• Hindi News
  • National
  • Encounter Between Police And Naxalites In Gadchiroli's Gyarapatti Forests, 26 Naxalites Killed

महाराष्ट्र पुलिस को बड़ी कामयाबी:गढ़चिरौली में 26 नक्सली मारे गए, 4 जवान घायल; ग्यारापट्टी के जंगलों में 10 घंटे चली मुठभेड़

गढ़चिरौली6 महीने पहले

महाराष्ट्र के गढ़चिरौली में पुलिस ने 26 नक्सलियों को मार गिराने का दावा किया है। गढ़चिरौली के एसपी अंकित गोयल ने बताया कि जिले के ग्यारापट्टी के जंगलों में शनिवार को महाराष्ट्र पुलिस की सी-60 यूनिट के साथ मुठभेड़ में 26 नक्सलियों का सफाया कर दिया गया है। इनसे भारी संख्या में हथियार, गोला-बारूद और नक्सली साहित्य जब्त किए गए हैं।

SP अंकित गोयल ने बताया कि नक्सलियों के साथ गोलीबारी में 4 जवान भी घायल हुए हैं। घायल पुलिसकर्मियों की पहचान रविंद्र नेताम (42), सर्वेश्वर अतराम (34), महरू कुदमेठे (34) और टीकाराम कटांगे (41) के रूप में हुई है। इन्हें एयरलिफ्ट कर नागपुर के ऑरेंज सिटी हॉस्पिटल एंड रिसर्च इंस्टीट्यूट के क्रिटिकल केयर कॉम्प्लेक्स में भर्ती कराया गया है।

गढ़चिरौली के इतिहास में दूसरी सबसे लंबी मुठभेड़
SP गोयल ने बताया कि यह मुठभेड़ गढ़चिरौली के इतिहास में दूसरी सबसे लंबी मुठभेड़ थी। यह सुबह लगभग 6 बजे शुरू हुई और शाम 4 बजे खत्म हुई। इससे पहले 23 अप्रैल, 2018 को गढ़चिरौली पुलिस ने दो अलग-अलग झड़पों में 40 माओवादियों को मार गिराया था। एटापल्ली तहसील के बोरिया-कास्नासुर इलाके में जहां 34 मारे गए, वहीं एक ही समूह के 6 लोगों को अहेरी तहसील में मार गिराया गया था।

यहीं से कुछ दूर ग्यारापट्टी के जंगलों में मुठभेड़ हुई।
यहीं से कुछ दूर ग्यारापट्टी के जंगलों में मुठभेड़ हुई।

बढ़ सकता है मारे गए नक्सलियों का आंकड़ा
पुलिस अभी मारे गए नक्सलियों की शिनाख्त में लगी हुई है। 26 बॉडी रिकवर की गई हैं। इनकी संख्या बढ़ भी सकती है। हालांकि, घने जंगल और रात होने की वजह से सर्च ऑपरेशन अभी होल्ड कर दिया गया है। बताया जा रहा है कि पहली बार बड़ी संख्या में मारे गए नक्सलियों की लाश मिली है।

50 लाख का इनामी नक्सली भी मारा गया
पुलिस के साथ मुठभेड़ में मिलिंद तेलतुंबड़े नाम के एक बड़े नक्सली के मारे जाने की सूचना है। इस पर 50 लाख रुपए का इनाम था। वह सीपीआई (माओवादी) केंद्रीय समिति के सदस्य भी था। पुलिस सरेंडर किए नक्सलियों से मारे गए लोगों की पहचान करवाएगी। पुलिस के मुताबिक, मिलिंद तेलतुंबड़े भीमा कोरेगांव मामले में दायर NIA की चार्जशीट में भी एक आरोपी था। SP गोयल का कहना है कि नक्सलियों की शिनाख्त के लिए सुबह टीम भेजी जाएगी। अभी मिलिंद मारा गया है या नहीं। कुछ भी कहा नहीं जा सकता।

मुठभेड़ में 50 लाख का इनामी नक्सली मिलिंद तेलतुंबड़े भी मारा गया है। भीमा कोरेगांव मामले में दायर NIA की चार्जशीट में भी यह एक आरोपी था।
मुठभेड़ में 50 लाख का इनामी नक्सली मिलिंद तेलतुंबड़े भी मारा गया है। भीमा कोरेगांव मामले में दायर NIA की चार्जशीट में भी यह एक आरोपी था।

गोरिल्ला युद्ध प्रशिक्षण करवाता था मिलिंद
पुलिस का कहना है कि मिलिंद तेलतुंबड़े दलित बुद्धिजीवी आनंद तेलतुंबड़े का छोटा भाई है। आनंद भीमा-कोरेगांव मामले में अभी जेल में है। वह भाकपा (माओवादी) के महाराष्ट्र-मध्य प्रदेश-छत्तीसगढ़ क्षेत्र का प्रभारी भी है। मिलिंद अपने संगठन के विस्तार के लिए आनंद के लिखे साहित्य का इस्तेमाल करता था। मिलिंद नक्सलियों को प्रशिक्षित करने और नए रंगरूटों को गोरिल्ला युद्ध प्रशिक्षण देने के लिए शिविर आयोजित करता था।

मिलिंद की पत्नी को 2011 में गिरफ्तार किया गया
मिलिंद, दीपा, प्रवीण, अरुण और सुधीरी के नाम से भी जाना जाता था। मिलिंद की पत्नी एंजेला सोंताके को 2011 में गिरफ्तार किया गया था। वह भी कई अपराधों में नामजद थी। मिलिंद के शिनाख्त के लिए पुलिस उसके बॉडीगार्ड रह चुके राकेश को घटना स्थल पर ले जाएगी। राकेश ने कुछ दिनों पहले ही सरेंडर किया है।

2 लाख का इनामी नक्सली भी गिरफ्तार
कुछ दिन पहले यहां से पुलिस ने 2 लाख के इनामी नक्सली मंगारु मांडवी को भी गिरफ्तार किया था। नक्सली मंगारु पर हत्या और पुलिस पर हमला करने के कई मामले दर्ज हैं।

बालाघाट में नक्सलियों ने दो ग्रामीण की हत्या की
मध्य प्रदेश के बालाघाट में नक्सलियों ने दो गांव वालों की हत्या कर दी। मालखेड़ी गांव में ये हत्याएं मुखबिरी के शक में की गईं। पुलिस ने लांजी के जंगल से 7 नवंबर को विस्फोटक जब्त किया था। नक्सलियों को शक था कि गांव वालों ने ही पुलिस को इसकी सूचना दी थी। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने मृतकों के परिवार को 5-5 लाख रुपए और एक सदस्य को सरकारी नौकरी देने की घोषणा की है।