टूटी ट्रैक के नीचे लगा था सड़ी लकड़ी का गुटका, ट्रेन गुजरते ही धंस गई थी पटरी

4 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
  • बछवाड़ा-हाजीपुर रेलखंड पर 40 घंटे बाद ट्रेनें शुरू
  • आज से पूर्वी जोन के मुख्य संरक्षा आयुक्त करेंगे जांच

हाजीपुर. वैशाली के सरदेही बुजुर्ग में रविवार को सीमाचंल एक्सप्रेस हादसे के लिए रेलवे का इंजीनियरिंग विभाग जिम्मेदार है। पूर्व मध्य रेलवे के विभिन्न तकनीकी विभागों के विशेषज्ञों की आंतरिक जांच टीम के नौ में से सात सदस्यों अपनी रिपोर्ट में कहा कि हादसे का कारण रेलवे के इंजीनियरिंग विभाग की अनदेखी है। हालांकि ईसीआर के सीपीआरओ ने कहा कि रेलवे की यह प्रारंभिक प्रक्रिया है। जरूरी नहीं कि यह सही ही हो। 

 

रेल मंत्रालय ने पूर्वी जोन कोलकाता के मुख्य संरक्षा आयुक्त लतीफ खां को जांच की जिम्मेवारी सौंपी है। वह मंगलवार से जांच शुरू करेंगे। वह हाजीपुर सदर अस्पताल, पीएमसीएच में इलाज करवा रहे हादसे में घायल हुए यात्रियों के साथ बातचीत करेंगे। बुधवार और गुरुवार को सोनपुर डीआरएम ऑफिस में आमलोगों से भी जानकारी लेंगे। ईसीआर ने अपनी टीम को चौबीस घंटे में जांच रिपोर्ट देने को कहा था।

 

टीम ने सोमवार को रिपोर्ट सौंप दी। रिपोर्ट में कहा है कि प्वाइंट्स 24 ए के निकट सीएमएस क्रॉसिंग पर पटरी में क्रैक था। साथ ही स्लीपर संख्या 73 तथा 74 के बीच ट्रैक के नीचे 99 सेंटीमीटर की पुरानी लकड़ी का गुटका लगा हुआ था। ट्रेन गुजरने के दौरान टूटी पटरी व लकड़ी का गुटका क्षतिग्रस्त होकर धंस गया और यही दुर्घटना का कारण बना। क्रॉसिंग के पास फिश प्लेट का 02 बोल्ट भी खुलकर नीचे गिरा हुआ पाया गया। 03 पेंड्रोल क्लिप भी निकला हुआ था।

 

सीमांचल एक्सप्रेस हादसे के बाद सोमवार की देर रात सोनपुर मंडल के हाजीपुर-शाहपुर पटोरी रेलखंड पर मेल-एक्सप्रेस ट्रेनों का परिचालन सामान्य हुआ। इससे पहले सात ट्रेनों का परिचालन रद्द रहा और आधा दर्जन से अधिक ट्रेनों को परिवर्तित मार्ग से चलाया गया। सहदेई बुजुर्ग स्टेशन के पास बेपटरी हुई ट्रेन की 11 बोगियों को हटाने में रविवार से ही लगी रेस्क्यू टीम को 40 घंटे बाद सोमवार देर शाम सफलता मिली।

 

हाजीपुर-शाहपुर रेलखंड पर सिंगल ट्रैक है, लेकिन जहां हादसा हुआ वहां स्टेशन एरिया होने के कारण तीन ट्रैक हैं। पूर्व मध्य रेल के सीपीआरओ राजेश कुमार ने बताया कि तीनों लाइनें क्षतिग्रस्त हो गई थीं। एक ट्रैक को रविवार रात 8:35 बजे दुरुस्त कर लिया गया था, जिससे रात 9:30 बजे पहली मालगाड़ी को निकाला गया। सीपीआरओ ने बताया कि रेल संरक्षा आयुक्त पूर्वी सर्किल कोलकाता मो. लतीफ खान मंगलवार की सुबह से सहदेई बुजुर्ग स्थित घटनास्थल पर हादसे के कारणों की जांच करेंगे।