• Hindi News
  • National
  • Goa Congress BJP MLA Updates; Digambar Kamat On Bhagwan Ji Permission | Goa Vidhayak News

गोवा के पूर्व CM की सफाई:दिगंबर बोले- भाजपा में शामिल होने के लिए भगवान ने दी थी परमिशन, कहा- आगे बढ़ो चिंता मत करो

पणजी3 महीने पहले

गोवा में बीते दिनों हुई सियासी उठा पटक के बीच भाजपा में शामिल होने वाले पूर्व CM दिगंबर कामत का बयान सामने आया है। उन्होंने कहा कि हमने भाजपा में शामिल होने से पहले भगवान से परमिशन मांगी थी और भगवान ने इस पर सहमति दी थी। दरअसल, गोवा कांग्रेस के 11 में से 8 विधायक बुधवार यानी 14 सितंबर को पार्टी छोड़ कर भाजपा में शामिल हो गए। सभी विधायक मुख्यमंत्री प्रमोद सावंत के साथ विधानसभा पहुंचे थे और स्पीकर रमेश तावड़कर को कांग्रेस से अलग होने की चिट्ठी सौंपी थी।

कांग्रेस छोड़ने वाले विधायक में गोवा के पूर्व CM दिगंबर कामत, माइकल लोबो, देलिया लोबो, केदार नाइक, राजेश फलदेसाई, एलेक्सो स्काइरिया, संकल्प अमोलकर और रोडोल्फो फर्नांडीज शामिल हैं।

कामत बोले- यह सच है कि कांग्रेस नहीं छोड़ने की शपथ ली थी
कामत ने कहा कि वह भगवान में विश्वास करते हैं। यह बात सच है कि चुनाव से पहले उन्होंने कांग्रेस नहीं छोड़ने की शपथ ली थी, लेकिन उन्होंने खुद को आसानी से आउट कर दिया। उन्होंने कहा कि मैं फिर से मंदिर गया भगवान से कहा कि मेरे दिमाग मैं आ रहा है कि भाजपा में शामिल होना चाहिए। भगवान मैं क्या करूं। भगवान ने मुझसे कहा कि तुम आगे बढ़ो चिंता मत करो, जो तुम्हारे लिए सबसे अच्छा हो वही करो।

4 फरवरी 2022 को राहुल गांधी ने पणजी में कांग्रेस कैंडिडेट्स को कांग्रेस नहीं छोड़ने की शपथ दिलाई थी।
4 फरवरी 2022 को राहुल गांधी ने पणजी में कांग्रेस कैंडिडेट्स को कांग्रेस नहीं छोड़ने की शपथ दिलाई थी।

चुनाव से पहले राहुल ने दिलाई थी शपथ
विधानसभा चुनाव से पहले फरवरी में राहुल गांधी ने कांग्रेस के सभी उम्मीदवारों को 5 साल तक पार्टी नहीं छोड़ने की शपथ दिलाई थी। कांग्रेस ने इस दौरान सभी उम्मीदवारों से एक शपथ पत्र पर हस्ताक्षर भी करवाए थे। हलफनामा देते हुए विधायकों ने कहा था कि 5 साल तक पार्टी नहीं छोड़ेंगे और कांग्रेस में रहकर गोवा की जनता का सेवा करते रहेंगे।

कांग्रेस ने कहा- अब टिकट देने से पहले लोगों को जानना होगा
कांग्रेस नेता दिनेश गुंडू राव ने कामत पर तंज कसते हुए कहा कि कामत ने कई बड़े बयान दिए थे। मंदिरों में शपथ भी ली थी। इससे पता चलता है कि वे कितने दिवालिया हो गए हैं। उन्होंने कहा हमें पहले यह जानना होगा कि हम किस तरह के लोगों को टिकट देते हैं, जिनके लिए सत्ता ही सब कुछ है, विचारधारा कुछ भी नहीं है।