• Hindi News
  • National
  • Heavy Rain Monsoon Reach Odisha Gujarat, East Bihar, Proceeded Towards Bengal Barish

गुवाहाटी में मूसलाधार बारिश से जगह-जगह लैंडस्लाइड:48 घंटे में ओडिशा में पहुंचेगा मानसून; गुजरात-बंगाल में बारिश होगी, MP में दो दिन और इंतजार

नई दिल्ली5 महीने पहले

असम में मूसलाधार बारिश से जगह-जगह लैंडस्लाइड से आफत मची हुई है। दो दिन से जारी बारिश से जगह-जगह पानी जमा हो गया है। मंगलवार को लैंडस्लाइड से चार लोगों की जान भी चली गई थी। असम में बारिश के कोहराम के बीच देश के कई राज्यों को मानसून की दस्तक का इंतजार है। उम्मीद है कि शनिवार तक ओडिशा में मानसून पहुंच जाएगा।

गुवाहाटी के कई रास्ते बंद, मंगलवार से नहीं बिजली

गुवाहाटी में बारिश के दौरान तेज हवाएं चलने से पेड़ भी गिरे। ऑटो पर पेड़ गिरने से वह क्षतिग्रस्त हो गया। उसे बुलडोजर से हटाया गया।
गुवाहाटी में बारिश के दौरान तेज हवाएं चलने से पेड़ भी गिरे। ऑटो पर पेड़ गिरने से वह क्षतिग्रस्त हो गया। उसे बुलडोजर से हटाया गया।

असम की राजधानी गुवाहाटी में लगातार दूसरे दिन अलग-अलग स्थानों हो रही बारिश के कारण शहर के अधिकतर हिस्सों में पानी भरने से रास्ते बंद हो गए हैं। भूस्खलन की वजह से मलबे का ढेर लगने के कारण गीतानगर, सोनापुर, कालापहाड़ और निजारापार इलाकों में रास्ते बंद हो गए हैं।

बारिश से प्रभावित इलाकों में तैनात NDRF और SDRF के जवान बाढ़ में फंसे लोगों को बचाने और उन्हें राहत सामग्री मुहैया कराने के लिए नावों का इस्तेमाल कर रहे हैं। मंगलवार से यहां बिजली नहीं है। पीने के पानी के टैंकर बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों में भेजे गए हैं। जिला प्रशासन ने लोगों से अपील की है कि वे जरूरी काम होने पर ही अपने घरों से बाहर निकलें।

गुवाहाटी में लैंडस्लाइड के कारण रास्ते बंद हो गए हैं। इस कारण सड़क पर वाहनों की लंबी लाइन लगी हैं।
गुवाहाटी में लैंडस्लाइड के कारण रास्ते बंद हो गए हैं। इस कारण सड़क पर वाहनों की लंबी लाइन लगी हैं।

प्रशासन ने बंद कराए स्कूल-कॉलेज
क्षेत्रीय मौसम विज्ञान केंद्र (RMC) द्वारा बारिश की चेतावनी के बाद कामरूप मेट्रोपॉलिटन के उपायुक्त पल्लव गोपाल झा ने सभी स्कूल-कॉलेजों और शैक्षणिक संस्थानों को बंद रने का आदेश दिया है। मौसम विभाग ने चेतावनी दी है कि 17 जून तक असम में तेज बारिश जारी रहेगी।

3 राज्यों में 5 दिन तेज बारिश के आसार
गर्मी से बेहाल कुछ राज्यों में राहत की फुहारें बरसने जा रही हैं। अगले 48 घंटों के दौरान दक्षिण-पश्चिम मानसून के ओडिशा में दस्तक देने की संभावना है। मौसम विभाग के ताजा पूर्वानुमान के मुताबिक- बिहार, झारखंड और पश्चिम बंगाल में अगले पांच दिनों के दौरान गरज, तेज हवाओं के साथ बारिश शुरू होने की संभावना है। दक्षिण पश्चिम मानसून तमिलनाडु, केरल, कर्नाटक, कोंकण और गोवा के साथ ही पूर्वोत्तर भारत के राज्यों में पूरी तरह सक्रिय हो चुका है। दिल्ली में गुरुवार सुबह कुछ जगहों पर बारिश हुई।

आगे बढ़ रहा मानसून
आंध्र प्रदेश, तेलंगाना और गुजरात, पूर्वी बिहार में मानसून दस्तक दे चुका है। अब यह गुजरात, मध्य महाराष्ट्र, कर्नाटक, तेलंगाना, तटीय आंध्र प्रदेश और पश्चिम बंगाल के कुछ हिस्सों में आगे बढ़ा है। मौसम विभाग के भुवनेश्वर केंद्र ने कहा कि मलकानगिरी जिले के चित्रकोंडा और ओडिशा के दक्षिणी हिस्से में कुछ अन्य स्थानों पर पहले से ही प्री-मानसून बारिश शुरू हो गई है। तटीय राज्य के 16 जिलों में एक या दो स्थानों पर 24 घंटों में बिजली गिरने के साथ गरज के साथ छींटे पड़ने की संभावना है।

मौसम विभाग के मुताबिक, राजस्थान में 3-4 दिन तक अच्छी बारिश के आसार हैं।
मौसम विभाग के मुताबिक, राजस्थान में 3-4 दिन तक अच्छी बारिश के आसार हैं।

राजस्थान में तीन-चार दिन अच्छी बारिश के आसार
जयपुर, अलवर, टोंक जिलों के विभिन्न इलाकों में अच्छी बारिश हुई। जयपुर के दूदू, फुलेरा, सांभर में तेज बरसात के बाद किसानों ने खरीफ की बुवाई की तैयारियां शुरू कर दीं। अगले 3-4 दिन तक अच्छी बारिश के आसार हैं।

बिहार के कई इलाके भीगे, पटना में धूप-छांव का खेल
बिहार के पूर्णिया में बुधवार सुबह बारिश शुरू हुई। वहीं बेगूसराय और मुंगेर में दोपहर से शुरू हुई झमाझम बारिश के कारण तापमान में गिरावट आई है। राजधानी पटना में धूप और छांव का खेल जारी रहा। यहां गर्मी से लोग काफी परेशान हैं।

MP में मानसून आया और भोपाल में 19 या 20 जून को होगी एंट्री
मध्यप्रदेश में मानसून का इंतजार खत्म हुआ। मानसून की एंट्री गुरुवार को खंडवा-बैतूल के रास्ते हो चुकी है। इसी के साथ भोपाल, इंदौर और उज्जैन में छा गए। शाम तक कई जिलों में मानसून की पहली बारिश होगी। मानसून आते ही बैतूल, भिंड में डेढ़-डेढ़ इंच, मंदसौर और खंडवा में एक-एक इंच, ग्वालियर, दतिया, सीहोर व विदिशा में आधा-आधा इंच बारिश हुई। शिवपुरी, नर्मदापुरम, रायसेन और पचमढ़ी में भी बारिश हुई। पचमढ़ी में करीब 1 इंच बारिश हुई। भोपाल और दिन में अगले 72 घंटे में मानसून की एंट्री हो सकती है।

बुधवार तक मानसून के पहले की बौछारें गुजरात, राजस्थान, छत्तीसगढ़, झारखंड और बिहार के कुछ इलाकों में पड़ने लगी थीं। गुरुवार को ये मध्यप्रदेश के महाकौशल-विंध्याचल के साथ ही छत्तीसगढ़, झारखंड और बिहार में और ज्यादा सक्रिय हो गईं। कई इलाकों में गुरुवार सुबह से ही घने बादल छाने लगे थे। मौसम विभाग ने बताया कि अभी अरब से आना वाला मानसून बैतूल और खंडवा में ही सक्रिय है। यह शुक्रवार को आगे बढ़ सकता है। पढ़ें पूरी खबर...

मौसम विभाग का कहना है कि भोपाल में 19-20 जून तक मानसून दस्तक देगा।
मौसम विभाग का कहना है कि भोपाल में 19-20 जून तक मानसून दस्तक देगा।

48 घंटे के अंदर मानसून इंदौर में पहुंच सकता है। भोपाल में मानसून की एंट्री 20 जून के आसपास हो सकती है। बंगाल की खाड़ी से जबलपुर के रास्ते मानसून की एंट्री शुक्रवार को सकती है।

इंदौर में बुधवार को बादलों की लुकाछिपी का खेल चलता रहा।
इंदौर में बुधवार को बादलों की लुकाछिपी का खेल चलता रहा।

छत्तीसगढ़ के कई जिलों में औसत से भी कम हुई प्री-मानसून बारिश
जून का आधा महीना गुजरने वाला है लेकिन छत्तीसगढ़ अब भी सूखा है। रायपुर सहित कई ऐसे जिले हैं जहां प्री-मानसून बारिश जैसे हुई ही नहीं है। रायपुर में प्री-मानसून वर्षा का 10 साल में 200 मिमी का औसत है, लेकिन अब तक केवल 3 मिमी पानी ही बरसा है।

धमतरी में भी केवल 25 मिमी पानी गिरा है। दुर्ग में 59 और बालोद में 45 मिमी बारिश ही हुई है। केवल कवर्धा में सबसे ज्यादा 105 मिमी बारिश हुई है। जहां तक गर्मी का सवाल है, रायपुर समेत प्रदेश के अधिकांश हिस्से में पारा 40 डिग्री से ऊपर चल रहा है और कुछ जगह लू जैसे हालात हैं।

गुजरात में भी बारिश ने दस्तक दी
गुजरात के अनेक विस्तारों में बारिश ने दस्तक दे दी है। मानसून के शुरू होते ही गांधीनगर में वेदर वॉच ग्रुप की मीटिंग हुई, जिसमें आगामी 5 दिन में संपूर्ण गुजरात में हल्की से मध्यम बारिश होने की संभावना जताई गई है। मौसम विभाग द्वारा आगामी 5 दिन राज्य में हल्की से मध्यम बारिश होने का पूर्वानुमान जताया गया है।

गुजरात के माणावदर शहर में भारी बारिश से निचले इलाकों में पानी भर गया।
गुजरात के माणावदर शहर में भारी बारिश से निचले इलाकों में पानी भर गया।

अहमदाबाद, गांधीनगर, आणंद, अरवल्ली, बनासकांठा, खेडा, महीसागर, महेसाणा, पाटण, साबरकांठा, वडोदरा, भरूच, नवसारी, सूरत, वलसाड, कच्छ तथा सौराष्ट्र के अधिकांश जिलों में 30 से 40 किलोमीटर प्रतिघंटे की रफ्तार से तेज हवाओं के साथ गरज के साथ बारिश होने की संभावना है। इस दौरान राज्य में 14 जून तक लगभग 14.45 मिमी बारिश हुई है।

कुल्लू में बादल फटा, हिमाचल में प्री मानसून की दस्तक
हिमाचल में प्री मानसून ने दस्तक दे दी है। मौसम विभाग के अनुसार वेस्टर्न डिस्टर्बेंस एक्टिव होने से प्रदेश के अधिकांश क्षेत्रों में बारिश हुई है। राजधानी शिमला समेत अधिकांश क्षेत्रों में बारिश की सूचना है। अभी तीन दिन तक मौसम ऐसा ही रहेगा। मध्यम ऊंचाई वाले क्षेत्रों में तेज हवाओं के साथ बारिश होगी जबकि निचले क्षेत्रों में बारिश की संभावना है।

हिमाचल में बारिश का लुत्फ उठाते बच्चे।
हिमाचल में बारिश का लुत्फ उठाते बच्चे।

इससे अधिकतम तापमान में गिरावट दर्ज की गई। इस बारिश को कृषि और बागवानों के लिए उपयोगी माना जा रहा है। कुल्लू गरसा घाटी में बादल फटने से काफी नुकसान हआ है जिसमें लोगों की जमीनों और सड़क को नुकसान होने की जानकारी मिली है।