पुणे में परिवार के 7 लोगों के शव मिले:आर्थिक तंगी के चलते सुसाइड का अंदेशा, रोहतक में भी परिवार के 4 सदस्य मृत मिले

पुणे9 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
पुणे के दौंड में पुलिस ने नदी के किनारे तफ्तीश की है। - Dainik Bhaskar
पुणे के दौंड में पुलिस ने नदी के किनारे तफ्तीश की है।

महाराष्ट्र के पुणे में एक ही परिवार के सात लोगों के शव मिले हैं। मिली जानकारी के अनुसार परिवार आर्थिक तंगी में था। पुलिस के अनुसार पहली नजर में मामला आत्महत्या का लग रहा है। हालांकि मामले में सभी ऐंगल से जांच की जा रही है। वहीं हरियाणा के रोहतक में एक ही परिवार के चार सदस्यों के शव मिले हैं।

पुणे जिले के दौंड तालुका के परगांव में भीमा नदी से 18 से 21 जनवरी के बीच परिवार के चार सदस्यों के शव मिले थे। वहीं नदी में तलाश के दौरान मंगलवार दोपहर परिवार के तीन और बच्चों के शव मिले हैं। मृतकों में 50 साल के पुरुष से लेकर 3 साल तक के बच्चे के शव हैं।

मछुआरों को मिला था महिला का शव
बताया जाता है कि नदी में मछली पकड़ने के दौरान मछुआरों को एक महिला का शव मिला। उन्होंने इसकी सूचना पुलिस को दी। पुलिस ने जब नदी में तलाशी ली तो और शव मिले। शवों की तलाश के लिए गोताखोरों की मदद ली गई है।

पुलिस गांव के लोगों से घटना को लेकर पूछताछ कर रही है।
पुलिस गांव के लोगों से घटना को लेकर पूछताछ कर रही है।

मृतकों में पती-पत्नी, बेटी-दामाद और बच्चे
मृतकों में मोहन उत्तम पवार (50), संगीता मोहन पवार (45) उनके दामाद शामराव पंडित फुलवारे (32), उनकी पत्नी रानी शामराव फुलवारे (27), शामराव फुलवारे के बेटे रितेश शामराव फुलवारे (7), छोटू शामराव फुलवारे (5) और कृष्णा (3) की लाशें इसी नदी के किनारे मिली हैं।

पुलिस ने नदी किनारे शव मिलने के बाद मंगलवार को नदी में भी खोजबीन की।
पुलिस ने नदी किनारे शव मिलने के बाद मंगलवार को नदी में भी खोजबीन की।

शवों को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया गया है। पुणे ग्रामीण पुलिस इस मामले की जांच कर रही है। आसपास के इलाकों में लोगों से पूछताछ कि जा रही है और पहले शवों से संबंधित परिवार को तलाशने का काम शुरू है।

रोहतक में पति-पत्नी व दो बच्चों के शव मिले

हरियाणा के रोहतक में एक घर से पति-पत्नी व 2 बच्चों के शव बरामद हुए हैं। सिटी थाना पुलिस व एफएसएल की टीम ने मौके पर पहुंच कर जांच शुरू कर दी है। अभी तक घटना के कारणों की पुष्टि नहीं हो पाई है। पढ़ें पूरी खबर...

ये खबर भी पढ़ें:

बेरोजगारी और अकेलेपन से देश में आत्महत्या दर 6.2% बढ़ी:2021 में 1 लाख 53 हजार 52 लोगों ने सुसाइड किया, महाराष्ट्र में सबसे ज्यादा आत्महत्याएं

भारत में बेरोजगारी, अकेलापन, हिंसा, पारिवारिक समस्याएं, शराब की लत और आर्थिक समस्याओं के चलते आत्महत्या के मामले बढ़े हैं। साल 2021 में आत्महत्या के 1 लाख 64 हजार 33 मामले सामने आए। पढ़ें पूरी खबर...

खबरें और भी हैं...