• Hindi News
  • National
  • Gandhinagar Mumbai Vande Bharat Express Accident; Train Collided With Buffaloes In Ahmedabad

भैंसों के झुंड से टकराई वंदेभारत एक्सप्रेस ट्रेन:अहमदाबाद में हुई घटना, ट्रेन के फ्रंट का हिस्सा टूटा

अहमदाबाद4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

वंदेभारत एक्सप्रेस ट्रेन गुरुवार को अहमदाबाद रेलवे स्टेशन के पास भैंसों के झुंड से टकरा गई। इसमें वंदेभारत एक्सप्रेस ट्रेन का फ्रंट का हिस्सा टूट गया। यह घटना सुबह करीब 11 बजे हुई। इसके बाद कुछ देर के लिए ट्रेन खड़ी रही है। हालांकि ट्रेन को 11:27 बजे फिर रवाना किया गया।

PM ने दिखाई थी हरी झंडी
PM मोदी ने 30 सितंबर को गांधीनगर स्टेशन पर गांधीनगर-मुंबई सेंट्रल वंदे भारत एक्सप्रेस को हरी झंडी दिखाकर रवाना किया था। यह देश की तीसरी वंदे भारत ट्रेन है। प्रधानमंत्री ने गांधीनगर से कालूपुर तक नई ट्रेन में सफर भी किया था। ट्रेन में उनके साथ रेलवे कर्मचारी, महिला उद्यमी और कई युवा भी मौजूद रहे।

देश की पहली हाई स्पीड ट्रेन है वंदे भारत एक्सप्रेस
देश की पहली हाई स्पीड ट्रेन वंदे भारत एक्सप्रेस अभी तीन रूटों पर चल रही है। दिल्ली से वाराणसी, दिल्ली से कटरा और अभी 30 सितंबर को ही गुजरात के गांधी नगर से मुंबई के लिए वंदे एक्सप्रेस की सेवा शुरू हुई है। वंदे भारत एक्सप्रेस देश की सबसे तेज गति वाली ट्रेन है। इसकी गति सीमा 180 किलोमीटर प्रति घंटे है। आने वाले कुछ माह में ही यह 200 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से दौड़ने लगेगी।

वंदे भारत एक्सप्रेस में यात्रियों की सुरक्षा और आराम का खास ख्याल रखा गया है। इसमें रिक्लाइनिंग सीट लगाई गई है. इसमें ऑटोमैटिक फायर सेंसर की व्यवस्था की गई है. इसमें सीसीटीवी कैमरे, वाईफाई सुविधा के साथ अपग्रेडेड ट्रेन में तीन घंटे का बैटरी बैकअप भी है।

देश में पहली बार पानी का गिलास रखकर 180 की स्पीड से दौड़ाई ट्रेन

वंदेभारत एक्सप्रेस सेमी हाई स्पीड ट्रेन 24 अगस्त को कोटा स्टेशन पर स्पीड ट्रायल के लिए पहुंची थी। कोटा में 6 ट्रायल हुए। पहला ट्रायल कोटा और घाट का बराना, दूसरा घाट का बराना और कोटा, तीसरा कुर्लासी और रामगंज मंडी के बीच डाउन लाइन पर, चौथा और पांचवां कुर्लासी और रामगंज मंडी और छठवां रामगंज मंडी और लबान डाउन लाइन पर हुआ था। ट्रायल के दौरान ट्रेन की स्पीड 180 किलोमीटर प्रति घंटा थी। पानी का भरा हुआ गिलास रखकर ये ट्रायल किए गए, लेकिन 180 की स्पीड के बावजूद पानी नहीं छलका।