• Hindi News
  • National
  • Terrorist Riyaz Naikoo Death | Riyaz Naikoo Encounter | Jammu Kashmir Indian Army Encounter In Pulwama Updates; Hizbul Mujahideen Commander Riyaz Naiku Killed

कश्मीर का मोस्ट वांटेड ढेर:पुलिस को तीन दिन से पता था इलाके में है नायकू, दिन-रात छानबीन चल रही थी; एनकाउंटर के बाद हजारों लोग घरों से निकले, घाटी में मोबाइल इंटरनेट बंद

श्रीनगर2 वर्ष पहलेलेखक: जफर इकबाल
यह पहला मौका नहीं था, जब नायकू (हाथ में बंदूक लिए हुए) को सेना ने घेरा था। इससे पहले वह कई बार बीच एनकाउंटर में घेराबंदी से बचकर निकल चुका था। (फाइल फोटो)
  • सुरक्षाबलों ने मंगलवार से घर को घेर रखा था, आसपास के कई खेत और रेलवे ट्रैक खोदकर सुरंगें ढूंढी थीं
  • मैथ्स टीचर से आतंकी कमांडर बना नायकू बीमार मां से मिलने पुलवामा के गांव आया था
  • इस मोस्ट वॉन्टेड आतंकी के मारे जाने के बाद पूरे कश्मीर में मोबाइल इंटरनेट बंद किया गया

कश्मीर में सुरक्षा बलों ने बुधवार को आतंकी संगठन हिजबुल मुजाहिदीन के टॉप कमांडर रियाज नायकू मारा गिराया है। वह दो साल से मोस्ट वॉन्टेड लिस्ट में शामिल था। वह अपनी बीमार मां से मिलने पुलवामा के गांव बेगपोरा आया था। नायकू का मारा जाना सुरक्षा बलों की बड़ी कामयाबी है। पुलिस को इस गांव में नायकू और उसके कुछ साथियों की मौजूदगी का इनपुट मिला था। सुरक्षाबलों ने नायकू के शव को परिवार के पांच लोगों के सामने सोनमर्ग के उस कब्रिस्तान में दफना दिया, जहां इन दिनों आतंकियों के शव दफनाए जाते हैं।

नायकू के मरने की खबर आई ही थी कि हजारों लोग सड़कों पर निकल आए और पथरबाजी करने लगे। हालांकि बाद में पुलिस ने बेकाबू भीड़ पर काबू पा लिया है। एहतियात के तौर पर कश्मीर घाटी में मोबाइल इंटरनेट और बीएसएनएल के अलावा सभी फोन पर वाइस कॉल बंद कर दिए हैं।  

कैसे अंजाम दिया: 3 दिन से पता था इसी इलाके में है नायकू

  • पुलिस को इंटेलिजेंस के जरिए एक इलाके में नायकू के छिपे होने की खबर मिली थी। यह खबर ह्यूमन इंटेलिजेंस से नहीं, बल्कि टेक्निकल इंटेलिजेंस से मिली थी। कहा जा रहा है नायकू के सैटेलाइट फोन को पुलिस ने ट्रैक किया था।
  • 3 दिन से पुलिस को पता था कि वह इसी इलाके में हैं। एक इलाके को पुलिस ने मार्क किया था और घरों की तलाशी ली जा रही थी। इस तलाशी में पुलिस के हाथ कुछ भी नहीं लगा।
  • इसी बीच पुलिस जेसीबी और बुलडोजर लेकर आई और इलाके में खुदाई की। ताकि किसी सुरंग का पता चल जाए। उसमें भी पुलिस को असफलता ही मिली। हालांकि पुलिस ये सब सिर्फ ध्यान भटकाने के लिए कर रही थी।
  • बुधवार सुबह पुलिस ने एक घर की तलाशी लेना शुरू की। ये रियाज के रिश्तेदार का ही था। इस घर का एंट्रेंस ढंका हुआ था पुलिस ने नीचे के दो फ्लोर की तलाशी ली जहां कुछ हाथ नहीं लगा। लेकिन तभी रियाज ने फायरिंग शुरू कर दी। फायरिंग शुरू होते ही नायकू के साथ मौजूद दूसरा आतंकी आदिल भाग कर पड़ोस के घर में चला गया।
  • पुलिस ने उस घर को 40 किलो विस्फोटक लगाकर उड़ा दिया। हालांकि रियाज पहले घर से ही फायरिंग करता था। सुरक्षाबलों ने बाद में इस दूसरे घर में भी विस्फोट कर दिया। पुलिस को इस घर से एके47 राइफल, ग्रेनेड और भारी मात्रा में विस्फोटक मिले हैं। रियाज का शव परिवार वालों ने पहचान लिया है।

उमर ने कहा- नायकू का भविष्य तभी तय हो गया था, जब उसने बंदूक उठाई

नेशनल कॉन्फ्रेंस के नेता उमर अब्दुल्ला ने नायकू के एनकाउंटर पर ट्वीट किया। उन्होंने कहा- रियाज नायकू का भविष्य तभी तय हो गया था, जिस वक्त उसने बंदूक उठाई थी और आंतकवाद का रास्ता चुना था।

सेना ने कहा- हम आतंकियों के नाम नहीं बताएंगे
आर्मी के प्रवक्ता कर्नल अमन आनंद के मुताबिक ‘सेना पुलवामा में मारे गए आतंकियों के नाम जाहिर नहीं करेगी, क्योंकि असली हीरो आतंकी को मारने वाले हैं। हम आतंकियों के नाम इसलिए नहीं बताएंगे ताकि उनका महिमामंडन न हो।’ हालांकि, सीआरपीएफ और जम्मू-कश्मीर पुलिस ने नायकू के नाम का खुलासा कर दिया।

नायकू पर 12 लाख रुपए का इनाम था
रियाज नायकू कश्मीर में सबसे ज्यादा समय तक सक्रिय रहने वाला आतंकी था। वह हिजबुल मुजाहिद्दीन के लिए काम करता था। उसे मोस्ट वॉन्टेड आतंकियों की ए++ कैटेगरी में रखा गया था। उस पर 12 लाख रुपए का इनाम भी था। वह कई पुलिसकर्मियों की किडनैपिंग और उनके मर्डर में शामिल था।

मंगलवार रात एक बजे बेगपोरा गांव में सर्च ऑपरेशन तो बंद कर दिया, लेकिन घेराबंदी नहीं हटाई गई। सुबह 9 बजे आतंकी रियाज ने गोलीबारी शुरू कर दी। इसके बाद वह मारा गया। (फोटो: आबिद बट)
मंगलवार रात एक बजे बेगपोरा गांव में सर्च ऑपरेशन तो बंद कर दिया, लेकिन घेराबंदी नहीं हटाई गई। सुबह 9 बजे आतंकी रियाज ने गोलीबारी शुरू कर दी। इसके बाद वह मारा गया। (फोटो: आबिद बट)
खबरें और भी हैं...