• Hindi News
  • National
  • India To Raise Issue Of Cross border Terrorism In Front Of Saudi Crown Prince

पाक दौरे के बाद आज भारत आएंगे सऊदी प्रिंस, मोदी उठा सकते हैं आतंकवाद का मुद्दा

4 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
  • दोनों देशों के बीच होंगे 5 क्षेत्रों में करार
  • रियाद की कोशिश, भारत-पाक के बीच तनाव कम हो

नई दिल्ली. सऊदी अरब के क्राउन प्रिंस मोहम्मद बिन सलमान बिन सऊद मंगलवार रात भारत पहुंचे। दिल्ली एयरपोर्ट पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने प्रोटोकॉल तोड़कर उनकी अगवानी की। प्रधानमंत्री ने अपने साढ़े चार साल के कार्यकाल के दौरान 12वीं बार प्रोटोकॉल तोड़कर विदेशी मेहमान की अगवानी की है। क्राउन प्रिंस के दो दिवसीय दौरे में दोनों देशों के बीच सुरक्षा, सहयोग और नौसैनिक अभ्यास जैसे मामलों पर चर्चा होगी। उनका यह दौरा पुलवामा हमले के पांच दिन बाद हो रहा है ऐसे में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी उनके सामने आतंकवाद का मुद्दा भी उठा सकते हैं।

#WATCH Prime Minister Narendra Modi receives Saudi Arabia Crown Prince Mohammed bin Salman upon his arrival in India. pic.twitter.com/huwzGrPhFG

— ANI (@ANI) February 19, 2019

 

साढ़े चार साल में मोदी ने 12 बार प्रोटोकॉल तोड़ा

  • सितंबर, 2014: पीएम मोदी ने सबसे पहले चीनी राष्ट्रपति शी-जिनपिंग का प्रोटोकॉल तोड़कर अहमदाबाद में स्वागत किया था। 
  • जनवरी, 2015: राष्ट्रपति ओबामा का दिल्ली एयरपोर्ट पर स्वागत किया। 
  • दिसंबर, 2015: जापानी पीएम शिंजो आबे का बनारस में स्वागत किया। 
  • जनवरी, 2016: फ्रांस के राष्ट्रपति ओलांद का चंडीगढ़ में स्वागत। 
  • जनवरी, 2017: अबुधाबी के प्रिंस शेख मोहम्मद बिन जायद अल नहयान का दिल्ली में स्वागत किया। 
  • अप्रैल, 2017: बांग्लादेश की पीएम शेख हसीना की दिल्ली में अगवानी।
  • अप्रैल 2017 : भारत आए ऑस्ट्रेलिया के प्रधानमंत्री मैलकम टर्नबुल के साथ मोदी ने प्रोटोकॉल तोड़कर दिल्ली मेट्रो में यात्रा की थी।
  • जुलाई, 2017: दूसरी बार बार भारत दौरे पर आए जापानी पीएम शिंजो आबे के साथ अहमदाबाद में रोड शो। 
  • जनवरी, 2018: 15 साल बाद भारत आए इजरायली पीएम का वेलकम। 
  • फरवरी, 2018: जॉर्डन के किंग अब्दुल्लाह बिन अल हुसैन का एयरपोर्ट जाकर स्वागत किया।
  • मार्च, 2018 : फ्रांस के राष्ट्रपति इमैन्यूअल मैक्रों को एयरपोर्ट पर रिसीव किया।
  • फरवरी 2019 : सऊदी अरब के क्राउन प्रिंस मोहम्मद बिन सलमान बिन सऊद की एयरपोर्ट पर अगवानी की।

 

भारत का पक्ष मजबूत

मोदी और क्राउन प्रिंस के बीच डेलीगेशन लेवल की बातचीत होनी है। अधिकारिक सूत्रों के मुताबिक, सऊदी अरब, कश्मीर और सीमा पार आतंकवाद के मामले पर पाकिस्तान की बात स्वीकार नहीं कर रहा है। ऐसे में पाकिस्तान समर्थित आतंकी समूहों के मामले को भारत पुरजोर तरीके से उठाएगा।

 

सऊदी की कोशिश- भारत और पाक के बीच तनाव कम हो

क्राउन प्रिंस के दौरे से पहले सऊदी अरब के विदेश मंत्री एडल-अल-जुबैर ने कहा, ‘‘रियाद भारत-पाकिस्तान के बीच तनाव कम करने की कोशिश करेगा, जो पुलवामा हमले के बाद बहुत बढ़ गया है।’’

 

पांच समझौते होने की उम्मीद
वित्तीय मामलों के सचिव टीएस त्रिमूर्ति ने कहा, प्रिंस के इस दौरे के वक्त दोनों देशों के बीच पांच समझौतों पर हस्ताक्षर होने की उम्मीद है। इनमें निवेश, पर्यटन, हाऊसिंग, सूचना और प्रसारण जैसे क्षेत्र शामिल हैं। 

 

भारत होगा स्ट्रेटेजिक पार्टनर

त्रिमूर्ति ने कहा, \"‘सऊदी अरब ने 14 फरवरी को पुलवामा में भारतीय सुरक्षाबल पर हुए हमले की कड़ी निंदा की है। बीते कुछ सालों में सुरक्षा और आतंकवाद से लड़ने में मिले उनके सहयोग की हम प्रशंसा करते हैं। भारत एक ऐसे स्ट्रेटेजिक पार्टनर के तौर पर सामने आया है, जिनके साथ सऊदी अरब राजनीति, सुरक्षा, व्यापार, निवेश और संस्कृति जैसे मामलों पर बेहतर संबंध स्थापित कर सकता है।’’

 

सऊदी ने पाक के साथ किया 20 अरब डॉलर का करार

पाकिस्तान की भरभराती अर्थव्यवस्था को आधार मिलने की उम्मीद दिखाई दी है। सऊदी अरब ने पाकिस्तान के साथ 20 अरब डॉलर (करीब 1 लाख 43 हजार करोड़ रुपए) की डील की है। रिपोर्ट के मुताबिक, ऑइल रिफाइनरी के आठ अरब डॉलर (करीब 57 हजार करोड़ रुपए) की फंडिंग की गई है। सऊदी अरब पाकिस्तान को पहले से ही छह बिलियन डॉलर (करीब 43 हजार करोड़ रुपए) का कर्ज दे चुका है।