अगले हफ्ते से बच्चों को कोरोना वैक्सीन::देश में 15-18 साल के 10 करोड़ बच्चों को टीका लगेगा; रजिस्ट्रेशन, वैक्सीनेशन सेंटर को लेकर अभी भी सवाल

नई दिल्लीएक वर्ष पहले

देश में 3 जनवरी से 15 से 18 साल तक के बच्चों को कोरोना वैक्सीन लगाई जाएगी। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शनिवार शाम देश के नाम संबोधन में इसकी जानकारी दी। PM मोदी ने कहा कि यह फैसला स्कूल-कॉलेजों में जा रहे हमारे बच्चों और उनके माता-पिता की चिंता कम करेगा।

बच्चों को कोरोना वैक्सीन लगाए जाने के तरीके को लेकर पेरेंट्स थोड़े कन्फ्यूज हैं। दरअसल, घोषणा करते हुए PM मोदी ने यह साफ नहीं किया कि वैक्‍सीन कैसे लगेगी। रजिस्ट्रेशन की क्या प्रक्रिया होगी। बच्चों को टीका लगाए जाने के तरीके को लेकर स्थिति अभी साफ नहीं है।

वैक्‍सीन स्‍कूलों में लगेगी या सेंटर्स पर?
सवाल वैक्सीनेशन सेंटर को लेकर भी है। अगर मौजूदा सेंटर्स पर बच्‍चों को वैक्‍सीन लगती है तो उन्‍हें बड़ों के साथ ही खड़ा होना होगा। साथ ही स्‍कूलों में भी वैक्‍सीनेशन की व्‍यवस्‍था करने की चर्चा है। हालांकि, सरकार की ओर से फिलहाल इसे लेकर कोई आधिकारिक ऐलान नहीं हुआ है।

देश में करीब 10 करोड़ बच्चे 15-18 साल की उम्र के
ऑफिशियल आंकड़ों के मुताबिक, देश में करीब 10 करोड़ बच्चे 15-18 साल की उम्र के बीच हैं। सरकार का प्रयास होगा कि जल्द से जल्द इन बच्चों को वैक्सीन की पहली डोज लगा दी जाए। मालूम हो कि देश में बच्चों की वैक्सीन की मांग लंबे अरसे से की जा रही है।

30 से ज्यादा देशों में बच्चों को वैक्सीन लगाई जा रही
दुनियाभर के 30 से भी ज्यादा देश अलग-अलग शर्तों के साथ बच्चों को कोरोना वैक्सीन दे रहे हैं। क्यूबा में 2 साल से ज्यादा उम्र के बच्चों को वैक्सीन लगाई जा रही है तो वहीं, साउथ कोरिया, ऑस्ट्रेलिया और फिलीपींस में 12 साल से ज्यादा उम्र के बच्चों का वैक्सीनेशन हो रहा है।

12 से 18 तक की उम्र वालों को स्वदेशी कोवैक्सिन लगेगी
वहीं, ड्रग कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया (DCGI) ने भारत बायोटेक की तरफ से तैयार की गई बच्चों की कोविड-19 वैक्सीन कोवैक्सिन के इमरजेंसी यूज की मंजूरी दे दी है। DCGI की मंजूरी के बाद भारत बायोटेक की वैक्सीन फिलहाल 12 से 18 साल तक के किशोरों को लगाई जा सकेगी।

बच्चों के लिए नीडल फ्री वैक्सीन
सब्जेक्ट एक्सपर्ट कमेटी ने तीसरी लहर की चेतावनी के बाद 12 मई को बच्चों पर कोवैक्सिन के ट्रायल की सिफारिश की थी। बच्चों के लिए बनाई जा रही जायडस कैडिला की नीडल फ्री वैक्सीन ZyCoV-D को पहले ही मंजूरी मिल चुकी है। ZyCoV-D के बाद कोवैक्सिन देश की दूसरी वैक्सीन है, जिसे इमरजेंसी यूज की मंजूरी मिली है।

कोरोना की अब तक 1.41 अरब डोज लगाई गई
देश में इस साल 16 जनवरी से कोविड वैक्सीनेशन शुरू हुआ। अब तक 1.41 अरब डोज लगाई जा चुकी हैं। एडल्ट्स आबादी में से 61% से ज्यादा को वैक्सीन की दोनों डोज लगाई जा चुकी हैं। करीब 90% एडल्ट्स को वैक्सीन की एक डोज लगी है।

19 राज्यों में ओमिक्रॉन के 474 केस
भारत में ओमिक्रोन के मामले तेजी से बढ़ रहे हैं। रविवार को यह आंकड़ा बढ़कर 474 हो गया। अब तक 19 राज्यों में नए वैरिएंट के केस मिल चुके हैं। इसके सबसे ज्यादा मामले महाराष्ट्र में हैं, इसके बाद गुजरात में 49, राजस्थान में 43 और तेलंगाना में नए वैरिएंट से संक्रमित 41 मरीज मिल चुके हैं। महाराष्ट्र में भी सबसे ज्यादा मामले मुंबई में सामने आ रहे हैं।

खबरें और भी हैं...