पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • International
  • India Has Acquired 4,590 Foreign Projects In A Year, As A Popular And Clever Investor In Poor Countries.

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

पड़ोसी देश चीन और पाक संदेह के घेरे में:भारत ने गरीब देशों में लोकप्रिय और चतुर निवेशक के रूप में जमाई धाक, सालभर में ही 4,590 विदेशी प्रोजेक्ट हासिल किए

23 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
भारत विदेशी निवेश में विकासशील देशों में बतौर निवेशक पहली पसंद बन गया है। (सिंबॉलिक फोटो) - Dainik Bhaskar
भारत विदेशी निवेश में विकासशील देशों में बतौर निवेशक पहली पसंद बन गया है। (सिंबॉलिक फोटो)

भारत गरीब और विकासशील देशों में लोकप्रिय और चतुर निवेशक के रूप में अपनी धाक जमा रहा है, जबकि पड़ोसी देश चीन और पाकिस्तान आज भी अपनी कारगुजारियों से दुनियाभर में संदेह के घेरे में है। भारत से विकासशील देशों को जाने वाला प्रत्यक्ष विदेशी निवेश (एफडीआई) करीब उतना ही है, जितना कि अमीर देशों को भेजे जाने वाले एफडीआई में उसकी हिस्सेदारी है। समय के साथ यह आंकड़ा लगातार बढ़ते ही जा रहा है।

भारत विदेशी निवेश में भले ही चीन का मुकाबला नहीं कर सकता, लेकिन विकासशील देशों में बतौर निवेशक वह पहली पसंद बन गया है। यहां भारतीय निवेशकों ने अपनी जड़ें गहरे तक जमा ली हैं। फिर चाहे अफ्रीकी देश जांबिया हो या केन्या। जांबिया की राजधानी लुसाका में हाल ही में बने नए फ्लाईओवर में लहराता तिरंगा इसकी कहानी खुद बताता है। यहां सड़कों पर दौड़ती टाटा मोटर्स की गाड़ियां हों या फिर भारती एयरटेल का मोबाइल नेटवर्क, हरेक शख्स इसके इस्तेमाल पर खुद को गौरवान्वित महसूस करता है।

इंफ्रास्ट्रक्चर और रेलवे समेत कई क्षेत्रों में भारतीय निवेश को लेकर यहां कोई भी संदेह की नजर से नहीं देखता। जबकि चीन के साथ ऐसा नहीं है। यहां टाटा मोटर्स के पास द. अफ्रीका से लेकर मलेशिया तक असेंबली प्लांट्स हैं। भारती एयरटेल अफ्रीका के सबसे बड़े दूरसंचार ऑपरेटरों में एक है। आदित्य बिड़ला समूह दुनिया का सबसे बड़ा कार्बन ब्लैक उत्पादनकर्ता है, जिससे कार के टायर बनाए जाते हैं। यह समूह मिस्र का सबसे बड़ा औद्योगिक निवेशक और निर्यातक बन गया है।

यूएन कॉन्फ्रेंस ऑन ट्रेड एंड डेवलपमेंट के ताजा अनुमान के मुताबिक भारत के विदेशी निवेश का आंकड़ा 4,600 करोड़ डॉलर (करीब 3.45 लाख करोड़ रुपए) तक पहुंच चुका है। यह 2010 में 4,000 करोड डॉलर (3 लाख करोड़ रुपए) था। भारत से भेजे गए एफडीआई करीब 3.5 लाख करोड़ रुपए में 3,000 करोड़ डॉलर (करीब 2.25 लाख करोड़ रुपए) एशिया में और 1,300 करोड़ डॉलर (करीब 97,565 करोड़ रुपए) अफ्रीका में निवेश किए गए हैं।

बिड़ला समूह ने 1959 में इथोपिया में कपड़ा मिल लगाकर की थी शुरुआत
भारतीय उद्यमियों ने एकाधिकार रोकने के लिए बनाए गए कानूनों के चलते आजादी के बाद पहली बार देश की सीमा के बाहर कदम रखा। भारत का पहला विदेशी उद्यम 1959 में इथोपिया में बिड़ला समूह द्वारा स्थापित की गई कपड़ा मिल थी। ऑस्ट्रेलियन नेशनल यूनिवर्सिटी की प्रेमा चंद्रा अथुकुराला ने कहा कि भारत ने विकासशील देशों में अपनी धाक किस तरह बढ़ाई, उसे जानने के लिए यह आंकड़ा ही काफी है कि भारतीय उद्यमियों ने पिछले साल 4590 विदेशी प्रोजेक्ट हासिल किए जबकि साल 2000 में यह संख्या केवल 395 थी।

खबरें और भी हैं...

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- सकारात्मक बने रहने के लिए कुछ धार्मिक और आध्यात्मिक गतिविधियों में समय व्यतीत करना उचित रहेगा। घर के रखरखाव तथा साफ-सफाई संबंधी कार्यों में भी व्यस्तता रहेगी। किसी विशेष लक्ष्य को हासिल करने ...

और पढ़ें