एससीओ / जिनपिंग ने कहा- भारत और चीन को एक-दूसरे से खतरा नहीं, विकास में साझेदारी के लिए उत्साहित हूं



India China Do Not Pose Threats To Each Other says Xi Jinping
X
India China Do Not Pose Threats To Each Other says Xi Jinping

  • बिश्केक में शंघाई समिट के इतर नरेंद्र मोदी और चीन के राष्ट्रपति जिनपिंग की बैठक हुई
  • जिनपिंग ने कहा- एशिया में शांति और विकास के लिए दोनों देशों का साथ आना जरूरी
  • भारत ने पाक प्रायोजित आतंकवाद का मुद्दा उठाया, मोदी ने जिनपिंग को भारत आने का न्योता दिया

Dainik Bhaskar

Jun 14, 2019, 11:08 AM IST

बिश्केक. किर्गिस्तान में शंघाई सहयोग सम्मेलन (एससीओ) के इतर गुरुवार को चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की द्विपक्षीय बैठक हुई। इस दौरान जिनपिंग ने कहा कि भारत और चीन को एक-दूसरे से कोई खतरा नहीं है। भारत के साथ द्विपक्षीय व्यापार और विकास में साझेदारी बढ़ाने के लिए चीन काफी उत्साहित है। मोदी अपने दूसरे कार्यकाल में पहली बार चीन के राष्ट्रपति से मिले हैं। उन्होंने जिनपिंग को इस साल अनौपचारिक मुलाकात के लिए भारत आने का न्योता दिया। इसे जिनपिंग ने स्वीकार कर लिया।

 

न्यूज एजेंसी शिन्हुआ के मुताबिक, जिनपिंग ने मोदी से कहा कि हमें एक-दूसरे को विकास के मौके देना चाहिए और इसमें कोई खतरा नहीं है। दोनों देश दुनिया के सबसे बड़े बाजार हैं। ऐसे में आपसी समझदारी और सहयोग बढ़ाने पर जोर देना चाहिए। विवादों को द्विपक्षीय वार्ता के जरिए हल करना चाहिए। साथ चलने से एशियाई क्षेत्र में शांति, स्थायित्व और समृद्धि आएगी।

 

'सीमा विवाद सुलझाने के लिए सहयोग जरूरी' 
जिनपिंग ने कहा कि भारत और चीन को सीमा से जुड़े मुद्दों को बेहतर ढंग से निपटाने के लिए सहयोग करना चाहिए। विशेष प्रतिनिधियों की बैठक में इसकी प्रक्रिया तय करना होगा। भारत के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल और चीन के विदेश मंत्री वांग यी को सीमा विवाद सुलझाने के लिए विशेष प्रतिनिधि बनाया गया है। अब तक उनके बीच 21 दौर की वार्ता हो चुकी है। भारत-चीन के बीच लाइन ऑफ एक्चुअल कंट्रोल (एलएसी) की लंबाई 3488 किलोमीटर है।

 

समिट में भारत-पाक बातचीत नहीं
समिट में मोदी रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन और चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग के साथ द्विपक्षीय वार्ता में शामिल हुए। मोदी ने जिनपिंग के सामने पाक प्रायोजित आतंकवाद का मुद्दा उठाया। समिट में पाक प्रधानमंत्री इमरान खान भी शामिल हुए। हालांकि, मोदी और इमरान की मुलाकात नहीं होगी। दोनों नेताओं का दो बार आमना-सामना हुआ, लेकिन उन्होंने नजरें तक नहीं मिलाईं। इमरान पहले ही मोदी को पत्र लिखकर बातचीत की मांग कर चुके हैं।

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना