--Advertisement--

चुनाव / राजस्थान की 199 सीटों पर 74.08% और तेलंगाना की 119 सीटों पर 67% मतदान



पूर्व मुख्यमंत्री अशोक गहलोत, मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे और प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष सचिन पायलट। पूर्व मुख्यमंत्री अशोक गहलोत, मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे और प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष सचिन पायलट।
राजस्थान की मुख्यमंत्री  वसुंधरा राजे ने झालरापाटन में वोट डाला। राजस्थान की मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने झालरापाटन में वोट डाला।
पूर्व मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने जोधपुर में सरदारपुर विधानसभा के बूथ पर वोट डाला। वह इसी सीट से कांग्रेस प्रत्याशी भी हैं। पूर्व मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने जोधपुर में सरदारपुर विधानसभा के बूथ पर वोट डाला। वह इसी सीट से कांग्रेस प्रत्याशी भी हैं।
सचिन पायलट ने जयपुर स्थित पोलिंग बूथ पर वोट डालने के बाद कहा कि कांग्रेस चुनाव जीतने के बाद ही मुख्यमंत्री तय करेगी। सचिन पायलट ने जयपुर स्थित पोलिंग बूथ पर वोट डालने के बाद कहा कि कांग्रेस चुनाव जीतने के बाद ही मुख्यमंत्री तय करेगी।
जयपुर के वैशाली नगर स्थित बूथ पर पत्नी के साथ वोट डालने पहुंचे राज्यवर्धन सिंह राठौर। जयपुर के वैशाली नगर स्थित बूथ पर पत्नी के साथ वोट डालने पहुंचे राज्यवर्धन सिंह राठौर।
हैदराबाद में फिल्म नगर कल्चरल सेंटर स्थित बूथ पर टेनिस खिलाड़ी सानिया मिर्जा ने वोट डाला। हैदराबाद में फिल्म नगर कल्चरल सेंटर स्थित बूथ पर टेनिस खिलाड़ी सानिया मिर्जा ने वोट डाला।
हैदराबाद में जुबली हिल्स स्थित पोलिंग बूथ पर पूर्व केंद्रीय मंत्री और अभिनेता चिरंजीवी ने वोट डाला। हैदराबाद में जुबली हिल्स स्थित पोलिंग बूथ पर पूर्व केंद्रीय मंत्री और अभिनेता चिरंजीवी ने वोट डाला।
केंद्रीय मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत ने परिवार के साथ जोधपुर में मतदान किया। केंद्रीय मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत ने परिवार के साथ जोधपुर में मतदान किया।
केंद्रीय मंत्री अर्जुन राम मेघवाल (मोबाइल पर बात करते हुए) ने बीकानेर स्थित एक बूथ पर वोट डाला। केंद्रीय मंत्री अर्जुन राम मेघवाल (मोबाइल पर बात करते हुए) ने बीकानेर स्थित एक बूथ पर वोट डाला।
तेलगांना: एआईएमआईएम प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी ने हैदराबाद के शास्त्रीपुरम में वोट डाला। तेलगांना: एआईएमआईएम प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी ने हैदराबाद के शास्त्रीपुरम में वोट डाला।
तेलंगाना के मुख्यमंत्री केसीआर की बेटी और टीआरएस सांसद कविता निजामाबाद के पोंथगल स्थित एक बूथ पर वोट डालने पहुंचीं। तेलंगाना के मुख्यमंत्री केसीआर की बेटी और टीआरएस सांसद कविता निजामाबाद के पोंथगल स्थित एक बूथ पर वोट डालने पहुंचीं।
राजस्थान की सरदारपुरा में 90 साल के बुजुर्ग ने वोट डाला। राजस्थान की सरदारपुरा में 90 साल के बुजुर्ग ने वोट डाला।
X
पूर्व मुख्यमंत्री अशोक गहलोत, मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे और प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष सचिन पायलट।पूर्व मुख्यमंत्री अशोक गहलोत, मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे और प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष सचिन पायलट।
राजस्थान की मुख्यमंत्री  वसुंधरा राजे ने झालरापाटन में वोट डाला।राजस्थान की मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने झालरापाटन में वोट डाला।
पूर्व मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने जोधपुर में सरदारपुर विधानसभा के बूथ पर वोट डाला। वह इसी सीट से कांग्रेस प्रत्याशी भी हैं।पूर्व मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने जोधपुर में सरदारपुर विधानसभा के बूथ पर वोट डाला। वह इसी सीट से कांग्रेस प्रत्याशी भी हैं।
सचिन पायलट ने जयपुर स्थित पोलिंग बूथ पर वोट डालने के बाद कहा कि कांग्रेस चुनाव जीतने के बाद ही मुख्यमंत्री तय करेगी।सचिन पायलट ने जयपुर स्थित पोलिंग बूथ पर वोट डालने के बाद कहा कि कांग्रेस चुनाव जीतने के बाद ही मुख्यमंत्री तय करेगी।
जयपुर के वैशाली नगर स्थित बूथ पर पत्नी के साथ वोट डालने पहुंचे राज्यवर्धन सिंह राठौर।जयपुर के वैशाली नगर स्थित बूथ पर पत्नी के साथ वोट डालने पहुंचे राज्यवर्धन सिंह राठौर।
हैदराबाद में फिल्म नगर कल्चरल सेंटर स्थित बूथ पर टेनिस खिलाड़ी सानिया मिर्जा ने वोट डाला।हैदराबाद में फिल्म नगर कल्चरल सेंटर स्थित बूथ पर टेनिस खिलाड़ी सानिया मिर्जा ने वोट डाला।
हैदराबाद में जुबली हिल्स स्थित पोलिंग बूथ पर पूर्व केंद्रीय मंत्री और अभिनेता चिरंजीवी ने वोट डाला।हैदराबाद में जुबली हिल्स स्थित पोलिंग बूथ पर पूर्व केंद्रीय मंत्री और अभिनेता चिरंजीवी ने वोट डाला।
केंद्रीय मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत ने परिवार के साथ जोधपुर में मतदान किया।केंद्रीय मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत ने परिवार के साथ जोधपुर में मतदान किया।
केंद्रीय मंत्री अर्जुन राम मेघवाल (मोबाइल पर बात करते हुए) ने बीकानेर स्थित एक बूथ पर वोट डाला।केंद्रीय मंत्री अर्जुन राम मेघवाल (मोबाइल पर बात करते हुए) ने बीकानेर स्थित एक बूथ पर वोट डाला।
तेलगांना: एआईएमआईएम प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी ने हैदराबाद के शास्त्रीपुरम में वोट डाला।तेलगांना: एआईएमआईएम प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी ने हैदराबाद के शास्त्रीपुरम में वोट डाला।
तेलंगाना के मुख्यमंत्री केसीआर की बेटी और टीआरएस सांसद कविता निजामाबाद के पोंथगल स्थित एक बूथ पर वोट डालने पहुंचीं।तेलंगाना के मुख्यमंत्री केसीआर की बेटी और टीआरएस सांसद कविता निजामाबाद के पोंथगल स्थित एक बूथ पर वोट डालने पहुंचीं।
राजस्थान की सरदारपुरा में 90 साल के बुजुर्ग ने वोट डाला।राजस्थान की सरदारपुरा में 90 साल के बुजुर्ग ने वोट डाला।

  • पिछले विधानसभा चुनाव में राजस्थान में 75.67% और तेलंगाना में 69.5% मतदान हुआ था
  • ईवीएम में खराबी की शिकायत, केंद्रीय मंत्री मेघवाल को वोट डालने के लिए दो घंटे इंतजार करना पड़ा
  • वसुंधरा राजे झालरापाटन, सचिन पायलट टोंक और अशोक गहलोत सरदारपुरा से सीट चुनाव लड़ा

Dainik Bhaskar

Dec 08, 2018, 07:05 AM IST

जयपुर/ हैदराबाद.  राजस्थान और तेलंगाना विधानसभा में शुक्रवार को मतदान हुआ। राजस्थान की 200 में 199 सीटों पर 74.08% मतदान हुआ। अलवर जिले की रामगढ़ सीट पर बसपा प्रत्याशी लक्ष्मण सिंह का निधन होने की वजह से चुनाव टाल दिया गया है। राजस्थान में 2013 के विधानसभा चुनाव में 75.67% वोटिंग हुई थी। उधर, तेलंगाना की 119 सीटों पर 67% मतदान हुआ। वहीं, तेलंगाना में पिछले चुनावों में 69.5% मतदान हुआ था।

 

राजस्थान में पाेकरण सीट पर सर्वाधिक वोटिंग 87.45% हुई। पाली में सबसे कम 64.65 प्रतिशत लोग ही वोट डालने निकले। सीकर के फतेहपुर में दो गुटों में वोट डालने के दौरान झड़प हो गई। इस दौरान उपद्रवियों ने दो बाइक में आग लगा दी और निर्वाचन विभाग की एक बस में तोड़फोड़ की। इससे करीब 30 मिनट मतदान रुका रहा। वहीं, मारवाड़ के पोकरण विधानसभा क्षेत्र के लाठी गांव में दो गुट आपस में भिड़ गए। इसमें करीब आधा दर्जन लोग चोटिल हो गए। जबकि, दो वाहनों को आग लगा दी गई।

 

 

 

इससे पहले सुबह जयपुर स्थित बूथ पर वोट डालने पहुंचे मुख्य सचिव डीबी गुप्ता को ईवीएम में गड़बड़ी के चलते करीब 20 मिनट तक इंतजार करना पड़ा। वहीं, बीकानेर में वोट डालने पहुंचे केंद्रीय राज्यमंत्री अर्जुन राम मेघवाल को ईवीएम में खराबी के चलते दो घंटे बाद वोट डाल पाए। 

 

उधर, कांग्रेस नेता सचिन पायलट ने कहा कि चुनाव जीतने के बाद ही मुख्यमंत्री तय करेंगे। कांग्रेस ने इस बार चुनाव में मुख्यमंत्री उम्मीदवार का नाम तय नहीं किया था। चुनाव प्रचार की कमान पायलट और पूर्व मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के हाथ में रही।

 

 

सबसे ज्यादा वोटिंग इन जिलों में

 

जिला 2018     2013     अंतर
जैसलमेर     83.65     85.86   -2.21
हनुमानगढ़    81.74    84.93     -3.19
गंगानगर     81.04     83.93%    -2.83

 

 

सबसे कम मतदान पाली में किया गया

 

जिला     2018     2013     अंतर
पाली     64.65     66.23     -1.58
सवाईमाधोपुर 67.30     71.12     -3.82
सिरोही     67.44     69.59     -2.15

 

 

मतदान अपडेट्स:

  • मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने झालरापाटन में वोट डाला। यहां महिलाओं के लिए स्पेशल पिंक बूथ बनाया गया है। राजे ने कहा, " मैं शरद यादव के बयान से अपमानित महसूस कर रही हूं। भविष्य में ऐसा न हो इसके लिए चुनाव आयोग को उनके बयान पर संज्ञान लेना चाहिए।" शरद ने बुधवार को राजस्थान के दौसा जिले के मंडावर की सभा में कहा था कि वसुंधरा को आराम दो वे काफी थक गई हैं। बहुत मोटी हो गई हैं। पहले पतली थी।

 

a
  • सचिन पायलट ने कांग्रेस के मुख्यमंत्री चेहरे के बारे में पूछे जाने पर कहा कि बहुमत हासिल करने के बाद हम बैठकर इस मुद्दे पर चर्चा करेंगे।
  • केंद्रीय मंत्री राज्यवर्द्धन सिंह राठौर ने जयपुर के वैशाली नगर में वोट डाला। उधर, गृहमंत्री गुलाब चंद कटारिया ने उदयपुर में वोट डाला।
  • जयपुर, कोटा, बाड़मेर, रावतसर और झुंझनू समेत कई अन्य जिलों में करीब 30 ईवीएम और वीवीपैट खराब होने की शिकायतें सामने आई। 
  • सीकर के फतेहपुर में दो गुटों में झड़प हो गई। इस दौरान उपद्रवियों ने दो बाइक में आग लगा दी और निर्वाचन विभाग की एक बस में तोड़फोड़ की। इससे करीब 30 मिनट मतदान रुका रहा। 

 

a

 

 

2274 उम्मीदवारों का भाग्य ईवीएम में बंद
मतदान के बाद 2274 प्रत्याशियों का भाग्य ईवीएम में बंद हो गया। इनमें 2087 पुरुष एवं 187 महिला प्रत्याशी हैं। चुनाव में कांग्रेस के 194, भाजपा के 199, बसपा के 189, सीपीआई के 16, सीपीआई (एम) के 28 सहित 830 निर्दलीय उम्मीदवार मैदान में थे। राज्य में 1951 से अभी तक 14 बार चुनाव हुए। इनमें चार बार भाजपा, एक बार जनता पार्टी और 10 बार कांग्रेस ने सरकार बनाई। 1993 के बाद से हर बार सरकार बदलती रही। इस बार भी कांग्रेस इसी उम्मीद के साथ चुनाव लड़ी है, लेकिन भाजपा का दावा है कि इस बार 25 साल से चली आ रही परंपरा टूट जाएगी।

 

इस बार 1.52% कम रही वोटिंग
कुल सीटें :
200 
बहुमत : 101

 

  1993 1998 2003  2008 2013 2018
वोट प्रतिशत 60.6% 63.4% 67.2% 66.5% 75.23% 74.08%

 

 

ghg

 

पिछली बार 58 तो इस बार 88 पार्टियां मैदान में 
इस बार 88 पार्टियां मैदान में हैं। 2013 के चुनाव में 58 पार्टियों ने हिस्सा लिया था। भाजपा ने सभी 200, कांग्रेस 195 और बसपा 190 सीटों पर चुनाव लड़ने का ऐलान किया था। आम आदमी पार्टी ने 30 जिलों में अपने प्रत्याशी उतारे हैं। नई पार्टियों में जन अधिकारी, हिन्द कांग्रेस, जनतावादी कांग्रेस, भारतीय पब्लिक लेबर, अंजुमन और आरक्षण विरोधी शामिल हैं। 

 

इन पर रहेगी नजर 
1) झालरापाटन : मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे (भाजपा) vs मानवेंद्र सिंह (कांग्रेस)। राजे इस सीट से चौथी बार चुनाव लड़ रही हैं। कांग्रेस ने जसवंत के बेटे और पूर्व भाजपा नेता मानवेंद्र सिंह को मैदान में उतारा है। 
2) टोंक : यूनुस खान (भाजपा) vs सचिन पायलट (कांग्रेस)। इस सीट पर भाजपा और कांग्रेस दोनों ने परंपरा तोड़ी है। 1972 के विधानसभा चुनाव से कांग्रेस यहां मुस्लिम उम्मीदवार ही उतार रही थी। 1980 से भाजपा ने यहां से सिर्फ हिंदू उम्मीदवार को ही टिकट दिया। इस बार समीकरण बदल गए। खान भाजपा के एकमात्र मुस्लिम चेहरा हैं। 
3) सरदारपुरा : शंभूसिंह खेतासर (भाजपा) vs अशोक गहलोत (कांग्रेस)। दो बार मुख्यमंत्री रह चुके गहलोत पिछले चार चुनाव से इस सीट से विधायक हैं। पिछले चुनाव में इस सीट पर गहलोत ने खेतासर को 18 हजार से ज्यादा वोटों से हराया था। 
4) उदयपुर शहर : गुलाबचंद कटारिया (भाजपा) vs डॉ गिरिजा व्यास (कांग्रेस)। राजे सरकार में गृहमंत्री कटारिया मौजूदा विधायक हैं। गिरिजा ने 1985 के विधानसभा चुनाव में कटारिया को हराया था।
5) नाथद्वारा : महेश प्रताप सिंह (भाजपा) vs डॉ. सीपी जोशी (कांग्रेस)। भाजपा ने कांग्रेस छोड़कर आए महेश प्रताप सिंह को टिकट दिया है। महेश करीब 11 साल बाद भाजपा में लौटे हैं। उधर, जोशी चार बार इस सीट से विधायक रह चुके हैं। 2008 का चुनाव सिर्फ एक वोट से हार हार गए थे।

 

दोनों दलों ने 21 दिन में 656 सभाएं कीं 
15 नवंबर से 5 दिसंबर के बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और अध्यक्ष अमित शाह समेत भाजपा नेताओं ने 223 सभाएं कीं। इनमें प्रधानमंत्री मोदी की 12, शाह की 20 और वसुंधरा राजे 75 सभाएं और रोड शो शामिल हैं। उधर, राहुल गांधी, पूर्व मुख्यमंत्री अशोक गहलोत समेत कांग्रेस नेताओं ने 433 सभाएं कीं। इनमें राहुल की 9, सचिन पायलट की 230 और अशोक गहलोत ने 100 सभाएं कीं।

 

तेलंगाना में 1824 प्रत्याशी मैदान में
तेलंगाना विधानसभा की 119 सीटों में से नक्सल प्रभावित 13 सीटों पर शाम 4 बजे तक और बाकी सीटों पर शाम 5 बजे तक वोट डाले गए। यहां 1824 प्रत्याशी मैदान में हैं।

 

2014 में विधानसभा की स्थिति:

कुल सीटें: 119 

बहुमत: 60

 

दल  सीटें वोट शेयर
टीआरएस  63  34.3 % 
कांग्रेस  21  25.2 %
टीडीपी  15 14.7 %
एआईएमआईएम  7 3.8 % 
भाजपा    5 7.1 %
निर्दलीय 1  5 %

 

elec

 

Bhaskar Whatsapp
Click to listen..