• Hindi News
  • National
  • Jammu and Kashmir news updates: under 'Beti Bachao Beti Padhao,' Scheme Rajouri Administration launched six pink vehicle

कश्मीर / महिलाओं-छात्राओं के लिए 6 पिंक वैन लॉन्च, पब्लिक ट्रांसपोर्ट की परेशानी से निजात दिलाने की पहल



राजौरी जिला प्रशासन में गुलाबी गाड़ियां लॉन्च की गई। राजौरी जिला प्रशासन में गुलाबी गाड़ियां लॉन्च की गई।
गुलाबी गाड़ियों से छात्राओं को दिक्कतों का सामना नहीं करना पड़ेगा। गुलाबी गाड़ियों से छात्राओं को दिक्कतों का सामना नहीं करना पड़ेगा।
X
राजौरी जिला प्रशासन में गुलाबी गाड़ियां लॉन्च की गई।राजौरी जिला प्रशासन में गुलाबी गाड़ियां लॉन्च की गई।
गुलाबी गाड़ियों से छात्राओं को दिक्कतों का सामना नहीं करना पड़ेगा।गुलाबी गाड़ियों से छात्राओं को दिक्कतों का सामना नहीं करना पड़ेगा।

  • विकास आयुक्त एजाज असद ने बताया कि यातायात विभाग ने हाल ही में एक सर्वे करवाया था
  • सर्वे के मुताबिक, छात्राओं को पब्लिक ट्रांसपोर्ट की गाड़ियों में दिक्कतों का सामना करना पड़ता था
  • राजौरी जिला प्रशासन और मोटर व्हीकल डिपार्टमेंट ने संयुक्त तौर पर यह कदम उठाया

Dainik Bhaskar

Oct 12, 2019, 09:40 AM IST

श्रीनगर. इंटरनेशनल गर्ल चाइल्ड डे पर शुक्रवार को जम्मू-कश्मीर के राजौरी जिले में 6 गुलाबी गाड़ियां लॉन्च की गई। इसका मकसद महिलाओं और छात्राओं को सार्वजनिक यातायात की गाड़ियों में भीड़ से होने वाली परेशानियों से निजात दिलाना है। राजौरी के जिला विकास आयुक्त मोहम्मद एजाज असद ने बताया कि ट्रांसपोर्ट विभाग के द्वारा हाल ही में एक सर्वे करवाया गया था।

 

उन्होंने बताया कि सर्वे में यह बात सामने आई थी कि महिलाओं और छात्राओं को पब्लिक ट्रांसपोर्ट गाड़ियों में सफर के दौरान भीड़ के चलते कई दिक्कतों का सामना करना पड़ता है। इसी बात को ध्यान में रखते हुए ‘बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ’ योजना के तहत यह कदम उठाया गया है।

 

सुबह आठ बजे से रात साढ़े आठ बजे तक चलेंगी गाड़ियां

असद ने बताया कि पिंक गाड़ियां सुबह आठ बजे से रात साढ़े आठ बजे तक चलेगी। आठ सीटों वाली छह गाड़ियां ओल्ड बस स्टैंड से मेडिकल कॉलेज (जीएमसी) और एएच डिग्री कॉलेज, नए बस स्टैंड से जीएमसी और डिग्री कॉलेज और ओल्ड बस स्टैंड से खांडली इलाके तक चलेंगी। इन रूटों का चयन सर्वे के आधार पर किया गया है। 

 

पहली बार 11 अक्टूबर 2012 को मनाया गया था गर्ल चाइल्ड डे

इंटरनेशनल गर्ल चाइल्ड डे पहली बार 11 अक्टूबर 2012 में मनाया गया था। संयुक्त राष्ट्र ने इसकी घोषणा की थी। इस दिन को डे ऑफ गर्ल्स या इंटरनेशनल डे ऑफ द गर्ल्स भी कहा जाता है। इस दिन को मनाए जाने का उद्देश्य लड़कियों के लिए समाज में समान अवसर मुहैया करवाने के साथ लिंगानुपात के संतुलन के लिए प्रयास करना भी है।

 

DBApp

 

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना