• Hindi News
  • National
  • Gujarat Election Congress Manifesto Update; Ashok Gehlot, Rahul Gandhi | Gujarat MLA

नरेंद्र मोदी स्टेडियम का नाम बदलेगी कांग्रेस:मधुसूदन मिस्त्री बोले- मोदी कभी पटेल नहीं बन सकते; चुनाव में औकात दिख जाएगी

अहमदाबाद3 महीने पहले
राजस्थान के CM अशोक गहलोत ने गुजरात कांग्रेस नेताओं के साथ विधानसभा चुनाव का घोषणापत्र जारी किया।

कांग्रेस ने गुजरात चुनाव के लिए शनिवार को अहमदाबाद में पार्टी का घोषणा पत्र जारी किया। इसमें 10 लाख सरकारी नौकरियां, किसानों की कर्ज माफी और हर महीने 300 यूनिट तक फ्री बिजली देने का वादा किया। कांग्रेस ने अपने मेनिफेस्टो में भारी-भरकम दावे किए, लेकिन इसमें वादों से ज्यादा विवादों की छाया नजर आ रही है।

जानिए घोषणा पत्र में क्या-क्या खास है...

कांग्रेस नेता मधुसूदन मिस्त्री गुजरात से हैं। वे पार्टी का घोषणा पत्र जारी करने के समय मौजूद थे।
कांग्रेस नेता मधुसूदन मिस्त्री गुजरात से हैं। वे पार्टी का घोषणा पत्र जारी करने के समय मौजूद थे।

नरेंद्र मोदी स्टेडियम का नाम बदलकर सरदार पटेल करेंगे
पार्टी ने अहमदाबाद में नरेंद्र मोदी स्टेडियम का नाम बदलकर सरदार पटेल करने का वादा किया है। वहीं, बिलकिस बानो गैंगरेप केस के दोषियों की रिहाई रद्द कर उन्हें फिर जेल भेजने की बात भी कही। एक न्यूज चैनल से बात करते हुए पार्टी नेता मधुसूदन मिस्त्री ने तो यह तक कह दिया कि मोदी कभी पटेल नहीं बन सकते। उन्होंने कहा- इस चुनाव में उन्हें औकात दिख जाएगी।

10 लाख नौकरियां, कर्ज माफी और फ्री बिजली
कांग्रेस ने अपने घोषणा पत्र में कहा कि सत्ता में आने पर 10 लाख युवाओं को सरकारी नौकरी दी जाएगी। इनमें महिलाओं को 50% आरक्षण मिलेगा। सरकारी की भर्ती में भ्रष्टाचार और बार-बार पेपर लीक होने की घटनाओं को रोकने के लिए फास्ट ट्रैक कोर्ट बनाने का वादा भी किया गया है। साथ ही बेरोजगारों को 3000 रुपए बेरोजगारी भत्ता देने का वादा किया है।

कांग्रेस ने किसानों की कर्ज माफी करने, हर घर को 300 यूनिट तक फ्री बिजली देने जैसे वादे भी शामिल हैं। नीचे दिए ग्राफिक में गुजरात विधानसभा चुनाव के लिए कांग्रेस के 10 बड़े वादों के बारे में जान सकते हैं...

मेनिफेस्टो में किसके लिए क्या है, इसे यहां समझिए...
1. गृहणियों के लिए- कांग्रेस ने वचनपत्र में कहा है कि गृहणियों को 500 रुपए में गैस सिलेंडर दिए जाएंगे। गैंस सिलेंडर पर बाकी के रुपए सरकार सब्सिडी के रूप में भरेगी।

2. छात्रों के लिए- छात्रों की शिक्षा के लिए विशेष योजनाएं बनाई जाएगी। उच्च शिक्षा की फीस में 20% की कमी की जाएगाी। अन्य सेवा शुल्क खत्म किए जाएंगे।

3. किसानों के लिए- किसानों के कर्ज माफ किए जाएंगे। तालाब बनाने के लिए सरकार सब्सिडी देगी। नहर से खेत तक फ्री में पानी पहुंचाने की व्यवस्था की जाएगी।

4. दलित-ओबीसी और अल्पसंख्यकों के लिए- स्थानीय निकाय चुनावों में इन समुदायों को आरक्षण दिया जाएगा। भर्ती प्रक्रिया में भी प्राथमिकता देकर अंत्योदय के सिद्धांतों को लागू किया जाएगा।

5. पंचायत सेवकों के लिए- पंचायतों से छीनी गई शक्तियां उन्हें वापस लौटाईं जाएंगी। भ्रष्टाचार की रोकथाम और मनरेगा के लिए समय पर भुगतान को प्राथमिकता दी जाएगी।

मेनिफेस्टो जारी करने से पहले गुजरात कांग्रेस के नेताओं के साथ राजस्थान के CM अशोक गहलोत ने मीटिंग की। गहलोत पार्टी के इलेक्शन ऑब्जर्वर हैं।
मेनिफेस्टो जारी करने से पहले गुजरात कांग्रेस के नेताओं के साथ राजस्थान के CM अशोक गहलोत ने मीटिंग की। गहलोत पार्टी के इलेक्शन ऑब्जर्वर हैं।

6 लाख लोगों से पूछकर बनाया मेनिफेस्टो
राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा- कांग्रेस हमेशा से मेनिफेस्टो को महत्व देती है। सोनिया गांधी का सख्त निर्देश रहता था कि मेनिफेस्टो को प्रायोरिटी में रखें। उन्होंने कहा- राहुल गांधी ने जो वचन दिए हैं, वो हर हाल में पूरा किया जाएगा। 6 लाख लोगों से पूछकर हमने मेनिफेस्टो बनाया है।

गुजरात चुनाव से जुड़ी भास्कर की ये खास खबरें भी पढ़ें...

गुजरात विधानसभा चुनाव में राहुल गांधी निष्क्रिय

भारत जोड़ो यात्रा में कन्याकुमारी से कश्मीर निकले राहुल गांधी, लेकिन गुजरात को छोड़ दिया।
भारत जोड़ो यात्रा में कन्याकुमारी से कश्मीर निकले राहुल गांधी, लेकिन गुजरात को छोड़ दिया।

गुजरात में चुनावी ढोल बजे उससे पहले ही PM नरेंद्र मोदी जनसभा रैली कर लौट गए। अभी तक राहुल गांधी ने यहां चुनाव से संबंधी सभा या रोड शो नहीं किया है। इस बार आम आदमी पार्टी (AAP) भी प्रचार कर रही है। पार्टी सूत्रों की मानें तो कांग्रेस का कुछ और ही प्लान है। गुजरात चुनाव में लड़ाई मोदी और राहुल के बीच होती है, जिसमें भाजपा को फायदा होता है। इस स्थिति से बचने राहुल को गुजरात से अलग रखा है। पूरी खबर पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें...

कम अंतर से हारी हुई सीटों पर कांग्रेस का ज्यादा फोकस

सूरत पूर्व, वराछा रोड, बारडोली और महुआ सीट पर पिछले चुनाव में कांग्रेस ने भाजपा को दी थी कड़ी टक्कर।
सूरत पूर्व, वराछा रोड, बारडोली और महुआ सीट पर पिछले चुनाव में कांग्रेस ने भाजपा को दी थी कड़ी टक्कर।

कांग्रेस ने सूरत शहर और ग्रामीण की सात सीटों पर अपने उम्मीदवार घोषित कर दिए हैं। गुरुवार को भाजपा के उम्मीदवार घोषित करने के बाद कांग्रेस भी जल्द ही बाकी की सीटों पर प्रत्याशी घोषित कर सकती है। इस बार कांग्रेस का फोकस उन सीटों पर ज्यादा है, जहां 2017 के विधानसभा चुनाव में उसके उम्मीदवार कम अंतर से हारे थे। इन सीटों पर उसे जीत की आस है। इसमें दो सीटें सूरत शहर और दो ग्रामीण की हैं। पूरी खबर पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें...

बीजेपी में भी भाई-भतीजावाद! लिस्ट में 12 नेताओं के रिश्तेदार

राजकोट जिले में सबसे ज्यादा मंत्रियों के 4 रिश्तेदारों को टिकट दिया गया है।
राजकोट जिले में सबसे ज्यादा मंत्रियों के 4 रिश्तेदारों को टिकट दिया गया है।

वैसे तो बीजेपी हमेशा यही दावा करती है कि पार्टी में भाई-भतीजावाद की कोई जगह नहीं है, लेकिन असल में ऐसा है नहीं। अगर गुजरात के विधानसभा चुनावों के लिए बीजेपी की ओर से जारी की गई 160 कैंडिडेट्स की लिस्ट ही देख लें पता चलता है कि इनमें 12 उम्मीदवार पूर्व और वर्तमान में भाजपा नेताओं के रिश्तेदार हैं। पूरी खबर पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें...