--Advertisement--

कश्मीर / 13 साल बाद घाटी में निकाय चुनाव; पहले चरण की वोटिंग खत्म, 63.83% मतदान हुआ



पहले चरण में 46 मतदान केंद्रों को अति संवेदनशील घोषित किया गया। पहले चरण में 46 मतदान केंद्रों को अति संवेदनशील घोषित किया गया।
शहरी स्थानीय निकाय चुनाव 8-16 अक्टूबर तक चार चरणों में होने हैं। शहरी स्थानीय निकाय चुनाव 8-16 अक्टूबर तक चार चरणों में होने हैं।
राज्य के 1145 वॉर्ड में करीब 17 लाख मतदाता। राज्य के 1145 वॉर्ड में करीब 17 लाख मतदाता।
आतंकी धमकियों को देखते हुए भारी संख्या में पुलिस बल तैनात किया गया। आतंकी धमकियों को देखते हुए भारी संख्या में पुलिस बल तैनात किया गया।
35ए हटाने की कोशिशों की वजह से नेशनल कॉन्फ्रेंस और पीडीपी ने चुनावों का बहिष्कार किया। 35ए हटाने की कोशिशों की वजह से नेशनल कॉन्फ्रेंस और पीडीपी ने चुनावों का बहिष्कार किया।
जम्मू नगर निगम में 75 वार्ड हैं, यहां 447 उम्मीदवारों ने नामांकन भरा। जम्मू नगर निगम में 75 वार्ड हैं, यहां 447 उम्मीदवारों ने नामांकन भरा।
इन चुनावों के विरोध को देखते हुए अलर्ट जारी किया गया है। इन चुनावों के विरोध को देखते हुए अलर्ट जारी किया गया है।
जम्मू में 534 वार्डों के लिए 2136 उम्मीदवार मैदान में। जम्मू में 534 वार्डों के लिए 2136 उम्मीदवार मैदान में।
पहले चरण में 46 मतदान केंद्रों को अति संवेदनशील घोषित किया गया। पहले चरण में 46 मतदान केंद्रों को अति संवेदनशील घोषित किया गया।
केंद्रीय मंत्री जितेंद्र सिंह ने जम्मू में वोट डाला। केंद्रीय मंत्री जितेंद्र सिंह ने जम्मू में वोट डाला।
पूर्व उप-मुख्यमंत्री कवींद्र गुप्ता ने भी जम्मू में वोट डाला। पूर्व उप-मुख्यमंत्री कवींद्र गुप्ता ने भी जम्मू में वोट डाला।
X
पहले चरण में 46 मतदान केंद्रों को अति संवेदनशील घोषित किया गया।पहले चरण में 46 मतदान केंद्रों को अति संवेदनशील घोषित किया गया।
शहरी स्थानीय निकाय चुनाव 8-16 अक्टूबर तक चार चरणों में होने हैं।शहरी स्थानीय निकाय चुनाव 8-16 अक्टूबर तक चार चरणों में होने हैं।
राज्य के 1145 वॉर्ड में करीब 17 लाख मतदाता।राज्य के 1145 वॉर्ड में करीब 17 लाख मतदाता।
आतंकी धमकियों को देखते हुए भारी संख्या में पुलिस बल तैनात किया गया।आतंकी धमकियों को देखते हुए भारी संख्या में पुलिस बल तैनात किया गया।
35ए हटाने की कोशिशों की वजह से नेशनल कॉन्फ्रेंस और पीडीपी ने चुनावों का बहिष्कार किया।35ए हटाने की कोशिशों की वजह से नेशनल कॉन्फ्रेंस और पीडीपी ने चुनावों का बहिष्कार किया।
जम्मू नगर निगम में 75 वार्ड हैं, यहां 447 उम्मीदवारों ने नामांकन भरा।जम्मू नगर निगम में 75 वार्ड हैं, यहां 447 उम्मीदवारों ने नामांकन भरा।
इन चुनावों के विरोध को देखते हुए अलर्ट जारी किया गया है।इन चुनावों के विरोध को देखते हुए अलर्ट जारी किया गया है।
जम्मू में 534 वार्डों के लिए 2136 उम्मीदवार मैदान में।जम्मू में 534 वार्डों के लिए 2136 उम्मीदवार मैदान में।
पहले चरण में 46 मतदान केंद्रों को अति संवेदनशील घोषित किया गया।पहले चरण में 46 मतदान केंद्रों को अति संवेदनशील घोषित किया गया।
केंद्रीय मंत्री जितेंद्र सिंह ने जम्मू में वोट डाला।केंद्रीय मंत्री जितेंद्र सिंह ने जम्मू में वोट डाला।
पूर्व उप-मुख्यमंत्री कवींद्र गुप्ता ने भी जम्मू में वोट डाला।पूर्व उप-मुख्यमंत्री कवींद्र गुप्ता ने भी जम्मू में वोट डाला।

  • राज्य के 1145 वॉर्डों में 4 चरणों में चुनाव, 20 अक्टूबर को नतीजे 
  • नेशनल कॉन्फ्रेंस और पीडीपी ने चुनावों का किया बहिष्कार
  • घाटी के 10% वार्डों में भाजपा के निर्विरोध जीतने का दावा

Dainik Bhaskar

Oct 08, 2018, 06:49 PM IST

श्रीनगर. जम्मू-कश्मीर में 13 साल बाद सोमवार को शहरी स्थानीय निकाय चुनावों के पहले चरण के लिए मतदान हुआ। चुनाव आयोग ने बताया कि 11 जिलों में हुए मतदान में शाम 4 बजे तक 63.83% मतदान हुआ है। सबसे ज्यादा मतदान करगिल में 78 फीसदी हुआ। इसके अलावा राजौरी में 76.9%, पुंछ में 70.9%, जम्मू में 60.6%, लेह में 52%, कुपवाड़ा में 36.6%, अनंतनाग में 7.3%, बड़गाम में 17% और बारामूला में 5.7%, बांदीपोरा में 3.3% वोट पड़े।

4.42 लाख से अधिक मतदाता वोट डालेंगे

  1. पहले चरण में 1,283 उम्मीदवार मैदान में हैं। इस चरण में जम्मू के 247 वार्ड, कश्मीर में 149 और लद्दाख के 26 वार्ड में वोटिंग हुई।इसके बाद 10 अक्टूबर को दूसरे चरण में 384 वार्ड, तीसरे चरण में 13 अक्टूबर को 207 वार्ड और 16 अक्टूबर को आखिरी चरण में 132 वार्डों में वोट डाले जाएंगे।

  2. जम्मू नगर निगम में 505 और निकाय समितियों में 79 मतदान केंद्र बनाए गए थे। 5.86 लाख से अधिक वोटर थे। जम्मू नगर निगम में 505 और निकाय समितियों में 79 मतदान केंद्र बनाए गए थे। यहां पहली बार ईवीएम से वोटिंग हुई। नतीजे 20 अक्टूबर को आएंगे।

  3. इससे पहले राज्य में 2005 में निकाय चुनाव हुए थे। पहले चरण में 46 मतदान केंद्रों को अति संवेदनशील घोषित किया गया। इन क्षेत्रों में भारी संख्या में पुलिस और सुरक्षाबलों के जवानों को तैनात किया गया है। मतदान शाम चार बजे तक हुआ।

  4. जम्मू में 534 वार्डों के लिए 2137 उम्मीदवार मैदान में हैं। जम्मू नगर निगम में 75 वार्ड हैं, यहां 447 उम्मीदवारों ने नामांकन भरा। वहीं, सात निकाय समितियों से 294 उम्मीदवारों ने नामांकन दाखिल किए।

  5. जम्मू-कश्मीर में 1145 वॉर्ड 

    जम्मू-कश्मीर में शहरी स्थानीय निकाय चुनाव 8-16 अक्टूबर तक चार चरणों में होने हैं। जम्मू और श्रीनगर नगर निगमों समेत राज्य में कुल 1,145 वार्डों के लिए चार चरणों में होने वाले चुनाव के लिए 2,990 उम्मीदवार हैं। जम्मू क्षेत्र से  2,137, श्रीनगर से 787 और लद्दाख क्षेत्र से 66 उम्मीदवार मैदान में हैं। करीब 17 लाख मतदाता वोट डालेंगे। 

  6. अनुच्छेद 35ए हटाने की कोशिशों का विरोध

    नेशनल कॉन्फ्रेंस और पीपुल्स डेमोक्रेटिक पार्टी (पीडीपी) ने इन चुनावों में अपने उम्मीदवार नहीं उतारे हैं। दोनों पार्टियों ने अनुच्छेद 35ए को लेकर चुनाव का बहिष्कार किया। वहीं, भाजपा और कांग्रेस ने ज्यादातर सीटों पर अपने प्रत्याशी उतारे हैं।

  7. चुनाव के बहिष्कार की वजह से घाटी में 150 वार्डों में एक भी नामांकन नहीं भरा गया। इसका सीधा फायदा भाजपा को मिला। पार्टी के एक नेता ने दावा किया कि घाटी के कुल 624 वार्डों में से 60 से ज्यादा पर भाजपा उम्मीदवार निर्विरोध जीत चुके हैं। विधानसभा चुनाव में पार्टी इन इलाकों में खाता भी नहीं खोल सकी थी। 

  8. ट्रेन-बस और इंटरनेट सेवा रोकी

    निकाय चुनाव को लेकर अलगाववादियों ने कश्मीर घाटी में हड़ताल का ऐलान किया है। ऐसे में घाटी में सभी ट्रेन सेवाएं स्थगित कर दी गईं। वहीं, कारवां-ए-अमन बस सेवा भी सुरक्षा कारणों से स्थगित कर दी गई। इसके अलावा कुछ इलाकों में इंटरनेट सेवा रोक दी गई। कई इलाकों में इंटरनेट की स्पीड कम की गई है। 

Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..