वायुशक्ति / पाक सीमा के पास एयरफोर्स के 140 एयरक्राफ्ट ने दिखाई ताकत, धनोआ बोले- हम हमले के लिए तैयार

Dainik Bhaskar

Feb 17, 2019, 12:20 PM IST


भारतीय वायुसेना ने पाकिस्तान सीमा से सटे राजस्थान के रेगिस्तान में ताकत दिखाई। भारतीय वायुसेना ने पाकिस्तान सीमा से सटे राजस्थान के रेगिस्तान में ताकत दिखाई।
वायुसेना ऐसा अभ्यास हर तीन साल में करती है। वायुसेना ऐसा अभ्यास हर तीन साल में करती है।
in thar desert near pakistan border iaf show its fire power
अंधेरे में सुखोई ने सटीक निशाना साधा। अंधेरे में सुखोई ने सटीक निशाना साधा।
समापन में सेना प्रमुख बिपिन रावत और सचिन तेंडुलकर शामिल हुए। समापन में सेना प्रमुख बिपिन रावत और सचिन तेंडुलकर शामिल हुए।
in thar desert near pakistan border iaf show its fire power
in thar desert near pakistan border iaf show its fire power
in thar desert near pakistan border iaf show its fire power
in thar desert near pakistan border iaf show its fire power
in thar desert near pakistan border iaf show its fire power
X
भारतीय वायुसेना ने पाकिस्तान सीमा से सटे राजस्थान के रेगिस्तान में ताकत दिखाई।भारतीय वायुसेना ने पाकिस्तान सीमा से सटे राजस्थान के रेगिस्तान में ताकत दिखाई।
वायुसेना ऐसा अभ्यास हर तीन साल में करती है।वायुसेना ऐसा अभ्यास हर तीन साल में करती है।
in thar desert near pakistan border iaf show its fire power
अंधेरे में सुखोई ने सटीक निशाना साधा।अंधेरे में सुखोई ने सटीक निशाना साधा।
समापन में सेना प्रमुख बिपिन रावत और सचिन तेंडुलकर शामिल हुए।समापन में सेना प्रमुख बिपिन रावत और सचिन तेंडुलकर शामिल हुए।
in thar desert near pakistan border iaf show its fire power
in thar desert near pakistan border iaf show its fire power
in thar desert near pakistan border iaf show its fire power
in thar desert near pakistan border iaf show its fire power
in thar desert near pakistan border iaf show its fire power
  • comment

  • युद्धाभ्यास में तेजस, एएलएच हेलिकॉप्टर और आकाश मिसाइल पहली बार शामिल हुईं
  • वायुसेना प्रमुख ने कहा- अभ्यास में साबित हुआ, हमारे पास बेहतर स्ट्राइक पायलट

पोकरण. पुलवामा हमले के दो दिन बाद शनिवार को भारतीय वायुसेना ने पाकिस्तान सीमा से सटे राजस्थान के रेगिस्तान में ताकत दिखाई। मौका था युद्धाभ्यास वायुशक्ति 2019 के समापन का। इसमें एयरफोर्स के 140 एयरक्राफ्ट और अटैक हेलिकॉप्टर शामिल हुए। फाइटर पायलटों ने पोकरण फायरिंग रेंज में दुश्मन के काल्पनिक ठिकानों पर सटीक निशाना साधकर उन्हें ध्वस्त किया। वायुसेना ऐसा अभ्यास हर तीन साल में करती है।

 

एयरफोर्स चीफ बीएस धनोआ ने कहा, ''सरकार जैसा तय करे। वायुसेना दिन, रात और हर मौसम की विपरीत परिस्थितियों में किसी भी क्षेत्र में जाकर हमले के लिए तैयार है। दुश्मन हमसे सीधे युद्ध में कभी जीत नहीं सकता। हमारे पास स्ट्राइक पायलट हैं, जिनका निशाना बेहद सटीक है।'' सीआरपीएफ जवानों पर आतंकी हमले के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा था कि सरकार ने सुरक्षा बलों को जवाबी कार्रवाई के लिए खुली छूट दे दी है। इसका वक्त, स्थान और समय सुरक्षा बल ही तय करेंगे। हालांकि, धनोआ ने भाषण में पुलवामा अटैक या पाकिस्तान का नाम नहीं लिया।

 

जनरल रावत और सचिन समापन में पहुंचे
अभ्यास के समापन के लिए दिन, शाम और रात का वक्त चुना गया। इसके लिए आठ अलग-अलग एयरबेस से लड़ाकु विमानों ने उड़ान भरी। इस मौके पर राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री और रक्षा मंत्री को शामिल होना था, लेकिन गुरुवार को कश्मीर में सीआरपीएफ 40 जवानों की शहादत के चलते वे पोकरण नहीं पहुंच सके। हालांकि, सेना प्रमुख जनरल बिपिन रावत और वायुसेना के मानद कैप्टन सचिन तेंदुलकर अभ्यास के समापन में शामिल हुए।

 

इन एयरक्राफ्ट ने दिखाई ताकत
एक वायुसेना अधिकारी ने बताया कि वायुशक्ति अभ्यास पहले से तय था। इसमें एयरफोर्स की ताकत, मारक क्षमता और शार्ट नोटिस पर तैयार रहने को परखा गया। युद्धाभ्यास में पहली बार लाइट कॉम्बैट एयरक्राफ्ट तेजस, एडवांस्ड लाइट हेलिकॉप्टर और आकाश मिसाइलों की ताकत दिखने को मिली। इसके अलावा सुखोई, मिराज, जगुआर, मिग-21, मिग-27, हरक्यूलिस, एएन-32 विमानों ने उड़ान भरी। इस मौके पर मिग-29 का अपग्रेड वर्जन भी ग्राउंड पर रखा गया था।
 

COMMENT
Astrology

Recommended

Click to listen..
विज्ञापन
विज्ञापन