कश्मीर में ISIS लोन वूल्फ अटैक का VIDEO:ट्रैफिक पुलिस के जवान पर हमले की जिम्मेदारी ली, हमलावर ने खुद शूट किया था वीडियो

2 महीने पहले

कुख्यात आतंकी संगठन ISIS ने कश्मीर के राजौरी में दो दिन पहले ट्रैफिक पुलिस के एक जवान को गोली मारने की जिम्मेदारी ली है। जिम्मेदारी लेने के लिए ISIS ने एक खौफनाक वीडियो जारी किया है।

20 सेकेंड के इस वीडियो में दिख रहा है कि जवान गाड़ियों से भरी सड़क पर ट्रैफिक संभाल रहा है। इसी दौरान हाथ में पिस्टल लिए पीछे से एक आतंकी आता है और उसके सिर में गोली मार देता है। इससे जवान सड़क पर गिर जाता है। तब आतंकी दूसरा फायर करता है। फायरिंग करते हुए आतंकी धार्मिक नारे लगाता है। यह वीडियो हमलावर ने खुद ही शूट किया है।

हमले के इस तरीके को लोन वूल्फ अटैक कहा जाता है। इसमें हमलावर अकेले और दबे पांव आकर अचानक हमला करता है। इसके बाद भीड़ में खो जाता है।

सेना को बड़ी कामयाबी, जम्मू-कश्मीर के कुलगाम में 2 एनकाउंटर में 5 आतंकी ढेर

फोटो में दिख रहे जवान को ही आतंकी ने निशाना बनाया था। उसकी हालत गंभीर बनी हुई है।
फोटो में दिख रहे जवान को ही आतंकी ने निशाना बनाया था। उसकी हालत गंभीर बनी हुई है।

यह हमला बुधवार को राजौरी के कदल एरिया हुआ था। अब ISIS ने इसकी जिम्मेदारी ली है। जवान की हालत अभी गंभीर है और श्रीनगर के SMHS हॉस्पिटल में उसका इलाज चल रहा है। बताया जाता है कि इस हमले में जिस पिस्टल का इस्तेमाल हुआ था, उसी से अक्टूबर में एक गैर कश्मीरी स्ट्रीट वेंडर की हत्या की गई थी।

2 दिन पहले सुरक्षाबलों ने जैश के टॉप कमांडर सहित 2 टेररिस्ट मार गिराए

आतंकी पीछे से आया और सिर को निशाना बनाकर गोली चला दी।
आतंकी पीछे से आया और सिर को निशाना बनाकर गोली चला दी।

कश्मीर में बढ़ी आतंकी गतिविधियां, सुरक्षा बल भी मुस्तैद
सुरक्षा बलों ने गुरुवार को ही जम्मू-कश्मीर के बारामूला जिले में लश्कर-ए-तैयबा के एक आतंकी मॉड्यूल का भंडाफोड़ किया था। यहां से तीन आतंकियों को गिरफ्तार किया गया था। पुलिस ने सेना और SSB के साथ मिलकर पट्टन इलाके के वुसन में इन आतंकियों को भागते हुए पकड़ा।

जम्मू-कश्मीर के बारामूला में लश्कर के आतंकी मॉड्यूल का भंडाफोड़, 3 दहशतगर्द गिरफ्तार

आतंकियों की पहचान पड़ोसी बांदीपोरा जिले के गुंड जहांगीर के रहने वाले आसिफ अहमद रेशी, मेहराजुद्दीन डार और फैसल हबीब लोन के रूप में हुई है। सुरक्षा बलों ने बताया कि जांच के दौरान पता चला है कि तीनों आतंकी स्लीपर सेल के तौर पर काम करते हैं। इसी साल 17 नवंबर को पलहलान में हुए ग्रेनेड हमले में भी ये शामिल थे। इनकी निशानदेही पर दो ग्रेनेड भी बरामद किए गए हैं।

आम लोगों को भी निशाना बना रहे आतंकी
कश्मीर में पिछले कुछ महीनों में आतंकी कई आम लोगों की हत्या कर चुके हैं। इनमें श्रीनगर में एक कश्मीरी पंडित दवा कारोबारी, एक कश्मीरी पंडित टीचर, सिख समुदाय की महिला प्रिंसिपल, बिहार का एक स्ट्रीट वेंडर और बांदीपोरा का एक नागरिक शामिल है।

खबरें और भी हैं...