रिपोर्ट / सबसे प्रदूषित शहरों में पटना, वाराणसी और कानपुर टॉप पर, दिल्ली का हाल सुधरा



फाइल फोटो। फाइल फोटो।
X
फाइल फोटो।फाइल फोटो।

  • इस साल भारत में चीन के मुकाबले 50 प्रतिशत ज्यादा प्रदूषण बढ़ा
  • प्रदूषित शहरों की लिस्ट में पटना पहले और दिल्ली चौथे नंबर पर

Dainik Bhaskar

Feb 14, 2019, 04:23 PM IST

नई दिल्ली. भारत में पिछले कुछ समय से सबसे ज्यादा प्रदूषित रहने वाली दिल्ली का हाल अब सुधरने लगा है। आईआईटी कानपुर और शक्ति फाउंडेशन ने एक रिपोर्ट जारी कर नए आंकड़े पेश किए हैं। इसके मुताबिक, इस साल भारत के सबसे प्रदूषित शहरों की लिस्ट में बिहार की राजधानी पटना पहले नंबर पर है। इनके अलावा दूसरे-तीसरे नंबर पर उत्तर प्रदेश का कानपुर और वाराणसी शहर है। ये तीनों टॉप-3 शहर भाजपा शासित ही हैं, जबकि वाराणसी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का संसदीय क्षेत्र भी है। आम आदमी पार्टी (आप) शासित दिल्ली इस बार चौथे नंबर पर खिसक गया है।

सुशील मोदी ने गंगा नदी को बताया प्रदूषण की वजह

  1. यह आंकड़ा 45 दिन के अध्ययन के आधार पर सामने आया है। यह सर्वे पिछले वर्ष अक्टूबर और नवंबर माह में किया गया था। रिपोर्ट के मुताबिक, इस साल भारत में पड़ोसी देश चीन के मुकाबले 50 प्रतिशत ज्यादा प्रदूषण बढ़ा है।

  2. पटना, कानपुर और वाराणसी की हवा अक्टूबर और नवंबर माह में 170 माइक्रोग्राम्स पर क्युबिक मीटर से ज्यादा थी। पार्टिकुलेट मैटर (पीएम) 2.5 के पार्टिकल की वजह से लोगों को दिखने में काफी दिक्कत हो रही है और गंभीर स्वास्थ्य से जुड़ी समस्याओं का सामना करना पड़ रहा है।

  3. बिहार के पर्यावरण मंत्री सुशील कुमार मोदी ने कहा कि यह आंकड़े पटना के लिए चिंताजनक हैं। हमने एक एक्शन प्लान बनाया है, जिसे लागू कराने की पूरी कोशिश की जा रही है। नियम का पालन नहीं करने वाले ईंट के भट्टे को भी बंद किया जाएगा। बिल्डर्स को कहा है कि वह निर्माण क्षेत्र को चारों तरफ से ढकें ताकि हवा प्रदूषित ना हो।

  4. आईआईटी कानपुर की डॉ. एस त्रिपाठी ने कहा, चीन ने भारत के मुकाबले कहीं ज्यादा बेहतर कार्य करते हुए प्रदूषण पर अंकुश लगाया है। भारत में प्रदूषण के कई स्त्रोत हैं, जैसे- घरेलू धुआं, ठोस ईंधन जलना, बिजली संयंत्र उत्सर्जन और कचरा जलाना आदि। इसलिए, यहां प्रदूषण पर अंकुश लगाना थोड़ा कठिन है। हमें इन प्रदूषण स्त्रोत के बारे में गंभीरता से सोचना होगा।

  5. सुशील मोदी ने पटना शहर में प्रदूषण के लिए गंगा नदी को बड़ी वजह बताया है। नदी के किनारे बसे शहर सबसे ज्यादा प्रदूषित होते हैं, यहां चलने वाली तेज हवा की वजह से धूल और गंदगी आती है। यह मुख्य रूप से सर्दियों में होता है। उन्होंने कहा कि शहर के पास बहने वाली गंगा नदी की वजह से पर्यावरण के मानकों को सही से लागू नहीं किया जा पा रहा है।

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना