जम्मू-कश्मीर टनल हादसा:रामबन में मलबे से सभी 10 मजदूरों के शव निकाले गए, कंस्ट्रक्शन कंपनी पर FIR दर्ज

श्रीनगर/जम्मूएक महीने पहले

जम्मू-कश्मीर टनल हादसे में शनिवार शाम मलबे में दबे सभी 10 मजदूरों के शव निकाल लिए गए। गुरुवार रात 11 बजे रामबन जिले के खूनी नाले के पास बन रही टनल का एक हिस्सा धंस गया था। मलबे में 12 मजदूर फंस गए थे। हालांकि, उस दौरान दो घायलों को निकाल लिया गया था। इनमें पश्चिम बंगाल से 5, असम से 1, नेपाल से 2 और 2 स्थानीय मजदूर थे।

इसके बाद शुक्रवार शाम को रेस्क्यू के दौरान 1 मजदूर का शव निकाला गया था। 20 मई को ही शाम करीब साढ़े 5 बजे रेस्क्यू के दौरान तेज आंधी और एक बार फिर से लैंड स्लाइड हुआ और निर्माणाधीन टनल का हिस्सा 24 घंटे में दूसरी बार धंस गया। हालांकि, इस बार कोई मजदूर या कर्मचारी तो नहीं फंसा, लेकिन रेस्क्यू में लगीं मशीनें दब गईं।

शनिवार सुबह करीब साढ़े 5 बजे दोबारा रेस्क्यू शुरू किया गया। शाम तक मलबे में दबे सभी 10 मजदूरों के शव निकाल लिए गए।

इस खबर को आगे पढ़ने से पहले नीचे दिए गए पोल में हिस्सा लेकर अपनी राय दें....

रेस्क्यू के दौरान टनल के बाहर दोबारा लैंडस्लाइड हुआ
रामबन जिले और रामसू के बीच नेशनल हाईवे पर गुरुवार रात निर्माणाधीन टनल का हिस्सा ढह गया। हादसे में 12 मजदूर मलबे में फंस गए। इनमें से दो को बाहर निकाल लिया गया। शुक्रवार रात को रेस्क्यू ऑपरेशन के बीच टनल के बाहर फिर से लैंडस्लाइड हो गया। जिसके बाद रेस्क्यू रोक दिया गया था।

शनिवार सुबह फिर रेस्क्यू का काम शुरू किया गया।
शनिवार सुबह फिर रेस्क्यू का काम शुरू किया गया।

बचाव कार्य हुआ बाधित
रामबन के डिप्टी कमिश्नर मसर्रतुल इस्लाम के मुताबिक, फिर से हुए लैंडस्लाइड और तेज आंधी की वजह से बचाव कार्य में बाधा आई है। भूस्खलन के कारण गिरी पहाड़ी के मलबे में दो मशीनें दब गई हैं। इससे बचाव कार्य और बाधित हुआ है।

हादसे में सुरंग के सामने खड़े वाहनों और मशीनों को भी नुकसान पहुंचा है।
हादसे में सुरंग के सामने खड़े वाहनों और मशीनों को भी नुकसान पहुंचा है।

खूनी नाले पर हुआ हादसा
टनल धंसने का हादसा गुरुवार रात करीब 11 बजे रामबन जिले के मेकरकोट इलाके में जम्मू-श्रीनगर नेशनल हाईवे के पास खूनी नाले पर हुआ। जानकारी के मुताबिक, टनल के ढहने के तुरंत बाद पुलिस और सेना ने एक संयुक्त बचाव अभियान शुरू कर दिया था। इस हादसे में सुरंग के सामने खड़े वाहनों बुलडोजर, ट्रकों सहित कई मशीनों को भी नुकसान पहुंचा है।

रेस्क्यू के दौरान मजदूरों के निकलने का इंतजार करते लोग।
रेस्क्यू के दौरान मजदूरों के निकलने का इंतजार करते लोग।

मलबे में दबे मजदूर
मलबे में दबे मजदूरों में 5 पश्चिम बंगाल, दो नेपाल, एक असम और दो जम्मू-कश्मीर के निवासी थे। इनमें जादव रॉय (23), गौतम रॉय (22), सुधीर रॉय (31), दीपक रॉय (33), परिमल रॉय (38) निवासी पश्चिम बंगाल, नवाज चौधरी (26), कुशी राम (25) निवासी, शिव चौहान (26) निवासी असम, मुजफ्फर (38), इसरत (30) निवासी जम्मू-कश्मीर शामिल हैं। वहीं, रेस्क्यू किए गए मजदूरों में विष्णु गोला (33) निवासी झारखंड और अमीन (26) निवासी जम्मू-कश्मीर शामिल हैं।