• Hindi News
  • National
  • Pakistan । Airspace । Srinagar Sharjah Direct Flight । Diplomatic Channels । Go First GoAir । Home Minister Amit Shah । Jammu And Kashmir । Article 370

कश्मीर की उड़ान रोकने पर भारत का ऐतराज:पाकिस्तान से कहा- श्रीनगर-शारजाह फ्लाइट लोगों के हित में, एयरस्पेस इस्तेमाल करने दें

एक महीने पहले

भारत सरकार ने श्रीनगर-शारजाह फ्लाइट को पाकिस्तानी एयरस्पेस का इस्तेमाल न करने देने का मुद्दा पाकिस्तान के सामने उठाया है। NDTV की रिपोर्ट के मुताबिक राजनयिक चैनलों के जरिए इस मुद्दे को पाकिस्तान के सामने उठाया गया।

सरकार ने पाकिस्तान से अपना निर्णय बदलने की अपील की है। भारत की तरफ से कहा गया कि फ्लाइट चालू रखने से आम लोगों को फायदा होगा। इससे पहले पाकिस्तान ने 23, 24, 26 और 28 अक्टूबर को श्रीनगर-शारजाह फ्लाइट को पाकिस्तानी एयरस्पेस का इस्तेमाल करने की अनुमति दे दी थी।

2 दिन पहले किया अनुमति देने से इनकार
पाकिस्तान ने 3 नवंबर को जम्मू-कश्मीर के श्रीनगर से UAE के शारजाह जाने वाली फ्लाइट को अपना एयरस्पेस इस्तेमाल करने की इजाजत देने से इनकार कर दिया था। पाकिस्तान की सरकार ने गो फर्स्ट की फ्लाइट को अनुमति देने से इनकार कर दिया था।
इस मसले पर भारत की मिनिस्ट्री ऑफ सिविल एविएशन (MoCA), मिनिस्ट्री ऑफ एक्सटर्नल अफेयर्स (MEA) और मिनिस्ट्री ऑफ होम अफेयर्स (MHA) नजर बनाए थे।

गृहमंत्री शाह ने की थी फ्लाइट की शुरुआत
गृहमंत्री अमित शाह ने अपनी जम्मू-कश्मीर यात्रा के दौरान 23 अक्टूबर 2021 को गो फर्स्ट (गो एयर) की फ्लाइट का शुभारंभ किया था। घाटी से आर्टिकल 370 हटने के बाद यह शाह की पहली कश्मीर यात्रा थी। गो फर्स्ट भारत की पहली एयरलाइन है, जिसने श्रीनगर से शारजाह के लिए सीधी फ्लाइट शुरू करने का ऐतिहासिक कदम उठाया।

यूरोप टूर पर पाकिस्तान के रास्ते गए थे मोदी
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने यूरोप जाने के लिए 28 अक्टूबर को पाकिस्तान के एयरस्पेस का इस्तेमाल किया था। वे इस रूट से ही वापस लौटे थे। पाकिस्तान से मंजूरी मिलने के बाद ही इस रूट का इस्तेमाल किया गया था। PM मोदी के विमान 777, 300ER के 7006 ने बहावलपुर से पाकिस्तानी एयर स्पेस में प्रवेश किया था और पंजगुर से गुजरा था। इसके बाद उनके प्लेन ने ईरान और तुर्की का एयर स्पेस भी इस्तेमाल किया था।

पाकिस्तानी एयरस्पेस से ही अमेरिका गए थे मोदी
प्रधानमंत्री मोदी ने अमेरिका दौरे पर जाने के लिए भी पाकिस्तानी एयर स्पेस का इस्तेमाल किया था। उनके विमान ने अफगानिस्तान के ऊपर से उड़ान नहीं भरी थी। सुरक्षा कारणों से यह फैसला लिया गया था।