• Hindi News
  • National
  • Kerala Thrissur Viyyur jail: Foods prepared from Kerala Viyyur jail for Swiggy

केरल / कैदियों की बनी बिरयानी अब ऑनलाइन बिकेगी, डोर-टू-डोर डिलीवरी भी की जाएगी



Kerala Thrissur Viyyur jail: Foods prepared from Kerala Viyyur jail for Swiggy
X
Kerala Thrissur Viyyur jail: Foods prepared from Kerala Viyyur jail for Swiggy

  • खाना पहुंचाने के लिए जेल प्रशासन ने ऑनलाइन फूड डिलीवरी प्लेयर 'स्विगी' से करार किया
  • वियूर पहली ऐसी जेल, जहां व्यावसायिक तौर पर चपाती बनाने और उसकी बिक्री शुरू की गई
  • एक दिन में 100 कैदियों द्वारा तैयार 25 हजार चपाती और 500 से अधिक बिरयानी की बिक्री की जाती है

Dainik Bhaskar

Jul 11, 2019, 07:14 PM IST

थ्रिसूर. केरल में वियूर सेंट्रल जेल के प्रशासन ने कैदियों द्वारा तैयार बिरयानी की डोर-टू-डोर बिक्री शुरू की है। पहले चरण में इसकी ऑनलाइन बिक्री की कीमत 127 रुपए रखी गई है। इसमें 300 ग्राम बिरयानी चावल, भुने चिकन की एक पीस, तीन चपाती, एक कप केक, सलाद, अचार और एक लीटर पानी का बोतल शामिल है।

 

सेंट्रल जेल परिसर से खाना पहुंचाने के लिए जेल प्रशासन ने ऑनलाइन फूड डिलीवरी कंपनी "स्विगी' से करार किया है। केरल की जेलों में बंद कैदियों द्वारा तैयार किया गया भोजन बेचने वाला उद्यम "फ्रीडम फूड फैक्ट्री' 2011 से इस कारोबार में लगा हुआ है। जेल अधीक्षक निर्मलनंदन नायर ने न्यूज एजेंसी को बताया- हमलोग खाद्य उत्पाद की ऑनलाइन बिक्री पहली बार करने जा रहे हैं। हमने 2011 से चपाती बनाना और इसकी बिक्री प्रारंभ की थी। वियूर जेल पहली ऐसा जेल है, जहां व्यावसायिक तौर पर चपाती बनाने और उसकी बिक्री शुरू की। इसका आइडिया जेल के पुलिस महानिदेशक ऋषिराज सिंह ने दिया था।

 

छह किमी के दायरे में होगी बिक्री

उन्होंने बताया कि जेल का खाना अपनी गुणवत्ता और कम कीमत के कारण लोगों के बीच अधिक लोकप्रिय है। हमने वियूर जेल से कई प्रकार की बिरयानी, नॉन-वेज करी, बेकरी आइटम आदि बेचनी शुरू की है। हमने काउंटर के माध्यम से भी बिक्री प्रारंभ करने के बारे में सोचा है, लेकिन फिलहाल कॉम्बो बिरयानी की ऑनलाइन बिक्री ही शुरू करने का फैसला किया गया। ऑनलाइन मांग के बाद अन्य आइटम भी बेचे जाएंगे। 

 

जेल को म्यूजियम में बदला जाएगा

वर्तमान में जेल प्रशासन की देखरेख में एक दिन में 25 हजार चपाती और 500 से अधिक बिरयानी की बिक्री की जाती है जिसे 100 कैदियों द्वारा तैयार किया जाता है। राज्य जेल विभाग एक ऐसे पोर्टल खोलने के प्रस्ताव पर भी विचार कर रहा है जहां पर आम आदमी कुछ शुल्क चुका कर एक दिन जेल के वातावरण को महसूस करने के लिए खुद को रजिस्टर्ड कर सकेंगे। उन्होंने कहा कि थ्रिसूर जिले में स्थापित वियूर जेल परिसर को आनेवाले दिनों में "पे एंड यूज' जैसी पहल के माध्यम से अनोखे म्यूजियम में बदले जाने की योजना है। 

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना