2.5 लाख स्क्वेयर फीट के खेत में 7 दिन पहले घास लगाई, पानी दिया, घास सूखी तो इस तरह नजर आए शिवाजी

4 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
  • महेश निपाणीकर ने बनाई देश की पहली ग्रास पेंटिंग
  • पिछली साल रंगोली से बनाई थी  शिवाजी महाराज की आकृति

लातूर.  महाराष्ट्र के लातूर में शिवाजी जयंती पर मंगलवार को देश की पहली ग्रास पेंटिंग (घास उगाकर) बनाई गई। इसे लातूर जिले के निलंगा के एक खेत में बनाया गया। शिवाजी महाराज की इस भव्य आकृति का निर्माण अक्का फाऊंडेशन की ओर से 2.5 लाख स्क्वेयर फीट के खेत में किया गया। घास उगाकर बनाई गई यह कलाकृति मंगेश निपाणीकर ने तैयार की है।

 

पिछले साल अरविंद पाटील निलंगेकर ने रंगोली से शिवाजी महाराज की आकृति बनाई थी। इसे देखने के बाद ही मंगेश ने इस साल कुछ अलग करने की चाह में बनाया है। इसके लिए 7 दिनों पहले निलंगा शहर के दाबका रोड पर 6 एकड़ के इलाके में घास रोपण किया गया था। मंगलवार को घास के सूखकर हरा होने पर शिवाजी की यह आकृति नजर आई तो देखने वालों ने इसे काफी सराहा। 

 

डेढ़ हजार किलो बीज रोपकर उगाई थी घास : छत्रपति वीर शिवाजी की जयंती के अवसर पर इस ग्रास पेंटिंग को बनाने वाले कलाकार मंगेश निपाणीकर का कहना है कि करीब डेढ़ हजार किलो बीज का इस्तेमाल किया गया। आकृति का का साइज तय कर इसमें हफ्तेभर पहले घास रोपी गई। थ्री डी इफेक्ट लाने के लिए इसमें ग्राफ्टिंग भी की गई। आम लोगों को इसे आसानी से देखने मिले इसके लिए खेत के चारों ओर चार बड़ी स्क्रीन भी लगाई गई है।

 

पिछले साल बनाई थी सबसे बड़ी रंगोली : लातूर में पिछले साल शिवाजी जयंती पर देश की सबसे बड़ी रंगोली बनाई गई थी। ढाई एकड़ क्षेत्र में बनाई गई रंगोली में 50 हजार किलो रंग का इस्तेमाल किया गया था। 50 से ज्यादा लोगों ने इसमें लगातार 72 घंटे तक रंग भरकर इसे पूरा किया था। इसे बनाने वालों में मंगेश निपाणीकर और अरविंद पाटील दोनों शामिल थे।

 

\"shivaji\"

 

खबरें और भी हैं...