प्रयागराज जा रहे पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश एयरपोर्ट पर रोके गए, दोनों सदनों में हुआ हंगामा

4 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
  • विधानसभा व विधान परिषद में सपा के सदस्यों ने जमकर किया हंगामा
  • अखिलेश यादव ने ट्विट कर दी जानकारी

लखनऊ. समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष और उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्मयंत्री अखिलेश यादव को मंगलवार को अमौसी एयरपोर्ट पर प्रयागराज जाने से रोक दिया गया। अखिलेश प्राइवेट प्लेन से एक छात्र नेता के शपथ ग्रहण समारोह में शामिल होने जा रहे थे। उनका कुंभ जाने का भी कार्यक्रम था।

 

अखिलेश को रोके जाने के मुद्दे पर संसद, विधानसभा और विधानपरिषद में जोरदार हंगामा हुआ। इस बीच, सरकार ने कहा कि अखिलेश को रोकने का फैसला इलाहाबाद यूनिवर्सिटी के आग्रह पर लिया गया। उधर, प.बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने कहा- देश में रुकावट के लिए खेद है जैसी स्थिति बन गई है। देश में ऐसी स्थिति हो गई है कि लोगों को एक स्थान से दूसरे स्थान तक जाने नहीं दिया गया। इससे पहले देश में ऐसी स्थिति कभी नहीं बनी।

 

 

अखिलेश ने ट्वीट कर अमौसी एयरपोर्ट पर हिरासत में लिए जाने की जानकारी दी थी। उन्होंने लिखा, \"एक छात्र नेता के शपथ ग्रहण कार्यक्रम से सरकार इतना डर गई है कि मुझे हवाई अड्डे पर रोका जा रहा है।\" 

 

प्रशासन और सरकार ने बम फेंकने वालों की मदद की- अखिलेश

इस घटना के बाद अखिलेश ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा- हमने इलाहाबाद यूनिवर्सिटी का कार्यक्रम 27 दिसंबर को ही भेज दिया था ताकि कोई शिकायत हो तो उसकी जानकारी मिल जाए। भाजपा और उनके समर्थक इलाहाबाद यूनिवर्सिटी के चुनावों को अपना चुनाव समझ रहे थे। सरकार और सभी मंत्री इस चुनाव में शामिल हो रहे थे। मुख्यमंत्री जब भी यूनिवर्सिटी जाते थे, तब वह जरूर अपने लोगों को यह आदेश दे रहे होंगे कि इन चुनावों में किसी भी कीमत पर हार ना हो। अब जब शपथ ग्रहण समारोह होने जा रहा था, तब वहां तीन बम फेंके गए। जहां मंच था, वहां पर विस्फोट हुए। सरकार और प्रशासन ने उन लोगों के खिलाफ कोई एक्शन नहीं लिया, जिन्होंने ये काम किया। लोकतंत्र में यह पहली बार हुआ है कि सरकार और प्रशासन ऐसे लोगों की मदद कर रहे हैं, जो किसी कार्यक्रम में बम फेंक रहे हैं। 

 

योगी बोले- यूनिवर्सिटी के आग्रह पर लिया फैसला

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा, \"प्रयागराज में कुंभ चल रहा है। अभी तक वहां कई कार्यक्रम सफलतापूर्वक हुए हैं। इलाहाबाद यूनिवर्सिटी ने आग्रह किया था अखिलेश यादव के प्रयागराज पहुंचने से छात्र संगठनों के बीच हिंसा भड़क सकती है, जिससे वहां कानून-व्यवस्था में गड़बड़ी पैदा हो सकती है। इसी आधार पर सरकार ने अखिलेश को रोकने का फैसला किया। समाजवादी पार्टी को ऐसी अराजकतावादी गतिविधियों से रोका जाना चाहिए।\"

 

इलाहाबाद यूनिवर्सिटी के रजिस्ट्रार ने सोमवार को अखिलेश यादव के निजी सचिव को पत्र लिखकर कहा था कि विश्वविद्यालय के कार्यक्रम में किसी भी नेता को आने की अनुमति नहीं है। 

 

बिना किसी लिखित आदेश के मुझे एयरपोर्ट पर रोका गया। पूछने पर भी स्थिति साफ करने में अधिकारी विफल रहे। छात्र संघ कार्यक्रम में जाने से रोकना का एक मात्र मकसद युवाओं के बीच समाजवादी विचारों और आवाज को दबाना है। pic.twitter.com/151IwzPl1t

— Akhilesh Yadav (@yadavakhilesh) February 12, 2019

 

 

 

एक छात्र नेता के शपथ ग्रहण कार्यक्रम से सरकार इतनी डर रही है कि मुझे लखनऊ हवाई-अड्डे पर रोका जा रहा है! pic.twitter.com/eaNrUQX1SX

— Akhilesh Yadav (@yadavakhilesh) February 12, 2019