• Hindi News
  • National
  • Election Commission issues revised list of candidates disqualified for contesting Lok Sabha elections

छत्तीसगढ़ / महासमुंद के चर्चित सात चंदूलाल-दो चंदूराम नहीं लड़ सकेंगे चुनाव, आयोग ने ठहराया अयोग्य



Election Commission issues revised list of candidates disqualified for contesting Lok Sabha elections
X
Election Commission issues revised list of candidates disqualified for contesting Lok Sabha elections

  • पिछले लोकसभा चुनाव में महासमुंद से एक साथ 11 चंदू चुनावी समर में उतरे थे 
  • आयोग ने अयोग्य ठहराए गए राज्य के 50 प्रत्याशियों की संशोधित सूची जारी की

Dainik Bhaskar

Mar 17, 2019, 09:29 AM IST

रायपुर. चुनाव आयोग ने लोकसभा चुनाव लड़ने के लिए अयोग्य ठहराए गए राज्य के 50 प्रत्याशियों की संशोधित सूची जारी कर दी है। सूची में 2014 में लोकसभा चुनाव लड़ने वाले सात चंदूलाल और दो चंदूराम के नाम भी शामिल हैं। दरअसल, पिछले लोकसभा चुनाव में महासमुंद सीट से एक साथ 11 चंदू चुनावी समर में उतरे थे। इस वजह से पूरे देश में ये सीट खासी चर्चा में आ गई थी। 


सूची में उम्मीदवारों को डिसक्वालिफाई करने की तारीख के साथ साथ ये भी बताया गया है कि ऐसे प्रत्याशी कब तक चुनाव नहीं लड़ सकेंगे। अधिकांश प्रत्याशियों पर इस साल दिसंबर तक चुनाव लड़ने से रोक जारी रहेगी। वहीं कुछ प्रत्याशी ऐसे भी हैं जिनके चुनाव लड़ने पर 2020 तक रोक जारी रहेगी। 


बिना प्रचार के मिल गए थे वोट 
2014 में महासमुंद सीट पर कुल 38 उम्मीदवार चुनाव में खड़े हुए थे। जिनमें ग्यारह के नाम चंदू थे। ज्यादातर चंदू फॉर्म भरने के बाद क्षेत्र में प्रचार तक के लिए नहीं गए। एक जैसे नाम होने की वजह से मतदाता भी खासे कन्फ्यूज हो गए थे। जिसके चलते प्रचार नहीं करने के बावजूद दस चंदू सत्तर हजार से ज्यादा वोट बटोरने में कामयाब रहें। वोटरों को ऐसी भ्रामक स्थिति से बचाने के लिए ही अब आयोग ईवीएम में उम्मीदवार के नाम के सामने उसकी तस्वीर लगाता है। 

 

ज्यादातर ने नहीं दिया खर्च का ब्यौरा 
राज्य के पचास लोगों को लोक प्रतिनिधित्व अधिनियम 1951 की धारा 10 ए के अंतर्गत चुनाव खर्च का ब्यौरा नहीं देने के लिए चुनाव लड़ने के लिए डिसक्वालिफाई या अयोग्य ठहराया गया है। दरअसल, चुनाव आयोग के नियमों के मुताबिक विधानसभा और लोकसभा चुनाव में उम्मीदवार को नतीजे घोषित होने के एक महीने के अंदर चुनाव खर्च का फाइनल हिसाब देना होता है। जो इस समय सीमा के भीतर बिना उचित कारण के खर्च का हिसाब नहीं दे पाते हैं, उन्हें आयोग चुनाव लड़ने के लिए अयोग्य घोषित करता है। 
 

211 लोगों ने लड़ा था पिछला लोकसभा चुनाव 
2014 के लोकसभा चुनाव में कुल 211 उम्मीदवारों ने दांव आजमाया था। इनमें 190 पुरुष और 21 महिलाएं थी। निर्दलीय उम्मीदवारों की कुल तादाद करीब 162 थी। 
 

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना