आइस हॉकी / लेह के खुले मैदान में प्रैक्टिस करती है भारत की महिला टीम, खेलने से पहले बर्फ हटानी पड़ती है



प्लेयर्स को खेलने से पहले मैदान पर गिरी बर्फ साफ करनी पड़ती है। प्लेयर्स को खेलने से पहले मैदान पर गिरी बर्फ साफ करनी पड़ती है।
लेह-लद्दाख में आइस हॉकी का काफी माहौल है। लेह-लद्दाख में आइस हॉकी का काफी माहौल है।
प्रैक्टिस के बाद आराम करतीं प्लेयर्स। प्रैक्टिस के बाद आराम करतीं प्लेयर्स।
indian women ice hockey team practiced in leh
X
प्लेयर्स को खेलने से पहले मैदान पर गिरी बर्फ साफ करनी पड़ती है।प्लेयर्स को खेलने से पहले मैदान पर गिरी बर्फ साफ करनी पड़ती है।
लेह-लद्दाख में आइस हॉकी का काफी माहौल है।लेह-लद्दाख में आइस हॉकी का काफी माहौल है।
प्रैक्टिस के बाद आराम करतीं प्लेयर्स।प्रैक्टिस के बाद आराम करतीं प्लेयर्स।
indian women ice hockey team practiced in leh

  • आइस हॉकी की महिला टीम में ज्यादातर खिलाड़ी लेह-लद्दाख क्षेत्र से हैं, केवल गोलकीपर मुंबई की
  • भारत में 311 आइस हॉकी प्लेयर्स और महज 5 इंडोर रिंक 

Dainik Bhaskar

Apr 25, 2019, 09:17 AM IST

लद्दाख. भारत की 30 सदस्यीय महिला आइस हॉकी टीम लेह में प्रैक्टिस करती है। यह जगह समुद्र तल से 11 हजार फीट की ऊंचाई पर है। आइस हॉकी का नया मैदान (रिंक) फिलहाल खुले में है। लिहाजा रात में बर्फबारी के चलते मैदान पर खासी बर्फ जमा हो जाती है। खेलने से पहले प्लेयर्स को ये बर्फ हटानी पड़ती है।

चैलेंज कप के लिए लगा था कैंप

  1. आइस हॉकी की जिस टीम के लिए 15 दिन का कैंप लगाया था, उसमें 20 खिलाड़ी नेशनल प्लेयर थीं। बाकी की 10 खिलाड़ियों को भी टीम में चुने जाने की आशा थी। यह कैंप दुबई में होने वाले चैलेंज कप की तैयारियों के लिए लगाया गया था। यह कैंप पहली बार 2016 में शुरू किया गया था।

  2. चैलेंज कप पहला अंतरराष्ट्रीय टूर्नामेंट है जिसमें भारतीय महिला आइस हॉकी टीम ने हिस्सा लिया। उनका सपना ओलिंपिक में हिस्सा लेना है। इस साल भारत फिलीपींस, कुवैत और संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) इंटरनेशनल आइस हॉकी फेडरेशन में शामिल हुआ है।

  3. फेडरेशन के मुताबिक- भारत में 311 आइस हॉकी प्लेयर्स और महज 5 इंडोर रिंक हैं। 22 साल की एक खिलाड़ी दिस्कित अंगमो के मुताबिक- आइस हॉकी को लेकर हमारा परिवार कहता है, यह सब क्या चल रहा है, तुम्हें कोई अच्छी नौकरी ढूंढनी चाहिए। कभी-कभी हमें भी निराशा होती है लेकिन जोश सब भुला देता है।

  4. ज्यादातर आइस हॉकी खिलाड़ी लेह या लद्दाख क्षेत्र की हैं, केवल गोली ही मुंबई की है। खिलाड़ियों की उम्र 15 से 29 साल है। प्रैक्टिस के दौरान प्लेयर्स जमी हुई नदी या झील पर स्केटिंग करती हैं।

  5. पुरुष आइस टीम के कोच रह चुके एडम शेरलिप बताते हैं कि 2009 में पहली बार लद्दाख इलाके में आया था। उस वक्त केवल 3 रिंक हुआ करते थे। बीते 10 सालों में काफी बदलाव आया है। खेल को लेकर लोगों की समझ बढ़ी है। कई नए रिंक भी बने हैं।

  6. लद्दाख क्षेत्र में आइस हॉकी की कई टीमें हैं, जिसमें से पुरुषों की नेशनल टीम और आर्मी-सिविलियंस की टीम है। आइस हॉकी एसोसिएशन ऑफ इंडिया के जनरल सेक्रेटरी हरजिंदर सिंह कहते हैं, लोगों को जोड़ने में यह खेल अहम भूमिका निभाता है, खासकर ठंड के दिनों में। बर्फबारी के चलते लेह आने वाली सड़कें बंद हो जाती हैं। आप केवल प्लेन से ही यहां आ सकते हैं।

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना