पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • National
  • India China Border Talk News | Ladakh Galwan Valley Face off Updates On China People Liberation Army (PLA) Retreat

चीन पर शक की वजह:इस बार चीन सिर्फ 7 दिन में पीछे हटने को राजी हुआ, पिछली बार 30 दिन में राजी हुआ और पलट गया, डोकलाम में 73 दिन लगाए थे

नई दिल्ली4 महीने पहले
फोटो लेह की है। गलवान घाटी में चीन के सैनिकों के साथ हिंसक झड़प के बाद लेह से लद्दाख की तरफ आर्मी का मूवमेंट बढ़ गया है। आर्मी ने अपनी पैट्रोलिंग भी बढ़ा दी है।
  • 15 जून को पूर्वी लद्दाख की गलवान घाटी में भारत-चीन के सैनिकों के बीच हिंसक झड़प हुई थी
  • आर्मी के मुताबिक, दोनों देश अब पूर्वी लद्दाख में टकराव वाली जगहों से अपने सैनिक पीछे हटाएंगे

चीन पीछे हटने को राजी हो गया है। माना जा रहा है कि भारत के दबाव में इस बार वह 7 दिन में ही झुक गया है। 15 जून की रात गलवान में हिंसक झड़प हुई थी। इसके बाद सोमवार को चीन सीमा पर स्थित मॉल्डो में दोनों देशों के बीच लेफ्टिनेंट जनरल लेवल की बातचीत हुई, जो 11 घंटे चली।

आर्मी की तरफ से मंगलवार को जारी बयान के मुताबिक, सोमवार को हुई बातचीत में शांति कायम करने पर रजामंदी बनी। दोनों देश अब पूर्वी लद्दाख में टकराव वाली जगहों से अपने सैनिक पीछे हटाएंगे। डी-एस्केलेशन की प्रोसेस धीरे-धीरे होगी। यानी धीरे-धीरे दोनों देशों के सैनिक पीछे हटेंगे।

पिछली बार 30 दिन में राजी हुआ, लेकिन 7 दिन में पलट गया
चीन इस बार वाकई अपने सैनिक हटा लेगा या नहीं, इस पर शक है। दरअसल, यह पहला मौका नहीं है, जब चीन डिसएंगेज होने यानी सैनिकों को पीछे करने पर राजी हुआ है। वह एक बार अपनी बात से पलट चुका है।

5-6 मई को जब पूर्वी लद्दाख की पैंगोंग झील के फिंगर-5 इलाके में भारत-चीन के करीब 200 सैनिक आमने-सामने हो गए थे, तभी से चीन गलवान घाटी के पेट्रोल पॉइंट 14 पर जमा हुआ था।

उस वक्त भी मॉल्डो में ही बातचीत हुई थी
विवाद के 30 दिन बाद यानी 6 जून को जब मॉल्डो में ही भारत-चीन के बीच लेफ्टिनेंट जनरल लेवल की बातचीत हुई थी। तब चीन पेट्रोल पॉइंट 14 से जवानों को पीछे हटाने पर राजी हो गया था। उसने अपने कैम्प भी हटा लिए थे। वहां 16 बिहार इंफैन्ट्री रेजिमेंट के कमांडिंग ऑफिसर कर्नल संतोष बाबू इस पर नजर रखे हुए थे और चीन की सेना से बातचीत कर रहे थे।

8 दिन ही बीते थे कि 14 जून को चीन ने अचानक अपने कैम्प दोबारा खड़े कर दिए। जब कर्नल संतोष बाबू 15 जून की शाम 40 जवानों के साथ खुद बातचीत करने पहुंचे तो चीन के तकरीबन 300 सैनिकों ने उन पर हमला कर दिया। गलवान घाटी की इसी झड़प में कर्नल संतोष बाबू समेत भारत के 20 जवान शहीद हो गए।

2. डोकलाम में उसने 73 दिन लगाए थे
16 जून 2017 को डोकलाम में विवाद तब शुरू हुआ, जब भारतीय सेना ने वहां चीन के सैनिकों को सड़क बनाने से रोक दिया।

चीन का दावा था कि वह अपने इलाके में सड़क बना रहा था। इस इलाके का भारत में नाम डोका ला है, जबकि भूटान में इसे डोकलाम कहा जाता है।

चीन ने तब डोकलाम से पीछे हटने में 73 दिन लगाए। 28 अगस्त 2017 को चीन पीछे हटने को राजी हुआ और उसी दिन उसने सैनिक भी हटा लिए थे। बाद में वहां विवाद नहीं हुआ।

भारत-चीन विवाद से जुड़ी ये खबरें भी आप पढ़ सकते हैं...

1. एक्सप्लेनर: चीन के साथ विवाद की पूरी कहानी- 58 साल में चौथी बार एलएसी पर भारतीय जवान शहीद हुए, 70 साल में बतौर पीएम मोदी सबसे ज्यादा 5 बार चीन गए

2. पिछले महीने भारत-चीन के सैनिक 3 बार आमने-सामने आए; इस महीने 4 मीटिंग के बाद तनाव कम हुआ था, चर्चा जारी थी लेकिन हिंसक झड़प हो गई

3. भारत-चीन शांति कायम करने पर राजी हुए, पूर्वी लद्दाख समेत टकराव वाली जगहों से सैनिक पीछे हटेंगे; आर्मी चीफ लेह के लिए रवाना

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आज कड़ी मेहनत और परीक्षा का समय है। परंतु आप अपने लक्ष्य को प्राप्त करने में सफल रहेंगे। बुजुर्गों का स्नेह व आशीर्वाद आपके जीवन की सबसे बड़ी पूंजी रहेगी। परिवार की सुख-सुविधाओं के प्रति भी आपक...

और पढ़ें