• Hindi News
  • National
  • Haryana Election 2019; Ashok Tanwar Resign from Congress Ahead of Haryana Assembly Vidhan Sabha Election 2019

हरियाणा विस चुनाव / पूर्व प्रदेशाध्यक्ष अशोक तंवर ने कांग्रेस छोड़ी, कहा- अब यह ठेकेदारों की पार्टी

अशोक तंवर। (फाइल फोटो) अशोक तंवर। (फाइल फोटो)
X
अशोक तंवर। (फाइल फोटो)अशोक तंवर। (फाइल फोटो)

  • अशोक तंवर ने विधानसभा चुनाव में टिकट बंटवारे के लिए 13 सुझाव दिए, लेकिन इन्हें नहीं माना गया
  • उन्होंने पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा पर हरियाणा कांग्रेस को हाईजैक करने का आरोप लगाया है
  • हरियाणा में विधानसभा चुनाव के लिए 21 अक्टूबर को मतदान, नतीजे 24 तारीख को आएंगे

दैनिक भास्कर

Oct 05, 2019, 07:18 PM IST

पानीपत. हरियाणा के पूर्व कांग्रेस अध्यक्ष अशोक तंवर ने शनिवार को पार्टी की प्राथमिक सदस्यता से इस्तीफा दे दिया है। उन्होंने अपने ट्विटर हैंडल पर इस्तीफा पोस्ट किया है। दो दिन पहले तंवर ने हरियाणा कांग्रेस की सभी चुनाव समितियों से इस्तीफा दे दिया था। वे विधानसभा चुनाव में उम्मीदवारों के चयन को लेकर नाराज हैं और टिकट वितरण में खरीद-फरोख्त का आरोप लगा चुके हैं। उनका आरोप है कि कांग्रेस को एक आदमी ने हाईजैक कर लिया है। कांग्रेस अब ठेकेदारों की कांग्रेस हो गई है। हरियाणा कांग्रेस अब हुड्डा कांग्रेस बन चुकी है। हरियाणा में विधानसभा के लिए 21 अक्टूबर को मतदान होना है, नतीजे 24 तारीख को आएंगे।

 

तंवर ने कहा, ''मैंने 26 साल कांग्रेस को दिए और खून-पसीना एक कर पार्टी को बचाया। फिलहाल जिस तरह की व्यवस्था है, मैं समझता हूं कि लाखों साथियों की राजनीतिक हत्याएं कर दी गईं और कुछ की होनी बाकी है। इसमें मैं भी शामिल हूं, मेरी भी राजनीतिक हत्या की गई है। बहुत से लोग हैं, जो पार्टी छोड़कर जा चुके हैं। यह माहौल किसने बनाया, इसे बताने की जरूरत नहीं है। कुछ लोग कहते हैं भारत को कांग्रेस मुक्त करना है, लेकिन कांग्रेस के कुछ अंदरुनी लोग कांग्रेस को भारत और हरियाणा से मुक्त करना चाहते हैं।''

 

'भाजपा और दूसरी पार्टियों से ऑफर मिले, पर नहीं गया'

तंवर ने कहा कि कुछ लोग 5 साल तक एसी कमरों में बैठते हैं, विदेश यात्राएं करते हैं, पैसा उन्होंने कमा रखा है। चुनाव से ठीक पहले प्रकट हो जाते हैं, जैसे वे देवता हों, लेकिन उनके कर्म देवता वाले नहीं हैं। मेरे जैसे साधारण परिवारों से आए लोगों को मौका नहीं मिलता और अगर मिला भी तो कई बाधाएं खड़ी हो जाती हैं। मुझे भाजपा और दूसरी पार्टियों से ऑफर मिले, लेकिन मैंने ऐसा नहीं किया। कांग्रेस अब ठेकेदारों की कांग्रेस हो गई है।

 

 

 

कांग्रेस ने अशोक तंवर के 13 सुझाव नहीं माने थे

तंवर ने कहा था कि उन्होंने उम्मीदवार चयन के लिए 13 सुझाव भेजे थे। इसमें पिछड़े, मुस्लिम और सिखों को सही अनुपात में टिकट देने के लिए कहा था। इसके अलावा कर्मचारी नेता और ट्रेड यूनियन के किसी प्रतिनिधि को टिकट देने की मांग की थी। जेजेपी और इनेलो से आए नेताओं को टिकट न देने जैसे सुझाव थे। लेकिन टिकट वितरण में उनकी इन बातों को नहीं माना गया।

 

दिल्ली में कांग्रेस मुख्यालय के बाहर धरना दिया था 

पत्र में लिखा था कि ये विषय उन्होंने अपने वरिष्ठ कांग्रेस नेताओं के सामने उठाए थे। लेकिन एक धड़ा कांग्रेस की 134 साल पुरानी विरासत को खत्म करना चाहता है। उन्हें लगता है कि कांग्रेस को एक आदमी ने हाईजैक कर लिया। हरियाणा कांग्रेस अब हुड्डा कांग्रेस बन गई है। उन्होंने दिल्ली में कांग्रेस मुख्यालय के बाहर समर्थकों के साथ धरना भी दिया था।

 

DBApp

 

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना