--Advertisement--

दिल्ली / अपनी गर्लफ्रेंड से दोस्ती के शक में मामा ने भांजे की जान ली, बालकनी में दफनाकर पौधे लगाए

Dainik Bhaskar

Jan 11, 2019, 03:18 PM IST


HR manager uncle killed nephew and buries him in balcony, plants saplings
बेटे जय के साथ मां की तस्वीर। बेटे जय के साथ मां की तस्वीर।
X
HR manager uncle killed nephew and buries him in balcony, plants saplings
बेटे जय के साथ मां की तस्वीर।बेटे जय के साथ मां की तस्वीर।

  • आरोपी हैदराबाद की एक इंजीनियरिंग कंपनी में ह्यूमैन रिसोर्सेस मैनेजर था
  • बिजय ने अपनी बहन को बताया, भांजा जम्मू-कश्मीर घूमने गया, वापस नहीं लौटा

नई दिल्ली. दिल्ली पुलिस ने 37 साल के युवक को भतीजे की हत्या के आरोप में हैदराबाद से गिरफ्तार कर लिया है। आरोपी बिजय कुमार महाराणा ने अपने 26 वर्षीय भतीजे जय प्रकाश महाराणा के साथ तीन साल पहले साउथ-वेस्ट दिल्ली के डाबड़ी में एक फ्लैट किराए पर लिया था। यहां फरवरी 2016 में बिजय ने अपनी गर्लफ्रेंड से दोस्ती के शक में भतीजे जय को मारकर बालकनी में दफनाकर पौधे लगा दिए थे। अक्टूबर 2018 में मृतक जय का कंकाल मिला। इसके बाद पुलिस ने जांच करते हुए मामले का खुलासा किया।

बेडशीट और कंबल में लपेटकर शव को गाड़ा

  1. एडिशनल डिप्यूटी कमिश्नर राजेंद्र सिंह सागर ने बताया, आरोपी बिजय हैदराबाद में एक इंजीनियरिंग कंपनी में ह्यूमैन रिसोर्सेस मैनेजर पर कार्यरत् था।  पुलिस को सूत्रों के हवाले में खबर मिली थी कि बिजय विशाखापट्टनम या हैदराबाद में हो सकता है। इसके बाद पुलिस ने दबिश देते हुए उसे रविवार को हैदराबाद से गिरफ्तार कर लिया।

  2. राजेंद्र सिंह ने बताया कि पुलिस टीम ने दिल्ली के 25 फुट रोड स्थित चाणक्य प्लेस 1 बिल्डिंग के थर्ड फ्लोर की बालकनी से एक कंकाल बरामद किया था। मकान मालिक और मजदूरों ने बताया, कंकाल मिट्टी में दबा हुआ देखा गया। ब्लू जैकेट और ग्रीन शर्ट पहने मृतक को बेडशीट और एक कंबल से लपेटा गया था। साथ में एक तकिया भी बरामद किया गया।

  3. मकान मालिक ने पुलिस को दिए बयान में बताया, फरवरी 2016 में बिजय ने फोन पर बताया था कि जय अपने दोस्त के साथ कहीं गया है, लेकिन वह अब तक लौटा नहीं। इसके बाद विजय ने 12 फरवरी को जय के गायब होने की शिकायत भी दर्ज कराई थी। इसी दौरान बिजय ने बालकनी में फूलों को लगाने की अनुमति भी मांगी और भारी मात्रा में मिट्टी बिछाकर पौधारोपण भी किया था।

  4. मकान मालिक के अनुसार, वारदात के करीब दो महीने बाद ही बिजय ने फ्लैट खाली कर दिया था। 8 अक्टूबर 2018 को एक दूसरा व्यक्ति फ्लैट में रहने आया। उसने बालकनी में लौहे की जाली लगाने के लिए बाउंड्रीवॉल तोड़ी थी। इसी दौरान उसे मिट्टी में दबा हुआ कंकाल मिला।

  5. दिल्ली पुलिस की रिमांड के दौरान बिजय ने अपनी एक गर्लफ्रेंड के बारे में बताया, जो जय के साथ भी दोस्ताना थी। सागर ने बताया, महिला फ्लैट पर बिजय से मिलने आया करती थी। वह महिला जय से भी फोन और मैसेज पर बात किया करती थी, जो बिजय को पसंद नहीं था। शक के कारण बिजय ने 7 फरवरी को सीलिंग फैन की मोटर से जय के सिर पर वार करते हुए मार दिया। इसके बाद उसने जय के शव को बालकनी में दफनाकर उसपर पौधारोपण कर दिया।

  6. एडीसी सागर ने बताया, बिजय उडीशा का रहने वाला है। रोजगार के लिए वह दिल्ली में रहने आया था। यहां वो नोएडा के एक कॉल सेंटर में काम किया करता था। जय के गायब होने की शिकायत दर्ज कराने के दो महीने बाद बिजय नंगलोई चला गया था। यहां से फिर वो हैदराबाद शिफ्ट हो गया।

  7. सागर ने बताया, वारदात के बाद से ही वह फरार था और उसका मोबाइल नंबर भी बंद था। उसके परिजन भी उसके बारे में ज्यादा कुछ बता नहीं पाए। उसने बैंक से सारे रुपए निकाल लिए थे और वारदात के बाद कोई ट्रांजेक्शन नहीं किया।

  8. मां आठ दिन उसी फ्लैट में ठहरी, जहां बेटे को दफनाया

    बेटे की कोई खबर नहीं मिलने पर मां उसकी तलाश में अपने भाई बिजय के पास आई थी। वह अपने भाई के साथ उसी फ्लैट में आठ दिन रुकी, जहां उसके बेटे को बालकनी में दफनाया गया था। बिजय ने बताया कि भांजा अपने दोस्तों के साथ घूमने के लिए जम्मू-कश्मीर गया है, लेकिन अब तक वापस नहीं लौटा। मां के दबाव डालने पर बिजय ने थाने में जय के गुमशुदा होने की शिकायत दर्ज कराई थी।

Astrology
Click to listen..