मंडे पॉजिटिव / '4 दिन हो गए कश नहीं लिया, सिगरेट दो ना !' कहकर सिगरेट छुड़ा रही 7 साल की बच्ची



ये व्हाट्सएप मैसेज कर धूम्रपान के खतरे बताती हैं। ये व्हाट्सएप मैसेज कर धूम्रपान के खतरे बताती हैं।
X
ये व्हाट्सएप मैसेज कर धूम्रपान के खतरे बताती हैं।ये व्हाट्सएप मैसेज कर धूम्रपान के खतरे बताती हैं।

  • हृदया के चाचा की कैंसर से मौत हो गई थी, इसके बाद से उसने सिगरेट के खिलाफ यह मुहिम शुरू की
  • उसने अब तक 50 लोगों की लत छुड़ाई, सिगरेट छुड़ाने के लिए 28 दिन लगातार मैसेज भेजती है

Dainik Bhaskar

Jun 17, 2019, 03:46 PM IST

नासिक (भूषण महाले). ‘चाचा, चार दिन हो गए कश नहीं लिया। दो-तीन कश दो ना...' सात साल की बच्ची जब यह कहती है तो पान की दुकान पर खड़े लोगों के हाथ से सिगरेट खुद-ब-खुद गिर जाती है। फिर बच्ची उस शख्स को वॉट्सऐप ग्रुप से जोड़ती है और शुरू हो जाता है क्विट टोबैको कैंपेन। कैंपेन से जुड़ने के बाद 50 लोग तंबाकू छोड़ चुके हैं। जानिए हृदया की कहानी उनकी ही जुबानी...

 

सिगरेट छुड़ाने के लिए 28 दिन लगातार मैसेज भेजती हैं


"मेरे चाचा को सिगरेट की वजह से कैंसर हो गया था। उन्हें पता था कि सिगरेट पीना बुरी बात है फिर भी वे बार-बार सिगरेट पीते थे। पर यह बात मुझे अच्छी नहीं लगती थी। मैंने पापा से पूछा कि क्या लोगों को पता है कि सिगरेट से कैंसर होता है? पापा ने कहा-हां। मैंने पूछा फिर वो सिगरेट क्यों पीते हैं। तो उन्होंने कहा कि पता नहीं। मैंने पूछा कि अगर मैं लोगों को मना करूं तो क्या वे सिगरेट नहीं पीएंगे। उन्होंंने कहा, तुम्हें कहकर देखना चाहिए। उसके बाद जब भी मैं पान की दुकान पर किसी अंकल को सिगरेट पीते देखती हूं तो उनके पास जाती हूं और उनसे सिगरेट पीने के लिए मांगती हूं। अपने सामने मुझ छोटी सी बच्ची को देखकर वे सिगरेट गिरा देते हैं। फिर मैं उनसे कहती हूं कि सिगरेट नहीं पीना चाहिए। उन्हें कैंपेनग्रुप में जोड़ती हूं और रोज सिगरेट छोड़ने के वीडियो उन्हें भेजती हूं। जब कोई सिगरेट छोड़ता है, तो मुझे अच्छा लगता है। अभी मैं घर पर ही रहकर पढ़ाई करती हूं। ताकि इस कैंपेन में हर रोज ज्यादा वक्त दे सकूं।"

 

COMMENT