ईपीएफओ की बैठक आज, ब्याज दर 8.55% पर स्थिर रखने के आसार

4 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
  • 2017-18 में भी सरकार ने इसी दर से दिया था पीएफ पर ब्याज 
  • मौजूदा दर 5 साल में सबसे कम, 2016-17 में थी 8.65 फीसदी

नई दिल्ली. वित्त वर्ष 2018-19 के लिए प्रॉविडेंट फंड (पीएफ) की जमा राशि पर ब्याज दर 8.65% रहेगी। पिछले वित्त वर्ष के दौरान यह दर 8.55% थी। इस संबंध में गुरुवार को रिटायरमेंट फंड बॉडी ईपीएफओ के सेंट्रल बोर्ड ऑफ ट्रस्टीज (सीबीटी) की हुई बैठक में फैसला किया गया। कर्मचारी भविष्य निधि संगठन (ईपीएफओ) के 6 करोड़ से ज्यादा अंशधारक हैं। पहले अनुमान लगाया जा रहा था कि ब्याज दरें पिछले वित्त वर्ष के जैसे ही रहेंगी।

 

अंशधारकों को पिछले वित्त वर्ष (2017-18) में पीएफ जमा पर 8.55% की दर से ब्याज मिला था। यह पिछले 5 साल में सबसे कम है। सूत्रों के मुताबिक, ईपीएफओ की आय का अनुमान ट्रस्टीज के लिए जारी नहीं किया गया है। इसे बैठक के दौरान पेश किया गया।

 

वित्त वर्ष ब्याज दर
2012-13 8.50%
2013-14 8.75%
2014-15 8.75%
2015-16 8.80%
2016-17 8.65%
2017-18 8.55%
2018-19 8.65%

 

नवंबर में नौकरियों का आंकड़ा 23% घटाया 
ईपीएफओ ने नवंबर 2018 के लिए नौकरी का आंकड़ा 23.44% घटा दिया है। पहले इसने कहा था कि 7.16 लाख नए खाताधारक जुड़े हैं। अब इसे संशोधित कर 5.8 लाख कर दिया है। सितंबर 2017 से नवंबर 2018 तक का आंकड़ा भी 73.5 लाख से घटाकर 65.15 लाख किया गया है।

खबरें और भी हैं...