देश

--Advertisement--

कार्रवाई / कार्ति चिदम्बरम की देश-विदेश में मौजूद 54 करोड़ की संपत्ति जब्त, राघव बहल के घर-दफ्तर पर छापे



पूर्व केंद्रीय मंत्री पी. चिदम्बरम के बेटे हैं कार्ति। (फाइल) पूर्व केंद्रीय मंत्री पी. चिदम्बरम के बेटे हैं कार्ति। (फाइल)
राघव बहल पर टैक्स चोरी का आरोप है। (फाइल) राघव बहल पर टैक्स चोरी का आरोप है। (फाइल)
ईडी ने बार्सिलोना स्थित टेनिस क्लब भी सीज किया। ईडी ने बार्सिलोना स्थित टेनिस क्लब भी सीज किया।
यूके स्थित घर भी जब्त किया गया। यूके स्थित घर भी जब्त किया गया।
कार्ति और उनकी कंपनी एएससीपीएल से संबंधित सभी संपत्तियां जब्त की गईं। कार्ति और उनकी कंपनी एएससीपीएल से संबंधित सभी संपत्तियां जब्त की गईं।
X
पूर्व केंद्रीय मंत्री पी. चिदम्बरम के बेटे हैं कार्ति। (फाइल)पूर्व केंद्रीय मंत्री पी. चिदम्बरम के बेटे हैं कार्ति। (फाइल)
राघव बहल पर टैक्स चोरी का आरोप है। (फाइल)राघव बहल पर टैक्स चोरी का आरोप है। (फाइल)
ईडी ने बार्सिलोना स्थित टेनिस क्लब भी सीज किया।ईडी ने बार्सिलोना स्थित टेनिस क्लब भी सीज किया।
यूके स्थित घर भी जब्त किया गया।यूके स्थित घर भी जब्त किया गया।
कार्ति और उनकी कंपनी एएससीपीएल से संबंधित सभी संपत्तियां जब्त की गईं।कार्ति और उनकी कंपनी एएससीपीएल से संबंधित सभी संपत्तियां जब्त की गईं।
  • भारत के अलावा यूनाइटेड किंगडम और स्पेन में भी है कार्ति की संपत्ति
  • कार्ति पर एक कंपनी के पक्ष में आदेश दिलाने के एवज में रिश्वत लेने का आरोप
  • एक मीडिया ग्रुप के को-फाउंडर राघव बहल पर टैक्स चोरी का आरोप

Dainik Bhaskar

Oct 11, 2018, 02:06 PM IST

नई दिल्ली. प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने गुरुवार को कार्ति चिदम्बरम की 54 करोड़ रुपए की संपत्ति जब्त की। वहीं, टैक्स चोरी के आरोप में आयकर विभाग ने एक मीडिया ग्रुप के को-फाउंडर राघव बहल के नोएडा स्थित घर और दफ्तर पर छापा मारा।

 

पीटीआई के मुताबिक, गुरुवार सुबह आयकर विभाग की टीम बहल के नोएडा स्थित घर पर पहुंची। इस दौरान मामले से जुड़े दस्तावेजों और सबूतों की जांच की गई। साथ ही, पूरे परिसर की तलाशी भी ली गई। 

 

पी. चिदम्बरम के बेटे हैं कार्ति : कार्ति की ये प्रॉपर्टी भारत, यूके और स्पेन में मौजूद हैं। कार्ति कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और पूर्व केंद्र मंत्री पी. चिदम्बरम के बेटे हैं। उन पर आईएनएक्स मीडिया को 300 करोड़ रुपए के विदेशी निवेश की अनुमति दिलाने के लिए 10 लाख रुपए की रिश्वत लेने का आरोप है। जांचकर्ताओं का कहना है कि इसके लिए कार्ति ने अपने पिता के प्रभाव का इस्तेमाल किया था, जो उस वक्त यूपीए सरकार में वित्त मंत्री थे। 
 

--Advertisement--
Click to listen..