उत्तराखंड / देश में पहली बार: लावारिस डॉग को ट्रेनिंग देकर श्वान दल में शामिल किया



इस स्निफर डॉग का नाम 'ठेंगा' रखा गया है। इस स्निफर डॉग का नाम 'ठेंगा' रखा गया है।
9 नवंबर को पुलिस लाइन में हुई स्थापना दिवस परेड में ठेंगा अपनी काबिलियत का प्रदर्शन भी कर चुका है। 9 नवंबर को पुलिस लाइन में हुई स्थापना दिवस परेड में ठेंगा अपनी काबिलियत का प्रदर्शन भी कर चुका है।
X
इस स्निफर डॉग का नाम 'ठेंगा' रखा गया है।इस स्निफर डॉग का नाम 'ठेंगा' रखा गया है।
9 नवंबर को पुलिस लाइन में हुई स्थापना दिवस परेड में ठेंगा अपनी काबिलियत का प्रदर्शन भी कर चुका है।9 नवंबर को पुलिस लाइन में हुई स्थापना दिवस परेड में ठेंगा अपनी काबिलियत का प्रदर्शन भी कर चुका है।

  • अभी तक पुलिस में विदेशी नस्ल के कीमती कुत्तों को भर्ती किया जाता था
  • पुलिस ने उसे ट्रेनिंग दी तो वह विदेशी नस्लों के लाखों रुपए वाले डॉग से कहीं आगे निकला

Dainik Bhaskar

Nov 20, 2019, 06:41 AM IST

देहरादून. अभी तक पुलिस में विदेशी नस्ल के कीमती कुत्तों को भर्ती किया जाता था। लेकिन उत्तराखंड पुलिस ने देश में पहली बार सड़क पर घूमने वाले देसी डॉग को डाॅग स्क्वॉड में शामिल किया है। दरअसल, पुलिस ने उसे ट्रेनिंग दी तो वह विदेशी नस्लों के लाखों रुपए वाले डॉग से कहीं आगे निकला। अब यह डॉग उत्तराखंड पुलिस का सबसे फुर्तीला स्निफर डॉग है।

 

पुलिस ने इसकी सूंघने की खूबी को अपनी ताकत बनाया और अपनी डॉग स्क्वॉड का हिस्सा बना लिया। इस स्निफर डॉग का नाम 'ठेंगा' रखा गया है। स्निफर डॉग की ट्रेनिंग आईटीबीपी ट्रेनिंग सेंटर में होती है। लेकिन ठेंगा की ट्रेनिंग देहरादून में हुई है। 9 नवंबर को पुलिस लाइन में हुई स्थापना दिवस परेड में ठेंगा अपनी काबिलियत का प्रदर्शन भी कर चुका है।

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना