पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • National
  • Former Attorney General Soli Sorabjee Passed Away, Breathed His Last At The Age Of 91, Was Infected With Corona

पूर्व अटॉर्नी जनरल का कोरोना से निधन:सोली सोराबजी का 91 साल की उम्र में निधन, कोरोना संक्रमित थे; PM मोदी ने जताया शोक

नई दिल्ली5 महीने पहले
पूर्व अटार्नी जनरल के निधन पर पीएम मोदी के साथ- साथ राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने भी ट्वीट कर शोक व्यक्त किया है। (फाइल फोटो)

देश के पूर्व अटॉर्नी जनरल सोली सोराबजी का शुक्रवार सुबह 91 साल की उम्र में निधन हो गया। दिल्ली के एक प्राइवेट अस्पताल में उन्होंने आखिरी सांस ली। कोरोना संक्रमित होने के चलते उन्हें यहां भर्ती करवाया गया था।

2002 में पद्म विभूषण से नवाजे गए
सोली सोराबजी का जन्म 1930 में हुआ था, 1953 में उन्होंने बॉम्बे हाईकोर्ट से अपनी प्रैक्टिस शुरू की। सोराबजी 1989 से 1990 तक अटॉर्नी जनरल रहे, दूसरे बार ये जिम्मेदारी उन्होंने 1998 से 2004 तक निभाई। 2002 में उन्हें पद्म विभूषण सम्मान भी मिला। करीब सात दशक तक कानूनी पेशे से जुड़े रहे। बड़े मानवाधिकार वकीलों में सोराबजी की गिनती होती थी।

1997 में UNO के दूत बनकर नाइजीरिया गए
1997 में यूनाइटेड नेशन्स ने उन्हें नाइजीरिया में मानवाधिकार के मामलों की जांच के लिए विशेष दूत बनाकर भेजा था। जहां से लौट कर उन्होंने अपनी रिपोर्ट संयुक्त राष्ट्र को सौंपी। इसके साथ ही उनकी छवि मानवाधिकार के क्षेत्र में काम करने वाले एक महान व्यक्तित्व के रूप में बन गई।

UN-सब कमीशन के चेयरमैन रहे
ऑस्ट्रेलिया और भारत के बीच बाईलैटरल लीगल रिलेशंस की सर्विस के लिए मार्च 2006 में उन्हें ऑर्डर ऑफ ऑस्ट्रेलिया का ऑनरेरी मेंबर चुना गया। 1998-2004 के बीच मानवाधिकारों की रक्षा और इसे बढ़ावा देने के लिए बनी UN-सब कमीशन के चेयरमैन रहे। सोराबजी की गिनती उन वकीलों में होती है, जिन्होंने भारत के संवैधानिक कानूनों के विस्तार में प्रमुख भूमिका निभाई है।

PM मोदी और राष्ट्रपति ने जताया शोक
पूर्व अटॉर्नी जनरल के निधन पर PM नरेंद्र मोदी के साथ-साथ राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने भी ट्वीट कर शोक व्यक्त किया है। प्रधानमंत्री मोदी ने अपने संदेश में लिखा, 'सोली सोराबजी एक उत्कृष्ट वकील और बुद्धिजीवी थे। कानून के माध्यम से, वह गरीबों और दलितों की मदद करने में सबसे आगे थे'। तो वहीं राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने लिखा, 'सोली सोराबजी के निधन से हमने भारत की कानूनी प्रणाली का एक चिह्न खो दिया।'

खबरें और भी हैं...