रांची / एचईसी में बने मोबाइल लाॅन्चिंग पैड से भेजा जाएगा इसरो का चंद्रयान-2



ISRO's Chandrayaan-2 will be sent from mobile launching pad made in HEC
X
ISRO's Chandrayaan-2 will be sent from mobile launching pad made in HEC

  • भारत के इस दूसरे चंद्र अभियान में 13 पेलाेड हाेंगे और अमेरिकी अंतरिक्ष नासा का भी एक उपकरण
  • इस अंतरिक्ष यान का वजन 318 टन हाेगा, रक्षा मंत्रालय और इसरो इसे पहले ही बता चुके हैं बेहतर

Dainik Bhaskar

May 18, 2019, 05:39 AM IST

रांची. भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसराे) ने 9 से 16 जुलाई के बीच चंद्रयान-2 काे भेजने के लिए सारे मॉड्यूल तैयार कर लिए हैं। भारत के इस दूसरे चंद्र अभियान में 13 पेलाेड हाेंगे और अमेरिकी अंतरिक्ष नासा का भी एक उपकरण हाेगा। इस अंतरिक्ष यान का वजन 318 टन हाेगा। यह अंतरिक्ष यान भी एचईसी द्वारा निर्मित मोबाइल लाॅन्चिंग पैड से ही रवाना हाेगा।

 

इसके पहले भी चंद्रयान-1 एचईसी द्वारा बनाए गए मोबाइल लाॅन्चिंग पैड से ही भेजा गया था। इसरो ने चंद्रयान-2 काे भेजने की तैयारी शुरू कर दी है। इस यान में 13 भारतीय पेलाेड, आरबिटर पर आठ, लैडर पर तीन और राेवर पर दाे पेलाेड और नासा का एक पैसिव एक्सपेरीमेंट (उपकरण) हाेगा। अमेरिकी एजेंसी इस मॉड्यूल के जरिए धरती और चांद की दूरी काे नापने का काम करेगी। इसरो के वैज्ञानिक एचईसी द्वारा निर्मित मोबाइल लाॅन्चिंग पैड काे पहले ही सर्वश्रेष्ठ बता चुके हैं। 


चुनाैती भरा था काम 
एचईसी के एक वरीय अधिकारी ने बताया कि इसरो को जिन उपकरणों की आपूर्ति की गई, उन सभी का निर्माण, आपूर्ति और इंस्टॉलेशन काफी चुनौती भरा था। हर स्टेप पर गुणवत्ता बनाए रखने में काफी मशक्कत की गई। इसरो ने जांच के बाद गुणवत्ता पर संतुष्टि जताई।

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना