• Hindi News
  • National
  • India Coronavirus Vaccine Record Updates; Narendra Modi | Prime Minister Modi At Delhi Ram Manohar Lohia Hospital

कोरोना वैक्सीनेशन का आंकड़ा 100 करोड़ के पार:मोदी के सामने बनारस के दिव्यांग अरुण राय को लगा ऐतिहासिक टीका

नई दिल्लीएक महीने पहले

देश ने कोरोना वैक्सीन के 100 करोड़ डोज का आंकड़ा आज सुबह 9.47 बजे पूरा कर इतिहास रच दिया है। 100 करोड़ डोज पूरे होने के मौके पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी दिल्ली के राम मनोहर लोहिया (RML) अस्पताल पहुंचे। वे यहां करीब 20 मिनट रहे। इस दौरान उन्होंने हेल्थकेयर वर्कर्स से बात की। कुछ दिव्यांगों और अस्पताल के सुरक्षाकर्मी और दूसरे स्टाफ से भी बात की। यहां मोदी के सामने ही बनारस के दिव्यांग अरुण राय को 100 करोड़वां डोज लगाया गया। इस उपलब्धि पर विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने भी प्रधानमंत्री मोदी, भारत के वैज्ञानिकों, हेल्थवर्कर्स और आम लोगों को बधाई दी है।

देश में 16 जनवरी से कोरोना वैक्सीनेशन की शुरुआत हुई थी और आखिरी 20 करोड़ डोज 31 दिन में लगे हैं। बता दें कि देश की 75% युवा आबादी को कम से कम एक डोज लग चुका है और 31% आबादी को दोनों डोज लग चुके हैं। दुनिया में सिर्फ चीन ही ऐसा देश है जहां भारत से ज्यादा वैक्सीन लगी हैं। चीन ने 100 करोड़ डोज का आंकड़ा सितंबर में ही पूरा कर लिया था।

सरकार ने कहा- यह अब तक की सबसे तेज वैक्सीनेशन ड्राइव

वैक्सीन के 100 करोड़ डोज पूरे होने का ऐलान करने के लिए सरकार ने खास तैयारियां की हैं। इसके लिए ट्रेन, प्लेन और जहाजों पर लाउडस्पीकर से घोषणा की जा रही है। साथ ही 100% वैक्सीनेशन पूरा कर चुके गांवों से कहा गया है कि उन्हें पोस्टर और बैनर लगाकर हेल्थ वर्कर्स का सम्मान करना चाहिए।

मोदी ने दी इतिहास रचने की बधाई

100 करोड़ डोज पूरे होने पर पूरे देश में जश्न

  • केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मांडविया ने कोविड वॉर रूम में स्टाफ से बात की और मिठाई खिलाकर उन्हें बधाई दी है।
  • मांडविया ने एक थीम सॉन्ग और फिल्म भी लॉन्च की है। ये कार्यक्रम लाल किले पर हुआ। इस गाने में कैलाश खेर ने आवाज दी है। इसके साथ ही 1400 किलो वजन का देश का सबसे बड़ा तिरंगा भी लगाया गया।
यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने लखनऊ के सरस्वती शिशु मंदिर स्थित वैक्सीनेशन सेंटर जाकर हेल्थकेयर वर्कर्स और वैक्सीन लगवाने वालों से मुलाकात की।
यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने लखनऊ के सरस्वती शिशु मंदिर स्थित वैक्सीनेशन सेंटर जाकर हेल्थकेयर वर्कर्स और वैक्सीन लगवाने वालों से मुलाकात की।

अब तक कैसी रही वैक्सीनेशन की रफ्तार?

देश में 16 जनवरी से वैक्सीनेशन अभियान की शुरुआत हुई। शुरुआती 20 करोड़ वैक्सीन डोज 131 दिन में लगे। अगले 20 करोड़ डोज 52 दिन में दिए गए। 40 से 60 करोड़ डोज देने में 39 दिन लगे। 60 करोड़ से 80 करोड़ डोज देने में सबसे कम, महज 24 दिन लगे।

अब 80 करोड़ से 100 करोड़ होने में 31 दिन लगे हैं। यानी अब रफ्तार कम हो गई है। अगर इसी रफ्तार से वैक्सीनेशन होता रहा तो देश में 216 करोड़ वैक्सीन डोज लगने में करीब 175 दिन और लगेंगे। यानी, 5 अप्रैल 2022 के आसपास ये आंकड़ा हम पार कर सकते हैं।

मास्क फ्री होने के लिए अभी करना होगा इंतजार
हमने भले ही 100 करोड़ डोज लगाने के करीब हैं, लेकिन देश की महज 20% आबादी ही पूरी तरह वैक्सीनेट हुई है। 29% आबादी को वैक्सीन की एक डोज दी जा चुकी है। ऐसे में मास्क फ्री होने के लिए हमें अभी इंतजार करना होगा।

महामारी एक्सपर्ट डॉक्टर चंद्रकांत लहारिया कहते हैं कि जब तक 85% आबादी पूरी तरह वैक्सीनेट नहीं हो जाती तब तक ऐसा करना खतरनाक हो सकता है। जिन देशों में मास्क से छूट दी गई है वहां जनसंख्या घनत्व भारत की तुलना में काफी कम है। ऐसे में हमें अपनी जरूरतों को हिसाब से ही फैसला लेना चाहिए।

ब्रोकरेज फर्म यश सिक्योरिटीज की एक रिपोर्ट के मुताबिक जनवरी तक देश की 60 से 70% आबादी पूरी तरह वैक्सीनेटेड हो जाएगी। इस वक्त तक भारत हर्ड इम्यूनिटी को अचीव कर लेगा। इसके बाद लोगों को मास्क नहीं लगाने की पूरी तरह छूट मिल सकती है। कुल मिलाकर ये कहा जा सकता है कि मास्क से पूरी तरह से आजादी के लिए हमें अभी कम से कम 6 से 8 महीने और इंतजार करना होगा।

किन राज्यों में सबसे कम आबादी वैक्सीनेट हुई?
आबादी के लिहाज से सबसे कम वैक्सीनेशन उत्तर प्रदेश, बिहार और झारखंड में हुआ है। इन तीनों राज्यों की केवल 12% आबादी पूरी तरह से वैक्सीनेट हुई है। झारखंड की 36% आबादी ऐसी है जिसे वैक्सीन की एक डोज दी जा चुकी है, तो बिहार की 37% आबादी को वैक्सीन की एक डोज दी गई है। वहीं, UP की 40% आबादी को वैक्सीन की एक डोज दी गई है।

हालांकि, देश में सबसे ज्यादा वैक्सीन डोज भी उत्तर प्रदेश में लगाई गई हैं। फिर भी 23 करोड़ आबादी वाले राज्य के लिहाज से ये काफी कम है। आबादी के हिसाब से वैक्सीन लगाने में महाराष्ट्र को छोड़ दें, तो बड़े राज्य पिछड़ गए हैं। सबसे पीछे UP है। यहां देश की 17.4% आबादी है, जबकि यहां कुल वैक्सीन में से 11.9% लगी हैं।

आबादी के हिसाब से वैक्सीनेशन का आकलन करें तो UP की स्थिति सबसे खराब नजर आती है। यहां के ज्यादातर जिलों में 15% से ज्यादा आबादी को दोनों डोज नहीं लग सकी हैं। सबसे कम वैक्सीनेशन वाले 100 जिलों में 47 UP-बिहार के हैं। सबसे अच्छी रफ्तार वाले टॉप-8 जिलों में भी UP का नोएडा शामिल है।

खबरें और भी हैं...