डील / फेसबुक ने स्टार्टअप फर्म मीशो में हिस्सेदारी खरीदी, 5 साल बाद भारत में दूसरा निवेश

Dainik Bhaskar

Jun 14, 2019, 03:34 PM IST


मीशो के को-फाउंडर संजीव बर्नवाल (बाएं) और विदित अत्रे। मीशो के को-फाउंडर संजीव बर्नवाल (बाएं) और विदित अत्रे।
X
मीशो के को-फाउंडर संजीव बर्नवाल (बाएं) और विदित अत्रे।मीशो के को-फाउंडर संजीव बर्नवाल (बाएं) और विदित अत्रे।

  • फेसबुक ने इससे पहले 2014 में हैदराबाद की लिटिल आई लैब्स को खरीदा था
  • फेसबुक ने मीशो में निवेश की रकम और शेयरों की संख्या नहीं बताई
  • मीशो ऑनलाइन बिजनेस बढ़ाने में उद्यमियों की मदद करती है

बेंगलुरु. फेसबुक ने स्टार्टअप फर्म मीशो में हिस्सेदारी खरीदी है। उसने गुरुवार को यह जानकारी दी। हालांकि, यह नहीं बताया कि कितना निवेश किया है या कितने शेयर खरीदे हैं। फेसबुक का भारत में यह दूसरा निवेश है। इससे पहले 2014 में उसने हैदराबाद की लिटिल आई लैब्स को खरीदा था।

मीशो 455 करोड़ रुपए पहले ही जुटा चुकी

  1. मीशो ऑनलाइन कारोबार बढ़ाने में उद्यमियों की सोशल मीडिया के जरिए मदद करती है। आईआईटी दिल्ली से ग्रेजुएट विदित अत्रे और संजीव बर्नवाल ने इसे शुरू किया था।

  2. फेसबुक के निवेश से पहले मीशो डीएसटी पार्टनर्स, आरपीएस वेंचर्स, शनवे कैपिटल, सैफ पार्टनर्स, सिक्योइया इंडिया और वाय कॉम्बिनेटर जैसे निवेशकों से 6.5 करोड़ डॉलर (455 करोड़ रुपए) का निवेश हासिल कर चुकी है।

  3. फेसबुक इंडिया के वाइस प्रेसिडेंट और एमडी अजित मोहन ने मीशो में निवेश की तीन वजह बताई हैं। अजित का कहना है कि हम मीशो के फाउंडरों और टीम को लेकर उत्साहित हैं। वे टीयर-2 और टीयर-3 शहरों पर फोकस कर रहे हैं। तीसरी प्रमुख वजह ये है कि मीशो के प्लेटफॉर्म से 20 लाख विक्रेता जुड़े हैं। उनमें से 80% महिलाएं हैं। इससे महिला उद्यमियों को प्रोत्साहन मिल रहा है और रोजगार बढ़ाने का एजेंडा आगे बढ़ रहा है।

  4. मीशो के को-फाउंडर विदित अत्रे का कहना है कि उनकी कंपनी और फेसबुक का एक जैसा लक्ष्य है कि लोगों को जोड़ा जाए और छोटे कारोबारियों को आगे बढ़ने में मदद की जाए।

COMMENT