झारखंड / एक माह में पांचवां नक्सली हमला, दुमका में 1 जवान शहीद, 4 जख्मी



जख्मी जवानों को सदर अस्पताल में भर्ती कराया गया। जख्मी जवानों को सदर अस्पताल में भर्ती कराया गया।
जवानों का हाल जानते एसपी वाईएस रमेश। जवानों का हाल जानते एसपी वाईएस रमेश।
X
जख्मी जवानों को सदर अस्पताल में भर्ती कराया गया।जख्मी जवानों को सदर अस्पताल में भर्ती कराया गया।
जवानों का हाल जानते एसपी वाईएस रमेश।जवानों का हाल जानते एसपी वाईएस रमेश।

  • शांतिपूर्ण चुनाव से बौखलाए नक्सली, चार बड़ी घटनाओं को दिया अंजाम
  • मुठभेड़ में जख्मी दो जवानों को हेलिकॉप्टर से रांची स्थित मेडिका हॉस्पिटल भेजा गया

Dainik Bhaskar

Jun 03, 2019, 10:43 AM IST

दुमका. शांतिपूर्ण चुनाव होने से बौखलाए नक्सली फिर सिर उठाने लगे हैं। एक महीने में पांच घटनाओं को अंजाम दिया है। इनमें चार बड़ी घटनाएं हैं। दुमका के रानेश्वर थाना क्षेत्र स्थित कठलिया गांव में रविवार अहले सुबह चार बजे नक्सलियों ने सर्च ऑपरेशन चला रहे पुलिस जवानों को निशाना बनाते हुए पांचवीं घटना को अंजाम दिया। रानेश्वर थाना क्षेत्र के कठलिया गांव में रविवार सुबह पुलिस और नक्सलियों के बीच मुठभेड़ हो गई। इसमें सशस्त्र सीमा बल (एसएसबी) का एक जवान शहीद हो गया। चार जवान जख्मी हुए हैं। चारों जवानों काे दुमका सदर अस्पताल में भर्ती किया गया। इनमें से दो की हालत नाजुक थी, इसलिए उन्हें हेलिकॉप्टर से रांची मेडिका हॉस्पिटल भेजा गया। पुलिस का दावा है कि कम से कम पांच नक्सलियों को गोली लगी है। जो जंगल की ओर भाग गए। मुठभेड़ में शामिल जवान एसएसबी की गोरिल्ला बटालियन से थे।

 

सर्च ऑपरेशन के दौरान हुई मुठभेड़
शहीद जवान की पहचान असम निवासी नीरज क्षत्री के रूप में की गई है। जबकि घायल जवानों में राजेश कुमार राय, करण कुमार, सतीश गुर्जर और सोनू कुमार शामिल हैं। राजेश राय और करण को रांची भेजा गया है। एसपी वाईएस रमेश ने बताया कि उन्हें दो-तीन दिन से यह सूचना मिल रही थी कि इस क्षेत्र के जंगल और पहाड़ी इलाकों में नक्सली जुटे हैं। वे किसी बड़ी घटना को अंजाम देने की योजना बना रहे हैं। इसी सूचना के आधार पर यहां सर्च ऑपरेशन चलाया जा रहा था। तभी नक्सलियों ने फायरिंग शुरू कर दी। इधर, रांची एसएसपी अनीश गुप्‍ता समेत कई पुलिस अधिकारी मेडिका पहुंच कर घायल जवान का हालचाल जाना और डॉक्‍टरों से उनके सेहत की जानकारी ली। 

 

एक जख्मी जवान को हेलिकॉप्टर की मदद से रांची भेजा गया।

 

 

 

20 व 28 मई के विस्फोट में 29 जवान घायल
3 मई : खरसावां में भाजपा चुनाव कार्यालय को उड़ा दिया।
20 मई : खरसावां थाना से 8 किमी दूर जवानों को नक्सलियों ने आईईडी विस्फोट कर निशाना बनाया। किए गए 21 ब्लास्ट में तीन जवान घायल हुए।
28 मई : खरसावां के कुचाई में आईईडी विस्फोट किया। 26 जवान घायल हुए।
1 जून : लोहरदगा के पेशरार में नक्सलियों ने भाजपा कार्यकर्ता सह एसपीओ दिलीप भगत की गोली मारकर हत्या कर दी।

 

मुख्यधारा में लौटें नक्सली नहीं तो मिटा देंगे: सीएम
मुख्यमंत्री रघुवर दास ने कहा कि बंदूक से जान ली जा सकती है, व्यवस्था नहीं बदली जा सकती। अगर व्यवस्था बदलनी है तो नक्सलियों को मुख्यधारा में लौटना पड़ेगा। झारखंड में हिंसा या धमकी से काम नहीं चलेगा। अगर कोई ऐसा करेगा तो सरकार उसे मिटा देगी। वे शिकारीपाड़ा के ढाका गांव में रविवार को जन चौपाल कार्यक्रम में बोल रहे थे। उन्होंने कठलिया गांव में हुई नक्सली घटना में एक जवान के शहीद और अन्य के घायल होने की घटना पर शोक जताया। मुख्यमंत्री ने कहा कि पूरे राज्य में नक्सलवाद अब अंतिम सांसें गिन रहा है।

 

गढ़चिरौली में हुए थे 15 जवान शहीद
महाराष्ट्र के गढ़चिरौली में 30 अप्रैल को हुए नक्सली हमले में पुलिस के 15 जवान शहीद हो गए थे। हमले में बस ड्राइवर की भी मौत हुई थी। इससे पहले इसी इलाके में नक्सलियों ने रोड निर्माण में लगे 30 वाहनों को आग लगा दी थी। नक्सली हमला कुरखेड़ा से छह किमी दूर कोरची मार्ग पर हुआ था। महाराष्ट्र पुलिस के जवान निजी बस से गढ़चिरौली की ओर जा रहे थे। यह इलाका महाराष्ट्र-छत्तीसगढ़ सीमा पर है।

 

शहीद जवान सी-60 फोर्स के कमांडो थे
शहीद हुए जवान पुलिस की सी-60 फोर्स के कमांडो थे। इस फोर्स में 60 जवान होते हैं। इसका गठन 1992 में गढ़चिरौली के तत्कालीन एसपी केपी रघुवंशी ने किया था। इस फोर्स के कमांडो नक्सल विरोधी अभियानों के लिए ही प्रशिक्षित किए जाते हैं। ये गुरिल्ला युद्ध में माहिर होते हैं।

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना