचा सकता। एक परिवार, वंशवाद और जातिगत राजनीति करने वाली पार्टी उत्तर प्रदेश और बिहार समेत कई राज्यों में हारी। आम चुनाव के दौरान पश्चिम बंगाल में भी जनता ने उन्हें नकार दिया और भाजपा के राष्ट्रवादी और विकास के मॉडल का समर्थन किया।''

 

'कांग्रेस परिवार से बाहर नहीं निकल पा रही'
शिवराज सिंह ने कहा कि भाजपा ने पार्टी में अपने कार्यकर्ताओं और नेताओं की तरक्की के उदाहरण पेश किए हैं। जबकि कांग्रेस एक परिवार से बाहर नहीं निकल पा रही है। उन्हें पिछले चुनावों से बहुत कुछ सीखना चाहिए। आश्चर्य की बात ये है कि कांग्रेस कार्यसमिति (सीडब्ल्यूसी) सोनिया और राहुल गांधी को ही पार्टी की कमान सौंपना चाहती है। लेकिन उनके नेता राहुल गांधी रणछोड़ हैं, जो चुनाव में हार के बाद पार्टी की जिम्मेदारी छोड़कर भाग खड़े हुए। उन्होंने कहा कि कांग्रेस में पूर्व प्रधानमंत्री नरसिम्हा राव को कोई याद नहीं करता है, क्योंकि वे गांधी परिवार से नहीं थे। उन्होंने मनमोहन सिंह को प्रधानमंत्री बनाया, लेकिन मां-बेटे का नियंत्रण रहा।

 

'कश्मीर में नेहरूजी के गलत फैसले के कारण अशांति थी'
राहुल गांधी के कश्मीर में हिंसा की खबरों और उन पर चिंता जताने पर भी शिवराज ने कांग्रेस पर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि अनुच्छेद 370 हटने के बाद जम्मू-कश्मीर में शांति है। यही राहुल और कांग्रेस की तकलीफ है। वे नहीं चाहते कि कश्मीर में शांति रहे। कश्मीर में अशांति नेहरूजी के गलत फैसलों के कारण थी। अनुच्छेद 370 कश्मीर के लिए अभिशाप था, आतंकवाद का कारण था। इसने कश्मीर की जनता का काफी नुकसान किया। अब नेहरूजी की गलती को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सुधारा है। कांग्रेस परेशान क्यों है?

 

कांग्रेस अध्यक्ष के लिए नेताओं के बीच 12 घंटे मंथन 
कांग्रेस अध्यक्ष पद के लिए शनिवार को सीडब्ल्यूसी की दिनभर माथापच्ची हुई। इसके बाद रात को तीन घंटे तक नेताओं की रायशुमारी पर विचार-विमर्श हुआ। ज्यादातर नेता चाहते थे कि राहुल अध्यक्ष पद पर बने रहें, लेकिन उन्होंने इससे साफ तौर पर इनकार कर दिया। इसके बाद कार्यसमिति ने अधिवेशन में पूर्णकालिक अध्यक्ष चुने जाने तक सोनिया गांधी को अंतरिम अध्यक्ष बनाने का प्रस्ताव पास हुआ। राहुल ने चुनाव में हार के बाद 25 मई को कांग्रेस की समीक्षा बैठक में कार्यसमिति के सामने अध्यक्ष पद से इस्तीफा दे दिया था।

 

DBApp

 

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना