• Hindi News
  • National
  • India China Border Latest News Today Update On Ladakh Galwan Valley Face off

गलवान में घट रहा तनाव:हॉट स्प्रिंग समेत 3 प्वाइंट से भारत-चीन की सेनाएं हटीं, कल फिर होगी भारत-चीन डिप्लोमैट की मीटिंग

नई दिल्लीएक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
भारत-चीन के बीच 15 जून को गलवान में हुई हिंसक झड़प में 20 भारतीय जवान शहीद हो गए थे। चीन के भी 40 सैनिक मारे गए, लेकिन उसने यह कबूला नहीं। -फाइल फोटो - Dainik Bhaskar
भारत-चीन के बीच 15 जून को गलवान में हुई हिंसक झड़प में 20 भारतीय जवान शहीद हो गए थे। चीन के भी 40 सैनिक मारे गए, लेकिन उसने यह कबूला नहीं। -फाइल फोटो
  • पीपी-14, पीपी-15 और पीपी-17 पर डिसइंगेजमेंट पूरा, फिंगर एरिया से पीछे हट रही चीनी सेना
  • गलवान घाटी में 15 जून की रात को भारत और चीन के सैनिकों के बीच पीपी-15 पर झड़प हुई थी

गलवान घाटी में भारत और चीन की सेनाओं के बीच झड़प के बाद अब यहां दिन-ब-दिन हालात ठीक हो रहे हैं। न्यूज एजेंसी एएनआई ने सेना के सूत्रों के हवाले से गुरुवार को बताया कि हॉट स्प्रिंग (पेट्रोलिंग पॉइंट-17) पर भारत और चीन का डिसइंगेजमेंट पूरा हो चुका है।

इसी के साथ पीपी-14, पीपी-15 और पीपी-17 पर दोनों सेनाओं का डिसइंगेजमेंट अब पूरा हो चुका है। सूत्रों के मुताबिक, लद्दाख में फिंगर एरिया से भी चीनी सेना लगातार पीछे हट रही है। यह प्रक्रिया कुछ दिनों में पूरी हो जाएगी।

डब्ल्यूएमसीसी की मीटिंग कल
डिसइंगेजमेंट प्रक्रिया के बीच शुक्रवार को भारत-चीन के डिप्लोमैट के बीच मीटिंग होगी। सूत्रों के अनुसार, एनएसए अजित डोभाल की चीन के विदेश मंत्री मंत्री वांग यी से वीडियो कॉल के बाद शुक्रवार को पहली बार भारत-चीन सीमा पर डिप्लोमैट लेवल पर वर्किंग मैकेनिज्म फॉर कंसल्टेशन एंड कॉर्डिनेशन (डब्ल्यूएमसीसी) की बैठक होगी।

गलवान झड़प के बाद दोनों देशों के बीच सेना के अफसरों के बीच कई दौर की बात हुई, लेकिन सहमति नहीं बन आई थी। इसके बाद राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार (एनएसए) अजित डोभाल की चीन के विदेश मंत्री मंत्री वांग यी से वीडियो कॉल पर दो घंटे चर्चा की। बातचीत के कुछ ही घंटे बाद चीन ने सेना वापस बुलाने का फैसला लिया।

इन 5 पॉइंट्स पर सहमति
1.
भारत और चीन के बीच पॉइंट पीपी-14, पीपी-15, हॉट स्प्रिंग्स और फिंगर एरिया में भी विवाद है। इन इलाकों से भी सैनिक पीछे हटने शुरू हो गए हैं।
2. बॉर्डर पर शांति रखने और रिश्तों को आगे बढ़ाने के लिए दोनों देशों को आपस में तालमेल रखना चाहिए। अगर विचार मेल नहीं खाएं तो विवाद खड़ा नहीं करना चाहिए।
3. एलएसी पर सेना हटाने और डी-एस्केलेशन की प्रोसेस जल्द से जल्द पूरी की जाए। यह काम फेज वाइज किया जाए।
4. दोनों देश एलएसी का सम्मान करें और एकतरफा कदम नहीं उठाएं। भविष्य में सीमा पर माहौल बिगाड़ने वाली घटनाएं रोकने के लिए मिलकर काम करें।
5. एनएसए डोभाल और चीन के विदेश मंत्री आगे भी बातचीत जारी रखेंगे, ताकि दोनों देशों के समझौतों के मुताबिक सीमा पर शांति रहे और प्रोटोकॉल बना रहे।

भारत-चीन के बीच 15 जून को गलवान में हुई झड़प में 20 भारतीय जवान शहीद हो गए थे। चीन के भी 40 सैनिक मारे गए, लेकिन उसने यह कबूला नहीं।

ये खबरें भी पढ़ सकते हैं...
1. लद्दाख में हालात सुधर रहे; हॉट स्प्रिंग और गोगरा में डेढ़ किलोमीटर तक पीछे हट रहीं भारत-चीन की सेना
2. चीन सीमा पर एयरफोर्स ने रात में मिग-29 एयरक्रॉफ्ट और चिनूक-अपाचे हेलिकॉप्टर से गश्त की

खबरें और भी हैं...