पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • National
  • Haridwar Kanwar Yatra 2021 News; Uttarakhand Coronavirus | Har Ki Pauri Sealed For Kanwariyas From July 24 To August 6

सावन से पहले हरिद्वार सील:कांवड़ियों के लिए शहर में नो एंट्री, रोकने के लिए पुलिस तैनात; लेकिन घूमने आए लोगों पर पाबंदी नहीं

हरिद्वार2 महीने पहले

सावन शुरू होने से पहले उत्तराखंड पुलिस ने हरिद्वार को सील कर दिया है। पुलिस का कहना है कि कांवड़ यात्रा के लिए किसी को शहर में नहीं आने दिया जाएगा। कोरोना के बढ़ते मामलों को देखकर राज्य सरकार ने कांवड़ यात्रा रद्द कर दी थी, जिसके बाद हरिद्वार में कांवड़ियों की एंट्री बैन कर दी गई है।

सावन के साथ कांवड़ यात्रा भी रविवार से शुरू हो रही है। कांवड़िए हर की पौड़ी से गंगाजल भरकर अपनी यात्रा शुरू करते हैं। लिहाजा, यहां गंगा घाट पर 24 जुलाई से 6 अगस्त तक के लिए कांवड़ियों के आने पर पाबंदी लगा दी गई है। उत्तर प्रदेश, हिमाचल प्रदेश, पंजाब, दिल्ली और हरियाणा के अधिकारियों ने हरिद्वार में हुई एक बैठक में यह फैसला लिया था। सावन का महीना 22 अगस्त तक चलेगा।

गुरु पूर्णिमा के पर हर की पौड़ी घाट पर गंगा नदी में डुबकी लगाते श्रद्धालु।
गुरु पूर्णिमा के पर हर की पौड़ी घाट पर गंगा नदी में डुबकी लगाते श्रद्धालु।
हर साल लाखों कांवड़िए गंगा जल लाने के लिए कांवड़ यात्रा निकालते हैं।
हर साल लाखों कांवड़िए गंगा जल लाने के लिए कांवड़ यात्रा निकालते हैं।

पर्यटकों पर पाबंदी नहीं होगी
उत्तराखंड के DGP के बताया कि कांवड़ यात्रा को राज्य सरकार ने बैन किया है, ऐसे में किसी भी व्यक्ति काे उत्सव मनाने के लिए हरिद्वार में एंट्री नहीं दी जाएगी। यह नियम बसों और ट्रेनों पर भी लागू होता है। उन्होंने कहा कि राज्य के दूसरे इलाकों से आने वाले पर्यटकों को नहीं रोका जाएगा। बशर्ते उनके पास कोरोना की नेगेटिव रिपोर्ट हो और हरिद्वार आने से पहले उन्होंने स्मार्ट सिटी पोर्टल पर रजिस्ट्रेशन कराया हो।

नियम नहीं माना तो होगी कार्रवाई
DGP ने कहा कि हरिद्वार के बॉर्डर पर फोर्स तैनात की गई है। उन्हें हरिद्वार की तरफ आने वाले कांवड़ियों को वापस भेजने को कहा गया है। अगर कोई व्यक्ति नियम नहीं मानेगा, तो उसके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। उन्होंने यह भी कहा कि अगर कोई व्यक्ति नियमों के दायरे में रहकर जल लेने के लिए टैंकर भेजता है, तो हम गंगाजल एकत्र करने में उसकी मदद करेंगे।

2016 में उत्तर प्रदेश के फकीर चंद्र अपनी 101 साल की मां को लेकर कांवड़ यात्रा पर गए थे।
2016 में उत्तर प्रदेश के फकीर चंद्र अपनी 101 साल की मां को लेकर कांवड़ यात्रा पर गए थे।
कोरोना महामारी के चलते लगातार दूसरे साल उत्तराखंड सरकार ने कांवड़ यात्रा रद्द की है।
कोरोना महामारी के चलते लगातार दूसरे साल उत्तराखंड सरकार ने कांवड़ यात्रा रद्द की है।

5 राज्यों ने लगाया है कांवड़ यात्रा पर बैन
हर साल लाखों की संख्या में श्रद्धालु सावन के महीने में कांवड़ यात्रा निकालते हैं। कांवड़िए उत्तराखंड के हरिद्वार, गौमुख और गंगोत्री से और बिहार के सुल्तानगंज से गंगाजल ले जाकर भगवान शिव पर अर्पित करते हैं। कोरोना के चलते यह लगातार दूसरा साल है जब उत्तराखंड सरकार ने कांवड़ यात्रा पर रोक लगाई है। उत्तर प्रदेश, दिल्ली, बिहार, राजस्थान और झारखंड ने भी यात्रा पर बैन लगाया है।

खबरें और भी हैं...